ब्लॉग

ऊना: रायपुर-सहोड़ा की घटना के पीड़ित परिवारों से मिले उपायुक्त; हर संभव मदद करने का दिया आश्वासन

 8 से 11 वर्ष के तीन प्रवासी बच्चों की तालाब में डूबने से हो गई थी मृत्यु

ऊना: उपायुक्त जतिन लाल ने आज शुक्रवार को रायपुर-सहोड़ा में हुई दुर्घटना स्थल का दौरा किया और पीड़ित परिवारों से मिलकर अपनी संवेदना जताई तथा प्रशासन की ओर से हर संभव मदद करने का आश्वासन दिया।

उपायुक्त ने बताया कि प्रभावित परिवारों को फौरी राहत प्रदान कर दी गई है। उन्होंने कहा कि रेवेन्यू प्रबंधन सिस्टम के तहत दस्तावेज़ पूर्ण होने पर जो मुआवज़ा बनेगा वो भी प्रभावित परिवारों को प्रदान कर दिया जाएगा। इसके अतिरिक्त उपायुक्त ने संबंधित बीडीओ को जन सुरक्षा की दृष्टि से तालाब के चारों और फैंसिंग लगाने के निर्देश दिए ताकि भविष्य में ऐसी घटनाओं पर अंकुश लगाया जा सके।

बता दें, कि बीते रविवार को रायपुर-सहोड़ां में 8 से 11 वर्ष आयु वर्ग के तीन प्रवासी बच्चों की तालाब में डूबने से मृत्यु हो गई थी। उनकी पहचान उत्तर प्रदेश के सम्भल इलाके के निवासी के तौर पर हुई है जोकि कामकाज़ के सिलसिले में यहां रह रहे थे।

इस अवसर पर तहसीलदार शिखा राणा सहित अन्य अधिकारीगण मौजूद रहे।

वनों को आग से बचाने के लिए स्थानीय निवासियों की जिम्मेदारी तय

हिमाचल प्रदेश ग्राम एवं छोटे शहर गश्त अधिनियम 1964 की धारा 3 के तहत विशेष आदेश जारी किए हैं

आदेश छह माह की अवधि तक लागू रहेंगे

हमीरपुर :  जिला के ग्रामीण क्षेत्रों में बहुमूल्य वन संपदा, अन्य सार्वजनिक संपत्तियों और सुविधाओं को आग की घटनाओं से बचाने के लिए स्थानीय निवासियों की जिम्मेदारी तय की गई है। जिलाधीश अमरजीत सिंह ने इस संबंध में हिमाचल प्रदेश ग्राम एवं छोटे शहर गश्त अधिनियम 1964 की धारा 3 के तहत विशेष आदेश जारी किए हैं।

इन आदेशों के अनुसार ग्रामीण क्षेत्रों में वन संपदा, अन्य सार्वजनिक संपत्तियों और सुविधाओं की रक्षा तथा गश्त एवं निगरानी के लिए जिले के सभी गांवों के सभी सक्षम पुरुष नागरिक उत्तरदायी होंगे। जिलाधीश ने बताया कि ये आदेश छह माह की अवधि तक लागू रहेंगे।

हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में बनाया आत्मनिर्भर: अनुराग ठाकुर

भाजपा की वजह से हुई हिमाचल में कई राष्ट्रीय स्तर के शिक्षण संस्थान की स्थापना: अनुराग ठाकुर

नई दिल्ली: केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण और युवा एवं खेल मामलों के मंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कहा है कि मोदी सरकार के 10 वर्षों में हमीरपुर संसदीय क्षेत्र और हिमाचल प्रदेश एजुकेशन हब के रूप में उभर कर सामने आया है। यह मोदी  का हिमाचल के प्रति प्रेम ही है जिसके कारण आज एक छोटे से पहाड़ी राज्य में लगभग देश के सभी बड़े शैक्षणिक संस्थान हैं। आज हिमाचल के युवाओं को प्रारंभिक शिक्षा से लेकर उच्च शिक्षा अपने ही राज्य में मिल पा रही है।

अनुराग ठाकुर ने कहा कि “अच्छी व सुगम शिक्षा किसी भी राष्ट्र के प्रगति की पहली मूलभूत आवश्यकता है। 2014 के बाद पूरे देश की शैक्षणिक व्यवस्था में उल्लेखनीय परिवर्तन आया है। आदरणीय प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी जी के नेतृत्व में मोदी सरकार लगभग 30 वर्षों बाद नई शिक्षा नीति लाई जिससे हमारे युवाओं को क्षेत्रीय भाषा में पढ़ाई करने का मौका मिला है। इसके कारण आज छोटे शहरों के बच्चे भी ओपिनियन लीडर बन पा रहे हैं”

अनुराग ठाकुर ने आगे बताया, “ अपने हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में छात्रों को अच्छी शिक्षा उपलब्ध कराने के लिए मैं सदा ही प्रयासरत रहा हूँ। केंद्र सरकार के असीम सहयोग से आज मेरे संसदीय क्षेत्र में नादौन व सलोह के साथ नलेटी, घुमारवीं, बंगाणा, धर्मपुर व संधोल को लेकर हमीरपुर में कुल 6 केंद्रीय विद्यालय हो चुके हैं। हमीरपुर संसदीय क्षेत्र में इसी साल फरवरी महीने में प्रधानमंत्री जी ने हमीरपुर लोकसभा के नादौन और स्लोह में दो केंद्रीय विद्यालयों की सौगात दी है जिनमें पांच पांच सौ बच्चे पढ़ सकेंगे। नादौन से ही मात्र 1 घंटे की दूरी पर देहरा में हम केंद्रीय विश्वविद्यालय भी बना रहे हैं। अब हमारे बच्चे अपने घर पर ही केंद्रीय विद्यालय से पढ़कर केंद्रीय विश्वविद्यालय में पढ़ाई कर सकेंगे। हमने ऐसे ही हमीरपुर में एनआईटी और स्लोह में ट्रिपल आईटी भी बनाया है। इसके अलावा आज यहां कई ट्रिपल आईटी भी बनाए गए हैं। हम जल्द हमीरपुर में खेल के क्षेत्र में भी पूरे उत्तर भारत में अपनी तरह का अनोखा नेशनल सेंटर आफ एक्सीलेंस भी बना रहे हैं।”

अनुराग ठाकुर ने आगे बताया, “आज बिलासपुर में 1700 करोड़ की लागत से एम्स अस्पताल और मेडिकल कॉलेज खुल चुका है। बिलासपुर का हाइड्रोइंजीनियरिंग कॉलेज आज राष्ट्रनिर्माण में अपनी सेवाएँ दे रहा है। हमीरपुर में 400 करोड़ की लागत से मेडिकल कॉलेज बना है। 48 करोड़ की लागत से ऊना में नेशनल सेंटर फॉर स्पेशल चाइल्ड ट्रेनिंग इंस्टिट्यूट बन रहा है। हमीरपुर में 550 बेड के अस्पताल के लिए 190 करोड़ की धनराशि स्वीकृत कराकर नई बिल्डिंग का शिलान्यास भी कराया और 100 बच्चों की क्लास भी शुरू कराई है। आईआईएम, एनआईटी, एचपीटीयू से लेकर ट्रिपल आईटी तक के राष्ट्रीय शिक्षण संस्थान आज हिमाचल में भाजपा सरकार की देन है। हिमाचल को मोदी सरकार ने शिक्षा के क्षेत्र में आत्मनिर्भर बनाने का काम किया है ताकि हमारे यहाँ के छात्रों को अच्छी व गुणवत्तापूर्ण शिक्षा के लिए अन्य राज्यों की ओर पलायन ना करना पड़े”

अनुराग ठाकुर ने आगे पूरे देश में शिक्षा के क्षेत्र में आए परिवर्तन को रेखांकित करते हुए बताया, “आज पूरे देश में 10000 से ज्यादा अटल टिंकरिंग लैब कार्यरत हैं। 2014 में 384 मेडिकल कॉलेज थे। आज 700 से ज्यादा हैं। 2014 में यूनिवर्सिटी की संख्या 450 थी आज 1100 से ज्यादा है। 2014 में मात्र 7 एम्स थे, आज 22 एम्स हैं। 2014 में लगभग 51,000 एमबीबीएस की सीटें थी, आज 1 लाख 8 हजार से ज्यादा है। 2014 में देश में पीजी की सीटें मात्र 31,000 के आसपास थीं, आज 70,000 से ज्यादा हैं। 2014 में 16 आईआईएम थे, आज 23 आईआईएम हैं। 2014 में आईआईटी की संख्या 12 थी, आज 19 आईआईटी हैं।”

अनुराग ठाकुर ने आगे कहा कि “मोदी जी के विकास के साथ कदमताल करते हुए मैंने भी अपने संसदीय क्षेत्र हमीरपुर में बिना किसी सरकारी सहायता के बच्चों को गुरुकुल पद्धति के साथ निशुल्क ट्यूशन की व्यवस्था के लिए एक से श्रेष्ठ कार्यक्रम की शुरुआत की है। एक से श्रेष्ठ कार्यक्रम सबके प्रयास से सभी वर्गों के बच्चों को शिक्षा देना और सबका विकास करना है। इसकी शुरुआत 5 अक्टूबर 2021 को विश्व शिक्षक दिवस के अवसर पर की गई थी ताकि हिमाचल प्रदेश की तीन समस्याओं: अनएम्प्लॉयमेंट, इमीग्रेशन और इकोनॉमी का एजुकेशन के द्वारा समाधान किया जा सके। आज पूरे क्षेत्र में एक से श्रेष्ठ के 580 से ज्यादा केंद्र कार्यरत है जहां 9500 से ज्यादा बच्चे शिक्षा पा रहे हैं। इनमें छात्राओं की संख्या भी 48% है।”

कांगड़ा : समेला में पलटी श्रद्धालुओं से भरी बस, 15 घायल

कांगड़ा : कांगड़ा स्थित समेला सुरंग के पास श्रद्धालुओं को लेकर जा रही निजी बस अनियंत्रित होकर पलट गई। दुर्घटना में करीब दो दर्जन यात्री घायल हो गए। घटना की सूचना पुलिस को दी गई। मौके पर पहुंची पुलिस ने बीच रास्ते में पलटी बस में फंसे यात्रियों को सुरक्षित निकाला। इसके साथ ही यहां लगे जाम को खुलवाया। बताया जा रहा है कि तकनीकी खराबी के चलते बस अनियंत्रित होकर पलट गई। इससे बड़ा हादसा होने से टल गया। घायलों को आशिंक चोटें आई हैं और सभी यात्री सुरक्षित हैं। घायलों का इलाज टांडा अस्पताल में जारी है। यात्री उत्तर प्रदेाश के रहने वाले हैं और वे वैष्णोदेवी की यात्रा के बाद कांगड़ा मंदिर में दर्शनों के बाद ज्वालामुखी जा रहे थे। बीच रास्ते में बस की प्रेशर पाइप फट गया और बस चालक के नियंत्रण से बाहर हो गई। चालक ने बस को पहाड़ी से टकराने की काफी कोशिश की, इतने में बस पलट गई।

डीएसपी कांगड़ा अंकित शर्मा ने बताया कि यूपी के रहने वाले यात्रियों से भरी बस पलटने की सूचना पुलिस को मिली थी। पुलिस ने मामले की जाँच कर रही है।

मेरे छोटे भाई मुझसे इतने खफा क्यों रहते हैं? – कंगना रनौत

मण्डी : मण्डी लोकसभा सीट से बीजेपी उम्मीदवार कंगना रनौत ने आज विक्रमादित्य सिंह पर फिर से निशाना साधा। ढालपुर में बीजेपी अनुसूचित जाति मोर्चा सम्मेलन को संबोधित करते हुए उन्होंने कहा कि विक्रमादित्य मेरा छोटे भाई हैं। इतना प्यारा नाम दिया फिर भी नाराज हो गए। पहले खुद पूछ रहे थे कि मैंने क्या खाया जब मैंने जवाब दिया तो पलट गए।  उन्होंने कहा कि पप्पू, राजा भैया, राजा जी, कोई भी अभद्र शब्द नहीं है। अगर कोई अपने छोटे भाई को राजा बाबू, या राजा बेटा कहता है तो क्या अभद्र है। अभद्र तो तब होता है जब कोई अपनी बड़ी बहन को चरित्रहीन कहते हैं।हमारे जो शीर्ष हैं उनके साथ हमारी तुलना कर दें हम तो गदगद हो जाए। वो खुद को प्रधान सेवक कहते है। हमें कोई छोटा सेवक कह दें हम तो गदगद हो जाएं।   उनको छोटा पप्पू क्या बोल दिया वो तो मुंह फुलाए बैठ गए।’ 

उन्होंने आगे कहा कि विक्रमादित्य सिंह जल्द ही बीजेपी ज्वाइन करेंगे और मेरी टीम में शामिल होंगे।मुझे चिंता होती है कि मेरे छोटे भाई मुझसे इतने खफा क्यों रहते हैं कभी कभी लगता है कि इसकी वजह ये तो नहीं है कि वो भी दिल्ली में बीजेपी हेडक्वार्टर के कई चक्कर लगा आए हैं। अब लगता है बहुत जल्दी भैया मेरी टीम में दिखेंगे। इसलिये मैं कुछ ज्यादा नहीं बोलना चाहती क्योंकि कभी हम भी एक साथ बैठे हुए दिखेंगे।

नालागढ़ : कालूझिंडा में गैंगस्टर व पुलिस की मुठभेड़

किन्नौर: भाई ने 2 सगी बहनों और भतीजी को मारी गोली

हादसे के बाद तीनों गंभीर रूप से घायल हो गईं और  परिवार के लोग उन्हें रिकांगपिओ अस्पताल लेकर गए; जहाँउनका उपचार चल रहा है

रिकांगपिओ: किन्नौर जिला में एक भाई ने अपनी दो सगी बहनों और भतीजी पर गोली चला दी। गोली से घायल हुई तीनों महिलाओं की हालत गंभीर बताई जा रही है। मौके पर पहुंची पुलिस ने आरोपी को हिरासत में ले लिया है और मामले की जांच की जा रही है। मामले जमीन के विवाद का बताया जा रहा है। किन्नौर के पूर्बनी गांव  के रहने वाले राज चंद्र ने आज दोपहर बाद घर पर काम काज कर रही अपनी दो सगी बहनों पर गोली चला दी। इतनी ही नहीं उसने अपनी छोटी भतीजी पर भी फायर किया। हादसे के बाद तीनों गंभीर रूप से घायल हो गईं और  परिवार के लोग उन्हें रिकांगपिओ अस्पताल लेकर गए। जहां उनकी हालात गंभीर बताई जा रही है।

परिजनों का कहना है कि कहना है कि राजचंद्र तीन दिन पहले भी हवा में फायर किया था।  परिवार में जमीनी विवाद  को लेकर ये घटना सामने आई है। पुलिस द्वारा मामले की जाँच की जा रही है।

घटना के बाद एसपी किन्नौर सृष्टि पांडेय पूर्वणी गांव पहुंची और मामले में सलिप्त दो आरोपियों को हिरासत में लिया है। पूर्वणी गांव के राजचंदर उर्फ बॉम्बे बाबू (62) ने अपनी दो बहनों भारती देवी नेगी (60), कृष्ण लीला (64) और भतीजी स्वीटी (27), निवासी पूर्वणी पर डबल बैरल (दोनाली) बंदूक से तीनों पर करीब सात बार फायरिंग की, जिसमें तीनों गंभीर रूप से घायल हो गई।  

हिमाचल: प्रदेश में होने वाले उपचुनावों के लिए बिंदल ने तैनात किए चुनाव प्रभारी व सह प्रभारी

शिमला: भारतीय जनता पार्टी के प्रदेश अध्यक्ष डॉ राजीव बिंदल ने आज प्रदेश में होने वाले उपचुनावों को लेकर चुनाव प्रभारी एवं सह प्रभारी की घोषणा की यह जानकारी भाजपा प्रदेश मीडिया प्रभारी कर्ण नंदा द्वारा दी गई।

उन्होंने बताया कि लोहा स्पीति उपचुनाव के चुनाव प्रभारी पूर्व मंत्री महिंद्र ठाकुर होंगे, इसी प्रकार धर्मशाला के चुनाव प्रभारी विधायक पवन काजल और सह प्रभारी प्रदेश सचिव विशाल चौहान और पूर्व विधायक जियालाल होंगे

देहरा के चुनाव प्रभारी प्रभारी पूर्व मंत्री विधायक बिक्रम ठाकुर, सह प्रभारी पूर्व प्रदेश सचिव वीरेंद्र चौधरी और जिला अध्यक्ष संजीव शर्मा होंगे।
गगरेट के चुनाव प्रभारी प्रदेश सचिव एवं पूर्व विधायक राजेश ठाकुर, पूर्व युवा मोर्चा अध्यक्ष अमित ठाकुर, पूर्व विधायक नवीन धीमान, जिला परिषद सदस्य सुशील कालिया होंगे।
कुटलैहर के चुनाव प्रभारी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष एवं विधायक सतपाल सती और सह प्रभारी प्रदेश उपाध्यक्ष सजीव कटवाल होंगे।
सुजानपुर के चुनाव प्रभारी विधायक एवं मुख्य प्रवक्ता राकेश जमवाल, सह प्रभारी प्रदेश सचिव एवं पूर्व युवा मोर्चा अध्यक्ष नरेंद्र अत्री, चुनाव सहयोगी अनिल ठाकुर, महेश सीपहिया, अशोक शर्मा, चमन लाल ठाकुर होंगे।

बड़सर के चुनाव प्रभारी विधायक एवं पूर्व महामंत्री त्रिलोक जमवाल, सह प्रभारी पूर्व विधायक कमलेश कुमारी, चुनाव सहयोगी रसील सिंह मनकोटिया, विजय पाल सराहु, अभ्यवीर लवली, दलवीर सिंह ठाकुर होंगे।

हमीरपुर के चुनाव प्रभारी प्रदेश प्रवक्ता मोहिंद्र धर्माणी, चुनाव सहयोगी प्यारे लाल शर्मा, देवराज शर्मा, रघुवीर सिंह, अनिल सामा होंगे।

नालागढ़ के चुनाव प्रभारी पूर्व प्रदेश अध्यक्ष पूर्व सांसद सुरेश चंदेल होंगे।

उपचुनाव की दृष्टि से भाजपा का फोकस 9 उपचुनावों पर रहेगा, इसका मतलब आने वाले समय में 6 नहीं 9 उपचुनाव होंगे। भाजपा चुनाव प्रबंधन में कांग्रेस पार्टी से बहुत आगे है और जिस प्रकार से यह नियुक्तियां हुई है इसमें साफ दिखता है कि उपचुनावों की जिम्मेदारी भाजपा के वरिष्ठ पूर्व मंत्री, विधायकों एवं नेताओं को दी गई है।

धामी कॉलेज से घण्डल स्कूल में स्थानांतरित होगा घण्डल मतदान केंद्र – अनुपम कश्यप

जिला निर्वाचन अधिकारी की अध्यक्षता में राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ बैठक आयोजित

शिमला : जिला निर्वाचन अधिकारी एवं उपायुक्त शिमला अनुपम कश्यप की अध्यक्षता में आज यहाँ राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों के साथ एक बैठक का आयोजन किया गया जिसमें राजकीय डिग्री कॉलेज धामी के 64/78 मतदान केंद्र घण्डल को स्थानांतरित करने बारे चर्चा की गई। 

बैठक में बताया गया कि प्राकृतिक आपदा के चलते राजकीय डिग्री कॉलेज धामी के भवन को असुरक्षित घोषित किया गया है और इस वजह से कॉलेज में बने 64/78 मतदान केंद्र घण्डल को राजकीय प्राथमिक पाठशाला घण्डल में स्थानांतरित किया जाना है। 

बैठक में उपमण्डल दण्डाधिकारी शिमला ग्रामीण कविता ठाकुर ने जानकारी देते हुए बताया कि प्रस्तावित मतदान केंद्र उसी मतदान क्षेत्र में पड़ता है और इसमें सभी मूलभूत सुविधाएं उपलब्ध हैं।

अनुपम कश्यप ने अधिकारियों को मतदान केंद्र पर सभी सुविधाएं सुनिश्चित करने के निर्देश दिए ताकि मतदाताओं को किसी असुविधा का सामना न करना पड़े। 

इस प्रस्ताव पर उपस्थित राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों ने सहमति जाहिर की और मामले को आगामी कार्रवाई के लिए भेजने को कहा। 

2 मई को होगी ईवीएम की रैंडमाइजेशन 

बैठक में बताया गया कि 02 मई 2024 को उपायुक्त कार्यालय स्थित एनआईसी में ईवीएम की प्रथम रैंडमाइजेशन करवाई जाएगी। उपायुक्त ने सभी राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों को इस प्रक्रिया के दौरान उपस्थित रहने का आग्रह किया। उन्होंने बताया कि प्रथम रेंडमाइजेशन के साथ ही 02 से 04 मई तक ईवीएम मशीनों को सभी विधानसभा क्षेत्रों में भेजा जाएगा। इसके अतिरिक्त, यह भी बताया गया कि दूसरी रैंडमाइजेशन 19 मई को होगी। 

उपायुक्त ने राजनीतिक दलों के प्रतिनिधियों से विभिन्न प्रकार की अनुमतियां लेने के लिए सुविधा ऐप का अधिक उपयोग करने का भी आग्रह किया। 

‘सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024’ का नारकंडा से शुभारंभ

100 कि.मी. के ट्रेल में धावक 30 पंचायतों में देंगे मतदान के महत्व की जानकारी

शिमला : दि हिमालयन एक्सपीडिशन (दि) द्वारा 12 से 14 अप्रैल, 2024 तक नारकंडा से सराहन ‘सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024’ का आयोजन किया जा रहा है, जिसमें राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के ट्रेल धावक हिस्सा ले रहे हैं। उल्लेखनीय है कि इस आयोजन को लोकसभा चुनाव-2024 के लिए स्वीप गतिविधि में शामिल किया गया है, जिसमें धावक लोगों को मतदान के लिए जागरूक करेंगे।

ट्रेल को आज नारकंडा से अतिरिक्त उपायुक्त शिमला अभिषेक वर्मा तथा जिला एवं सत्र न्यायधीश रामपुर बीरेन्द्र ठाकुर ने संयुक्त रूप से झंडी दिखाकर रवाना किया।

अभिषेक वर्मा ने कहा कि यह आयोजन बेहद महत्वपूर्ण है क्योंकि इसमें साहसिक गतिविधि के साथ-साथ पर्यटन, पुराना भारत-तिब्बत मार्ग और स्वीप गतिविधि को जोड़ा गया है। इस गतिविधि में जहां एक ओर साहसिक खेलों और पर्यटन को बढ़ावा मिलेगा वहीं पुराने पारम्परिक सिल्क रूट (पुराना भारत-तिब्बत मार्ग) का जीर्णोद्धार होगा। इसी प्रकार स्वीप के तहत धावकों द्वारा ट्रेल में पड़ने वाली 30 पंचायतों में लोगों को मतदान करने के लिए प्रेरित किया जाएगा। इसके अतिरिक्त, इस ट्रेल में बच्चे भी हिस्सा ले रहे हैं जोकि युवाओं और अन्य लोगों के लिए प्रेरणा के स्त्रोत होंगे। 

जिला एवं सत्र न्यायाधीश रामपुर बीरेन्द्र ठाकुर ने भी उपस्थित प्रतिभागियों को संबोधित किया और उन्हें नशे और उसके दुष्प्रभावों बारे विस्तृत जानकारी दी।

कार्यक्रम में हैं चार चुनौती पूर्ण श्रेणियां, 190 प्रतिभागी ले रहे हिस्सा
इस ट्रेल में धावकों को पुराने भारत-तिब्बत व्यापार मार्ग पर चुनौती पूर्ण और दिलचस्प अवसर प्रदान होंगे। यह ट्रेल रन, अब तक का चौथा संस्करण है, जो प्रतिभागियों और दर्शकों को एक रोमांचक अनुभव देते हुए हिमालय के प्राचीन और जंगली इलाकों से होकर गुजरेगा। इस कार्यक्रम में चार चुनौती पूर्ण श्रेणियां होगी, जिसमें 100 कि.मी, 55 कि.मी, 33 कि.मी और 15 कि.मी के ट्रैक शामिल है। सभी श्रेणियों की शुरुआत नारकण्डा से होगी जिसमें 15 किलोमीटर ट्रेल बागी से संपन्न होगा और 33 किलोमीटर ट्रेल लाफूघाटी में संपन्न होगा। इसी प्रकार, 55 किलोमीटर ट्रेल नरेन और 100 किलोमीटर ट्रेल सराहन में संपन्न होगा। इस प्रतियोगिता में लगभग 190 प्रतिभागी भाग ले रहे हैं, जिनमें भारतीय सशस्त्र बल के साथ-साथ राष्ट्रीय और अंतर्राष्ट्रीय ख्याति के ट्रेल धावकों और लगभग 80 स्कूली बच्चे (जो 18 वर्ष से कम आयु वर्ग में भाग लेंगे) की भागीदारी शामिल है। सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल 2024 में फ्लैगशिप रेस एकदिवसीय 100 कि.मी. अल्ट्रा ट्रेल मैराथन है।
यह प्रतिष्ठित अल्ट्रा ट्रेल दौड़ प्राचीन भारत-तिब्बत सड़क से होकर गुजरेगी, जो कठिन और कच्चे पथरीले रास्तों से भरपूर है और दौड़ने वालों को एक चुनौती देती है। इस प्रतियोगिता के दौरान प्रतिभागी अपनी शारीरिक क्षमताओं के साथ अपनी मानसिक सहनशीलता का भी परीक्षण करेंगे। प्रतिभागी प्राचीन व्यापारियों और खोजकर्ताओं के द्वारा चले हुए रास्तों से होकर गुजरेंगे, जो कभी हिमालय में सबसे पुराना और सबसे रहस्यमय व्यापार मार्ग था।  प्रतिभागियों की सुरक्षा के लिए, दि हिमालयन एक्सपीडिशन के आयोजकों ने इस ट्रेल को कड़ी मेहनत से पहचाना और चिह्नित किया है, जिसकी शुरुआत 13 अप्रैल को सुबह 5.30 बजे शिमला के नारकंडा से की जाएगी। यह प्रतियोगिता 14 अप्रैल को एक पुरस्कार वितरण समारोह के साथ समाप्त होगी।
दि हिमालयन एक्सपीडिशन का ‘सिल्क रूट अल्ट्रा ट्रेल’ का उद्देश्य साहसिक खेलों को प्रोत्साहित और इस प्राचीन मार्ग के सांस्कृतिक और ऐतिहासिक महत्त्व को उजागर करना है, जो प्रतिभागियों और दर्शकों के बीच साझेदारी की भावना को बढ़ावा देगा। इसके अतिरिक्त कार्यक्रम का उद्देश्य स्वीप के तहत पात्र युवा मतदाताओं को मतदाता सूची में पंजीकरण करवाने के लिए तथा मतदाताओं को अपने मत का प्रयोग करने के लिए प्रेरित करना है।

शिमला: शस्त्र धारक 29 जून तक करवाएं विशिष्ट पहचान संख्या अंकित

हिमाचल: प्रदेश में 61472 शस्त्र धारकों ने जमा करवाए शस्त्र

हिमाचल: निर्वाचन विभाग के प्रवक्ता ने आज यहां बताया कि निर्वाचन विभाग द्वारा प्रदेश में चुनाव प्रक्रियाशांतिपूर्वक सम्पन्न करवाने के लिए भारत निर्वाचन आयोग द्वारा जारी सभी दिशा-निर्देशों की शत-प्रतिशत अनुपालना सुनिश्चित की जा रही है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में अभी तक लाइसेंसधारी शस्त्रधारकों द्वारा 61472 शस्त्र जमा करवाए जा चुके हैं।

उन्होंने बतायाकि बद्दी में 1020, बिलासपुर 4406, चम्बा 5259, हमीरपुर 3400, कांगड़ा 10309, किन्नौर1205, कुल्लू 4479, लाहौल-स्पीति 205, मण्डी 6291, नूरपुर 3455, शिमला 10671,सिरमौर 4720, सोलन में 3557 और ऊना जिला में 2495 शस्त्र जमा करवाए जा चुके हैं।निर्वाचन विभाग के प्रवक्ता ने बताया कि आदर्श आचार संहिता के दृष्टिगत सी-विजिल के माध्यम से अब तक हिमाचल प्रदेश के विभिन्न जिलों से 53 शिकायतें प्राप्त हुई हैं। उन्होंने बताया कि इन शिकायतों का समयबद्ध समाधान सुनिश्चित किया जा रहा है। आचार संहिता के प्रभावी होने से 12 अप्रैल, 2024 तक प्राप्त कुल शिकायतों में से 24 का निपटारा सुनिश्चित किया गया है। उन्होंने बताया कि कुल प्राप्त में से 29 शिकायतें सही न पाए जाने के कारण  खारिज (Drop) कर दी गई।