धर्म/ संस्कृति

वृद्धजनों के सपने होंगे ‘देव भूमि दर्शन’ योजना से साकार

हिमाचल के मन्दिरों की प्राचीन शैली आज भी जीवित

हिमाचल प्रदेश की प्राचीन कलाएं, मंदिरों के वास्तुशिल्प, लकड़ी पर खुदाई, पत्थरों और धातुओं की मूर्तियों तथा चम्बा रूमाल आदि के रूप में आज भी सुरक्षित है। इन कलाओं को तीन मुख्य वर्गों में बांटा...

जब शनिदेव बोले लक्ष्मी जी से “कर्म ही प्रधान है और कर्म का फल भोगने के लिए सभी बाध्य”

समय अनुसार दंड देने का कार्यभार परमात्मा ने मुझे सौंपा है: शनिदेव जो दूसरों को रुलाते और स्वयं हंसते हैं, उन्हें समय अनुसार दंड देने का कार्यभार परमात्मा ने मुझे सौंपा है : शनिदेव     एक बार...

हम कलाई पर लाल रंग का कलावा या मौली बांधते हैं, ..जानें इसका महत्व : कालयोगी आचार्य महेन्द्र कृष्ण शर्मा

मौली बांधने से प्राप्त होगी भगवान ब्रह्मा, विष्णु व महेश व तीनों देवियों- लक्ष्मी, पार्वती एवं सरस्वती की कृपा किसी भी शुभ कार्य की शुरुआत करते समय या नई वस्तु खरीदने पर हम उस पर मौली बांधते...

रामपुर बुशहर में स्थित तिब्बतीयन शैली में निर्मित दुम्ग्युर नामक बौद्ध मंदिर

रामपुर बुशहर में स्थित तिब्बतीयन शैली में निर्मित दुम्ग्युर बौद्ध मंदिर

बुशहर रियासत के टीका रघुनाथ सिंह ने सन 1895 ई. को स्थापित करवाया शिमला जिला के रामपुर उपमंडल में समुद्रतल से 1000 मीटर की ऊंचाई पर बौद्ध मंदिर रामपुर बस स्टैंड के पास स्थित है। रामपुर में तिब्बतीयन...

12 साल में एक बार मनाया जाता है हिमाचल का प्राचीन व रोचक उत्सव "भुण्डा"

हिमाचल का प्राचीन व रोचक उत्सव “भुण्डा”

12 साल में एक बार मनाया जाता है “भुण्डा” स्थानीय लोगों में अपनी धर्म-संस्कृति,परम्परा व रीति-रिवाजों के प्रति बहुत आदर-भाव हिमाचल प्रदेश में जहां देवी-देवताओं को बहुत ही श्रद्धा से पूजा...

door-of-dev-pashakot-temple

चौहार घाटी का प्रसिद्ध देव पशाकोट

देव पशाकोट मंदिर – यह मंदिर टिक्कन पुल के समीप लगभग 1 किलोमीटर दूर स्थित है। देव पशाकोट चौहार घाटी के प्रमुख देवता हैं। लोग यहां पूजा करने, मन्नत मांगने, स्थानीय समस्याओं के परामर्श एवं...

सर्वविख्यात धार्मिक पर्यटन स्थल की नगरी "चंबा"

सर्वविख्यात धार्मिक पर्यटन स्थल की नगरी “चंबा”

रानी चंपावती के नाम पर बसा चंबा प्राचीन संस्कृति और विरासत को संजोए चंबा चंबा भारत के हिमाचल प्रदेश प्रान्त का एक नगर है। हिमाचल प्रदेश का चंबा अपने रमणीय मंदिरों और हैंडीक्राफ्ट के लिए...