धर्म/ संस्कृति

अटूट आस्था व श्रद्धा के लिए विश्व विख्यात सराहन का "भीमाकाली मन्दिर"

अटूट आस्था व श्रद्धा का केंद्र सराहन का “भीमाकाली मन्दिर”

हिमाचल जिसे देवभूमि के नाम से जाना जाता है। यहां बहुत से प्राचीन मंदिर हैं। हर मंदिर की अपनी खास महत्ता है। उन्हीं में से एक विश्वभर में प्रसिद्ध है सराहन का “भीमाकाली मन्दिर”। जहां इस...

ज्योतां जगदियां ज्वालामुखी...... अठारह महाशक्ति पीठों में से एक कांगड़ा का ''ज्वालामुखी मन्दिर''

ज्योतां जगदियां ज्वालामुखी…… अठारह महाशक्ति पीठों में से एक कांगड़ा का ”ज्वालामुखी मन्दिर”

पांडवों को जाता है ज्वालामुखी मंदिर खोजने का श्रेय हिमाचल प्रदेश में कांगड़ा से 30 किलोमीटर दूर स्थित है ज्वालामुखी देवी। ज्वालामुखी मंदिर को ज्योतां वाली का मंदिर और नगरकोट भी कहा जाता है।...

पैगोड़ा और शिखरनुमा शैली में बना "माँ हाटकोटी मंदिर"

अपार शांति व अद्भूत शक्ति की अनुभूति होती है “माँ हाटकोटी” के दरबार में

हिमाचल के विख्‍यात मन्दिरों में से एक “माँ हाटकोटी” मंदिर का शीर्ष भाग पत्थर की स्लेट की ढलानदार छत से आच्छादित हाटकोटी को अर्जित है ‘पत्थर के मंदिरों की घाटी’ का खिताब हिमाचल जिसे...

शारदीय नवरात्रि में इन राशि वालों पर माता रानी की रहेगी विशेष कृपा : आचार्य महेंद्र कृष्ण शर्मा

इस वर्ष शारदीय नवरात्रि की शुरुआत 7 अक्टूबर से हो रही है। मां दुर्गा के 9 रूपों की आराधना का पर्व 15 अक्टूबर को समाप्त होगा। हिंदू धर्म में नवरात्रि का विशेष महत्व है। जातक व्रत रखेंगे और...

नवरात्रि में अखंड ज्योति जलाने से पहले जान लें ये जरूरी नियम : आचार्य महेंद्र कृष्ण शर्मा

नवरात्रि की शुरुआत होते ही कल से सभी मांगलिक कार्य किए जा सकेंगे नवरात्रि में नौ दिन तक मां दुर्गा (9 Days Maa Durga Puja) के अलग-अलग स्वरूप की पूजा होती है. नवरात्रि पूजा की शुरुआत घटस्थापना के साथ की जाती...

नवरात्रि 2021: जानें कलश स्थापना का शुभ मुहुर्त, पूजा विधि और मंत्र : आचार्य महिंद्र कृष्ण शर्मा

नवरात्रि के नौ दिन मां दुर्गा के नौ अलग-अलग स्वरूपों की पूजा अर्चना की जाती है। माता को प्रसन्न करने के लिए भक्त नौ दिनों तक माता की पूजा अर्चना कर व्रत रखते हैं। नवरात्रि कब शुरु हो रहे हैं,...

किन्नौर में विवाह के रीति-रिवाज व प्रथाएं; विवाह-प्रस्ताव स्वीकार होने पर लडक़े के परिवार वालों के माथे पर लगाया जाता है मक्खन का टीका

हिमाचल प्रदेश के किन्नौर में विवाह की रस्म भी विचित्र और अनोखी है। किन्नौर में विवाह को जनतुंग अथवा जनकेंगा कहा जाता है। विवाह पर शराब का सेवन आवश्यक होता है। रिश्ता लडक़े के पिता अथवा मामा...