ब्लॉग

हिमाचल: उचित मूल्यों की दुकानों में जल्द शुरू हो आईआरआईएस सुविधा...

हिमाचल: उचित मूल्यों की दुकानों में जल्द आईआरआईएस उपलब्ध करवाने के निर्देश

  • उचित मूल्य की दुकानों में सम्पर्क एवं नकदी रहित खाद्य सामग्री वितरित करने सम्बन्धी दिशा-निर्देश

शिमला:  खाद्य नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले मन्त्री, राजिन्द्र गर्ग की अध्यक्षता में आज यहां आयोजित बैठक में उचित मूल्य की दुकानों में राशन वितरण की व्यवस्था पर विस्तार से चर्चा की गई। बैठक में राजिन्द्र गर्ग ने विभागीय अधिकारियों को हिमाचल प्रदेश में कार्यरत सभी उचित मूल्यों की दुकानों में आईआरआईएस सुविधा शीघ्र उपलब्ध करवाने के निर्देश दिए। इसके लिए विभाग द्वारा जारी ई.ओ.आई. में छः पार्टियों ने भाग लिया है।

खाद्य आपूर्ति मन्त्री ने निर्देश दिए कि इस प्रक्रिया को तुरन्त निपटाया जाए तथा उचित मूल्य की दुकानों में आई.आर.आई.एस. व्यवस्था यथाशीघ्र शुरू की जाए। उन्होंने बायोमेट्रिक प्रणाली से वितरित किए जा रहे खाद्यान्नों की भी समीक्षा की। उन्होंने कहा कि सभी उचित मूल्य की दुकानों में स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया का पालन करते हुए खाद्यान्नों का वितरण किया जा रहा है। बायोमेट्रिक प्रणाली के माध्यम से इस माह 75.80 प्रतिशत खाद्यान्न वितरित किए गए है।

उन्होंने कहा कि बायोमीट्रिक प्रणाली से खाद्यान्नों का वितरण एक सुरक्षित उपाय है, जिसमें प्रत्येक उपभोक्ता के हाथों एवं पी.ओ.एस. मशीन को सैनिटाइज करने के पश्चात ही उपभोक्ताओं को खाद्यान्नों का वितरण किया जा रहा है। स्वास्थ्य विभाग द्वारा जारी मानक संचालन प्रक्रिया की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए सभी जिला नियन्त्रकों की अध्यक्षता में कमेटियां गठित की गई हैं तथा जिला नियन्त्रक एवं निरीक्षक उचित मूल्य की दुकानों के निरीक्षण कर रहे हैं। जो भी उचित मूल्य की दुकानधारक मानक संचालन प्रक्रिया का पालन नहीं कर रहा है उसके खिलाफ कार्यवाही अमल में लाई जा रही है। उन्होंने यह भी निर्देश दिए कि खाद्यान्न वितरण के लिए आधार ओ.टी.पी. व्यवस्था को भी तुरन्त लागू किया जाए ताकि उपभोक्ता इस व्यवस्था से मशीन के सम्पर्क में आए बिना खाद्यान्न प्राप्त कर सकंे। इसके लिए विभाग द्वारा प्रक्रिया आरम्भ कर दी गई है। उन्होंने कहा कि ओ.टी.पी. से खाद्यान्न वितरण शुरू कर दिया गया है तथा आज 240 उपभोक्ता आधार ओ.टी.पी. के माध्यम से खाद्यान्न प्राप्त कर चुके हैं। उन्होंने बताया कि उपभोक्ता उचित मूल्य की दुकानों से दोनोेें माध्यमों, बायोमेट्रिक प्रणाली एवं आधार ओ.टी.पी. से खाद्यान्न प्राप्त कर सकता है परन्तु मानक संचालन प्रक्रिया की अनुपालना सभी उचित मूल्य की दुकानों द्वारा यथावत की जाएगी ताकि पैसे के लेन-देन या खाद्यान्नों के वितरण के समय संक्रमण के खतरे से बचा जा सके।

राजिन्द्र गर्ग ने यह निर्देश भी दिए कि नकदी रहित सुविधा को भी अबिलम्ब शुरू किया जाए ताकि राशन वितरण में वायरस से संक्रमण की संभावना न रहे। उन्होनें सभी उपभोक्ताओं से अपील की है कि जब तक नकदी रहित तथा आई.आर.आई.एस. की सुविधा पी.ओ.एस. मशीन में उपलब्ध नहीं होती, तब तक बायोमेट्रिक या आधार ओ.टी.पी. से खाद्यान्न प्राप्त करने से न डरें तथा हाथों को धोकर तथा सैनिटाइज करके बिना झिझक उचित मूल्य की दुकानों से खाद्यान्न प्राप्त करें।

बैठक में निदेशक, खाद्य, नागरिक आपूर्ति एवं उपभोक्ता मामले रामकुमार गौतम और अन्य विभागीय अधिकारी उपस्थित थे।

जिला ऊना में कोविड टीकाकरण के लिए 17 मई से 31 मई तक होंगे 79 सैशन

जिला ऊना में कोविड टीकाकरण के लिए 17 मई से 31 मई तक होंगे 79 सैशन

  •  18 प्लस आयु वाले 17 मई के लिए सेशन बुक करा सकते हैं लाभार्थी : डीसी

    ऊना: – 17 मई को जिला ऊना में 18-44 वर्ष आयु वर्ग के व्यक्तियों के टीकाकरण के लिए सेशन बुक करने की सुविधा उपलब्ध हो चुकी है। जिला में 17 मई के उपरांत, 20, 24 व 27 मई को टीकारण किया जाएगा। यह जानकारी देते हुए उपायुक्त ऊना राघव शर्मा ने कहा कि सेशन की बुकिंग की सुविधा टीकाकरण की तारीख से दो दिन पहले खुला करेगी, 20 मई को होने वाले सेशन के लिए 18 मई से, 24 को होने वाले सेशन के लिए 22 मई से, 27 मई को होने वाले टीकाकरण सत्र के लिए 25 मई तथा 31 मई को होने वाले सत्र के लिए 29 मई को बुकिंग खुलेगी।

उन्होंने कहा कि 17 से 31 मई तक जिला के विभिन्न स्थानों पर 79 टीकाकरण सत्र आयोजित किए जाएंगे। 17 मई, 20, 24 व 27 मई को प्रतिदिन 16 स्थानों पर टीकाकरण होगा, जबकि 31 मई को 15 स्थानों वैक्सीनेशन की जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रतिदिन प्रत्येक टीकाकरण केंद्र पर अधिकतम 100 टीके लगाए जाएंगे।

  • 17 मई को इन स्थानों पर होगा टीकाकरण

राघव शर्मा ने कहा कि 18-44 वर्ष आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिए 17 मई को होने वाले पहले सत्र के लिए जिला में 16 स्थानों पर टीकाकरण किया जाएगा। उन्होंने बताया कि ऊना खंड में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला बाल ऊना तथा टाउन हॉल में वैक्सीनेशन होगी। इसके अतिरिक्त राजकीय प्राथमिक पाठशाला बसदेहड़ा, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला संतोषगढ़, सब सेंटर बसाल में टीके लगेंगे। खंड अंब के तहत राधा स्वामी सत्संग भवन अंब, चिंतपूर्णी अस्पताल तथा सीएचसी धुसाड़ा में टीकाकरण होगा। हरोली खंड में पीएचसी पंजावर, सीएचसी दुलैहड़, राजकीय प्राथमिक पाठशाला पालकवाह के अतिरिक्त खंड गगरेट में राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला अंबोटा, दौलतपुर चौक कॉलेज, राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला भंजाल में टीके लगाए जाएंगे। उन्होंने बताया कि थानाकलां खंड के तहत बंगाणा अस्पताल तथा थानाकलां में टीकाकरण किया जाएगा।

  • स्वयं बुक करना होगा स्लॉट

राघव शर्मा ने कहा कि 18 से 44 वर्ष के आयु वर्ग के व्यक्तियों के लिए टीकाकरण हेतु पूर्व पंजीकरण अनिवार्य है तथा बिना पूर्व पंजीकरण टीकाकरण नहीं होगा। टीकाकरण स्थलों पहुंचने पर मौके पर पंजीकरण सुविधा नहीं दी जाएगी, ताकि लंबी कतारें लगने की आशंका को टाला जा सके।
राघव शर्मा ने 18 से 44 साल आयु वर्ग के लोगों से आग्रह किया कि वह किसी भी असुविधा से बचने के लिए कोविन पोर्टल अथवा आरोग्य सेतु ऐप पर पहले ही पंजीकरण करवा लें। पंजीकरण के लिए  http://selfregistration.cowin.gov.in/ लिंक का भी इस्तेमाल कर सकते हैं। पंजीकरण करवाने के बाद लाभार्थी को स्वयं सैशन बुक करना होगा, जिसके बाद स्थान बुक होने संबंधी एक एसएमएस के माध्यम से सूचना मिलेगी। टीकाकरण केंद्र तक जाने के लिए व्यक्ति पुलिस कर्मचारियों को यह एसएमएस दिखा सकता है। वैक्सीनेशन सेंटर पर भी यह एसएमएस दिखाना अनिवार्य है तथा इसके बाद ही लाभार्थी को टीका लगवाया जाएगा।

कांगड़ा: दिल्ली से आ रहे कोरोना संक्रमित व्यक्ति की घर पहुंचने से पहले ही मौत

कांगड़ा: दिल्ली से आ रहे कोरोना संक्रमित व्यक्ति की घर पहुंचने से पहले ही मौत

  • नूरपुर की ममूह गुरचाल पंचायत में प्रशासन की देखरेख में हुआ कोरोना संक्रमित का अंतिम संस्कार

नूरपुर :   कांगड़ा जिला के नूरपुर उपमंडल की ममूह गुरचाल पंचायत के मैहरका गांव के 52 वर्षीय कोरोना संक्रमित  व्यक्ति जिनका गत दिवस दिल्ली से अपने पैतृक गांव आते समय बीच रास्ते में निधन हो गया था का आज शनिवार को स्थानीय  प्रशासन की देखरेख में कोविड प्रोटोकॉल के साथ अंतिम संस्कार किया गया। इस दौरान एसडीएम डॉ सुरेन्द्र ठाकुर, तहसीलदार सुरभि नेगी, बीडीओ डॉ. रोहित शर्मा तथा नगर परिषद की कार्यकारी अधिकारी आशा वर्मा सहित भाजयुमो के प्रदेश सचिव भवानी पठानिया भी उपस्थित रहे।
एसडीएम ने जानकारी दी कि यह व्यक्ति बंगलुरू में काम करता था तथा तबीयत ठीक नहीं होने के कारण वह अपने रिश्तेदारों के साथ गाड़ी से दिल्ली से अपने घर आ रहा था, कि तेज बुखार तथा सांस लेने में दिक्कत होने के कारण उसका रास्ते में ही अचानक निधन हो गया। उन्होंने बताया कि जब  इस व्यक्ति की मौत की सूचना प्रशासन को मिली तो प्रशासन ने मृतक के पार्थिव शरीर को स्थानीय सिविल अस्पताल के शवगृह में रखवाने की व्यवस्था करवाई । उन्होंने बताया कि कोविड संक्रमण के लक्षण दिखने पर जब शव का कोविड टेस्ट करवाया गया तो वह पॉजिटिव पाया गया।
सुरेन्द्र ठाकुर ने बताया कि स्थानीय स्वयंसेविओं की मदद से उनके पैतृक गांव में पूरे कोविड प्रोटोकॉल के साथ अंतिम संस्कार की रस्म निभाई गई। उन्होंने बताया कि उपमंडल में  इन दिनों में कोविड के कारण जिन मरीजों की मौत हुई है प्रशासन अपनी देखरेख में उनके अंतिम संस्कार की रस्म निभा रहा है।
उन्होंने बताया कि उपमंडल के तहत 100 से अधिक स्वयंसेविओं ने कोविड के मरीजों की सहायता तथा इसके कारण किसी व्यक्ति की मौत हो जाने पर उसके अंतिम संस्कार के लिए अपनी सेवाएं देने की इच्छा जाहिर की है। उन्होंने बताया कि संकट के इस समय में प्रशासन को स्थानीय पंचायतों तथा स्वयंसेवियों का पूरा सहयोग मिल रहा है। उन्होंने कहा कि कोरोना संक्रमित परिवार संकट की इस घड़ी में अपने आप को अकेला न समझे, प्रदेश सरकार तथा प्रशासन उनके साथ पूरी ताकत के साथ खड़ा है।

  •    स्थानीय युवाओं ने निभाई अपनी अहम भूमिका

अंतिम संस्कार के दौरान  स्थानीय युवाओं तथा पंचायत प्रतिनिधियों  ने अपनी अहम भूमिका निभाई। युवाओं ने प्रशासन द्वारा उपलब्ध करवाई गई गाड़ी में शव को अंतिम स्थली तक पहुंचाया तथा उसके बाद अपनों का फर्ज भी निभाया। इस दौरान स्थानीय पंचायत प्रधान, मृतक के 12 वर्षीय बेटे तथा अन्य लोगों ने कोविड प्रोटोकॉल के तहत पार्थिव देह को अंतिम विदाई दी।

कांगड़ा: SDM ने घरों में जाकर जाना संक्रमितों का हाल

कांगड़ा: SDM ने घरों में जाकर जाना संक्रमितों का हाल

  • देहरा में करवाया संक्रमित मृतक का अंतिम संसकार

देहरा: एसडीएम देहरा धनबीर ठाकुर ने आज रक्कड़ तहसील के अंतर्गत अलोह पंचायत में घरों में जाकर कोरोना संक्रमितों का हाल जाना। उन्होंने कहा कि कोरोना से लगभग सभी लोग घरों में ही ठीक हो रहे हैं, इसलिए घबराने की आवश्यकता नहीं है। उन्होंने कहा कि लोग घरों में ही रहकर स्वास्थ्य विभाग द्वारा बताई गई चिकित्सा विधि का पालन करें और पूरे जज्बे से कोरोना को हराने की मनोस्थिति रखें। एसडीएम ने यह भी सुनिश्चित किया कि संक्रमितों या उनके परिवारों को किसी प्रकार की कोई आवश्यक वस्तु की कमी न हो। उन्होंने स्थानीय पंचायत प्रतिनिधियों और कर्मचारियों को संक्रमितों के परिवारों से निरंतर संपर्क में रहने को कहा। एसडीएम ने कोरोना संक्रमितों से मिलने के उपरांत क्षेत्र में कोरोना नियमों की अनुपालना का जायजा लिया।
उन्होंने आवश्यक सेवाओं में लगे सभी विभागों के कर्मचारियों और पंचायत प्रतिनिधियों को कोरोना नियमों की अनुपालना सुनिश्चित करवाने को कहा। उन्होंने बताया कि नायब तहसीलदार हरिपुर राजिन्दर सिंह ने आज ग्राम पंचायत गठुतर में कोरोना संक्रमितों का हाल जाना। इसके पश्चात एसडीएम देहरा ने हनुमान चैक देहरा में मृतक कोरोना संक्रमित का कोरोना नियमों के अनुरूप अंतिम संसकार भी करवाया। इस अवसर पर एसडीएम ने परिवार के सदस्यों का ढांढस बांधते हुए उन्हें अंतिम संसकार के लिए प्रशासन का सहयोग करने को कहा, जिसके उपरान्त विधि अनुरूप अंतिम संसकार किया गया। एसडीएम ने कहा कि देहरा व ज्वालामुखी उपमंडल में पिछले कईं दिनों से कोरोना संक्रमितों के अंतिम संस्कार प्रशासन की देख-रेख में कोरोना नियमों के अनुरूप ही करवाए जा रहे हैं, जिनमें वह स्वयं या कोई अधिकारी-कर्मचारी उपस्थित रहते हैं।

टीकाकरण में हिमाचल देश भर में प्रथम स्थान पर

टीकाकरण में हिमाचल देश भर में प्रथम स्थान पर

  • राज्य में लोगों को अभी तक वैक्सीन की दी जा चुकी हैं 21 लाख 22 हजार 894 खुराकें

शिमला:  हिमाचल प्रदेश पात्र आयु वर्ग के लोेगों का टीकाकरण करने में देश भर में सर्वोच्च स्थान पर है। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां जानकारी देते हुए बताया कि राज्य में लोगों को अभी तक वैक्सीन की 21 लाख 22 हजार 894 खुराकें दी जा चुकी हैें।

उन्होंने कहा कि स्वास्थ्य देखभाल कार्यकर्ताओं को वैक्सीन की 81 हजार 996 पहली डोज तथा 68 हजार 686 दूसरी डोज लगाई जा चुकी हैं। अग्रिम पंक्ति कार्यकर्ताओं को 54025 पहली डोज तथा 41419 दूसरी डोज दी जा चुकी हैं। उन्होंने कहा कि पात्र आयु वर्ग को कोविड वैक्सीन की पहली 1561107 डोज तथा 315661 दूसरी डोज दी जा चुकी हैं।

मुुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य में पात्र लोगों को अभी तक कोरोना वैक्सीन की 1697128 पहली डोज तथा 425766 दूसरी डोज लगाई जा चुकी हैं।

उन्होंने कहा कि भारत की जनगणना द्वारा नवम्बर 2019 में जारी अनुमानित जनसंख्या के लिए तकनीकी समूह द्वारा तैयार की गई रिपोर्ट के अनुसार हिमाचल प्रदेश में 18 वर्ष से अधिक आयु वर्ग में कोविड वैक्सीन के लिए 5523000 लोग पात्र हैं। जिनमें से 1697128 लोगों का टीकाकरण कर राज्य ने पात्र 31 प्रतिशत व्यक्तियों को कवर कर लिया है। विभिन्न राज्यों के आकड़ों के अनुसार टीकाकरण की प्रगति में छतीसगढ़ दूसरा राज्य है, जिसने पात्र जनसंख्या का 25 प्रतिशत हिस्सा कवर किया है।

उन्होंने कहा कि राज्य में टीकाकरण में यह प्रगति प्रदेश सरकार के अथक प्रयासों के फलस्वरूप ही संभव हो पाई है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार द्वारा लोगों को टीकाकरण के प्रति जागरूक करने के साथ, समय-समय पर उठाए गए प्रभावी कदमों के कारण ही हिमाचल प्रदेश देशभर में सर्वोच्च स्थान पर हैं।

शिमला में आज कोरोना के 254 मामले....

शिमला में आज कोरोना के 254 मामले….

शिमला: शिमला में आज कोरोना 254 के मामले हैं, जिनमें:-

  • संजौली में 9

  • न्यू शिमला में 21

  • विकासनगर में 52

  • कसुम्पटी में 2

  • केल्टी में 1

  • पन्थाघाटी में 1

  • चक्कर में 1

  • कुफ्टाधार में 2

  • मैहली में 3

  • नवबहार में 2

  • ओल्ड बस स्टैंड में 1

  • छोटा शिमला में 4

  • संकटमोचन में 1

  • कोमली बैंक में 1

  • खलीनी में 5

  • जाखू में 1

  • मुंडाघाट में 1

  • चौड़ा मैदान में 5

  • मिडिल बाजार में 1

  • कृष्णानगर में 2

  • कैथू में 1

  • लालपानी में 1

  • लक्कड़ बाजार में 1

  • टूटी कंडी में 1

  • सांकटी में 1

  • रामबाजार में 1

  • ढल्ली में 2

  • घनाहट्टी में 4

  • जुंगा में 1

  • टूटू में 9

  • ताराहॉल में 1

  • शोघी में 2

  • बनुटी में 1

  • धामी में 4

  • काम्याना में 1

  • राझांणा में 1

  • छेला में 1

  • आईजीएमसी में 8

  • रिपन में 6

  • मिलिट्री अस्पताल में 2

  • रामपुर में 30

  • मतियाना में 15

  • मशोबरा में 14

  • सुन्नी में 9

  • जुब्बल कोटखाई में 25

  • नेरवा में 1

  • ननखडी में 7

  • कुमारसैन में 8

  • रोहडू में 35

  • चिडगांव में 8

  • सोलन से शिमला में आये 2 मामले

  • बिलासपुर से शिमला में आया 1 मामला

new update : प्रदेश में आज कोरोना के आये 4145 मामले, 4137 मरीज हुए ठीक

new update : प्रदेश में आज कोरोना के आये 4145 मामले, 4137 मरीज हुए ठीक

  • 56 कोरोना संक्रमित लोगों की हुई मौत

  • कांगड़ा में आये सबसे ज्यादा 1432 केस, 1220 लोग हुआ स्वस्थ

Microsoft Word - Media Bulletin _12_हिमाचल: प्रदेश में आज कोरोना पॉजिटिव के  4145 नये मामले आए हैं। जिनमें बिलासपुर में 274, चंबा में 355, हमीरपुरMicrosoft Word - Media Bulletin _12_ में 319, कांगड़ा में 1432,  किन्नौर में 38, कुल्लू में 94, लाहुल स्पीति 43, मण्डी 515, शिमला में 359,  सिरमौर में 301, सोलन में 197 और ऊना में 218  मामले आये हैं।

वहीं प्रदेश में आज 4137  मरीज स्वस्थ हुए हैं जिनमें बिलासपुर 316,  चंबा से 240,  हमीरपुर में 320, कांगड़ा में 1220, किन्नौर से 35, कुल्लू में 113, लाहुल स्पीति 90, मण्डी 483, शिमला 281, सिरमौर से 318, सोलन में 488 और ऊना में 233  लोग स्वस्थ हुए हैं।

प्रदेश में आज 56 कोरोना संक्रमित लोगों की मौत हुई सिरमौर में 3, चंबा में 5, हमीरपुर में 2, मण्डी में 6, Microsoft Word - Media Bulletin _12_शिमला में 15, सोलन में 2, ऊना में 3, किन्नौर में 1 और कांगड़ा में 19 कोरोना संक्रमित लोगों की मौत हुई है।Microsoft Word - Media Bulletin _12_

प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 157862 पहुंच गया है जबकि सक्रिय मामले 39575 हैं। अब तक 116016 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि 2241 लोगों की मौत हो चुकी है जबकि 17 प्रदेश से 33बाहर जा चुके22 हैं।lk111

मंत्रिमण्डल ने कोरोना कर्फ्यू 26 मई तक बढ़ाया, विभिन्न श्रेणियों के 219 पदों को अनुबंध आधार पर भरने को स्वीकृति 

हिमाचल कैबिनेट: कोरोना कर्फ्यू 26 मई तक बढ़ाया, विभिन्न श्रेणियों के 219 पदों को अनुबंध आधार पर भरने की स्वीकृति 

हिमाचल प्रदेश मंत्रिमण्डल के निर्णय:

  • वन विभाग कोरोना संक्रमित मृतकों के दाह संस्कार को देगा निःशुल्क लकड़ी 

  • 200 से अधिक बिस्तरों की क्षमता वाले अस्पतालों को शव वाहन किराए पर लेने की अनुमति 

  •  विवाह कार्यक्रम में 20 लोग ही होंगे शामिल, बारात की भी नहीं होेगी अनुमति 

शिमला : मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर की अध्यक्षता में आज यहां आयोजित राज्य मंत्रिमण्डल की बैठक में राज्य में कोविड-19 की स्थिति की समीक्षा की गई और कोविड-19 के मामलों में हो रही वृद्धि पर चिंता व्यक्त की। इस वायरस के संक्रमण की कड़ी को तोड़ने के लिए मंत्रिमण्डल ने पूरे प्रदेश में कोरोना कर्फ्यू को 26 मई प्रातः 6 बजे तक बढ़ाने का निर्णय लिया। बैठक में कामगार और श्रमिकों के पलायन को रोकने के लिए निर्माण सामग्री से सम्बन्धित सभी दुकानों को सप्ताह में मंगलवार और शुक्रवार को तीन घण्टे के लिए खुला रखने का निर्णय लिया गया।

मंत्रिमण्डल ने सभी चिकित्सा महाविद्यालयों, क्षेत्रीय, ऑचलिक अस्पतालों और 200 से अधिक बिस्तरों की क्षमता वाले अस्पतालों को शव वाहन किराए पर लेने की अनुमति प्रदान की। बैठक में यह भी निर्णय लिया कि वन विभाग वन अधिकार लागू क्षेत्र में कोरोना संक्रमित मृतकों के दाह संस्कार के लिए निःशुल्क लकड़ी उपलब्ध करवाएगा और वन निगम अन्य क्षेत्रों में लकड़ी उपलब्ध करवाएगा। सभी नगर निगमों को शव वाहन किराए पर लेने की अनुमति होगी।

बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि किसी भी विवाह के लिए मैरिज पैलेस, सामुदायिक हाॅल, टेंट हाउस, आउटसाइड कैटरिंग और डीजे/बैंड को किराये पर लेने की अनुमति नहीं होगी। विवाह कार्यक्रम केवल घरों या न्यायालय में 20 लोगों की पाबंदी के साथ ही सम्पन्न होंगे। विवाह कार्यक्रम के दौरान बारात की भी अनुमति नहीं होेगी।

मंत्रिमण्डल ने प्रदेश के लोगों को बेहतर स्वास्थ्य देखभाल सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए राष्ट्रीय स्वास्थ्य मिशन के अन्तर्गत विभिन्न श्रेणियों के 219 पदों को अनुबंध आधार पर भरने को स्वीकृति प्रदान की। मंत्रिमण्डल ने लोगों की सुविधा के लिए पंडित जवाहर लाल नेहरू राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय चम्बा में 20 करोड़ रुपये की लागत से सी.टी. स्कैन 128 स्लाइस और एम.आर.आई. 1.5 टेस्ला मशीनों को खरीदने की भी स्वीकृति प्रदान की।

मंत्रिमंडल ने श्री लाल बहादुर शास्त्री राजकीय चिकित्सा महाविद्यालय नेरचैक मंडी के मेक शिफ्ट कोविड-19 अस्पताल का निष्पादन करने वाली एंजेसी को लोगों की सुविधा के लिए अस्पताल में एक लेवर रूम और एक ऑपरेशन थियेटर आदि के निर्माण कार्य को शामिल करने करने के लिए कार्योतर स्वीकृति प्रदान करने का अनुमोदन किया।

बैठक में जिला मण्डी के सरत्यौला में स्वास्थ्य उप-केन्द्र खोलने और इसके संचालन के लिए आवश्यक पदों के सृजन का भी निर्णय लिया गया।

मंत्रिमण्डल ने मुख्यमंत्री की घोषणाओं की प्रगति की भी समीक्षा की और निर्णय लिया कि प्रत्येक मंत्री 15 दिनों की समयावधि में सम्बन्धित विभाग के लिए मुख्यमंत्री की घोषणाओं की समीक्षा करेंगे और तीन माह के भीतर मुख्यमंत्री की सभी घोषणाओं का कार्यान्वयन आरम्भ करना सुनिश्चित करेंगे।

मंत्रिमण्डल ने आम जन की सुविधा के लिए मण्डी जिला की सुन्दरनगर तहसील के धनोटू में नए विश्राम गृह के निर्माण को स्वीकृति दी।

अपेक्षित तीसरी लहर से निपटने के लिए टास्क फोर्स गठित करने का निर्णय

अपेक्षित तीसरी लहर से निपटने के लिए टास्क फोर्स गठित करने का निर्णय

शिमला: स्वास्थ्य विभाग के एक प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश सरकार ने कोविड-19 की अपेक्षित तीसरी लहर से निपटने के लिए स्थिति के अध्ययन के लिए पीडीऐट्रिक टास्क फोर्स गठित करने का निर्णय लिया।

प्रवक्ता ने बताया कि वर्तमान में 18 से 44 वर्ष के आयुवर्ग के लोगों का टीकाकरण कार्य तेजी से चल रहा है और अगले तीन-चार माह में इस आयुवर्ग के अधिकतर लोगों का टीकाकरण कर लिया जाएगा। उन्होंने कहा कि आने वाली इस लहर से केवल बच्चे ही प्रभावित हो सकते है, जिससे निपटने के लिए सरकार ने इस पीडीऐट्रिक टास्क फोर्स का गठन करने का निर्णय लिया है।

उन्होंने कहा कि यह फोर्स समय-समय पर उचित परामर्श प्रदान करने के अलावा विभिन्न पीआईसीयू, एम-एनआईसीयू, एसएनसीयू, एनबीएसयू आदि में आधारभूत ढांचे की उपलब्धता का अध्ययन करेगी। उन्होंने कहा कि यह टास्क फोर्स इस महामारी से निपटने के लिए आवश्यक मशीनरी, यंत्र और श्रमशक्ति प्रदान करने के लिए उपयुक्त योजना भी तैयार करेगी।

प्रवक्ता ने बताया कि प्रदेश सरकार आने वाली किसी भी स्थिति से निपटने के लिए सक्रिय दृष्टिकोण अपना रही है और सभी आवश्यक सुविधाएं सुनिश्चित कर रही है।

विदेशों से सहायता सामग्री की तेज निकासी/बंटवारा व उन्हें राज्यों को भेजना जारी : अनुराग ठाकुर 

विदेशों से सहायता सामग्री की तेज निकासी/बंटवारा व उन्हें राज्यों को भेजना जारी : अनुराग ठाकुर 

  • अब तक 10,000 से अधिक ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, 12,000 से अधिक ऑक्सीजन सिलेंडर, 19 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र, 6,400 से अधिक वेंटिलेटर/बाई पैप, 4.2 लाख रेमडिसिविर की खुराकें वितरित/भेजी गई

हिमाचल : केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफ़ेयर्स राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कोरोना आपदा की इस घड़ी में विदेशों से आ रही सहायता सामग्री का वित्त मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा युद्ध स्तर पर त्वरित निकासी, उसका बँटवारा व निर्धारित कोटे के अनुसार राज्यों को भेजे जाने की जानकारी साझा की है।

अनुराग ठाकुर ने कहा “ पूरी दुनिया कोविड -19 की भयावह स्थिति का सामना कर रही है। पीएम की कुशल विदेश नीति के चलते आज पूरा विश्व भारत के साथ खड़ा है। दुनिया के तमाम देश आज भारत को मेडिकल उपकरण व जीवन रक्षक सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं जिसका  एयरपोर्ट व बंदरगाहों पर वित्त मंत्रालय के अधीनस्थ कस्टम अधिकारीयों द्वारा रिकॉर्ड समय (8 से 10 मिनट) में  निकासी की  जा रही है। विदेशों से आ रही सहायता सामग्री का युद्ध स्तर पर त्वरित निकासी, उसका बँटवारा व निर्धारित कोटे के अनुसार सभी राज्यों को भेजे जाने से कोविड के ख़िलाफ़ इस जंग में हमें बल मिल रहा है।”

आगे बोलते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा “भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों / विभागों ने एक सुगम और व्यवस्थित तंत्र के जरिए विश्व समुदाय की ओर से आने वाली सहायता को राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों को तेजी से वितरित करने के लिए निर्बाध रूप से सहयोग किया है।27 अप्रैल 2021 से लेकर अब तक  कुल मिलाकर 10,796 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, 12,269 ऑक्सीजन सिलेंडर, 19 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र, 6,497 वेंटिलेटर/बाई पैप, 4.2 लाख रेमडिसिविर की खुराकें सड़क एवं हवाई मार्ग के जरिए वितरित/भेजी जा चुकी हैं। प्राप्तकर्ता राज्यों/केन्द्र-शासित प्रदेशों और संस्थानों को कारगर तत्काल आवंटन और सुव्यवस्थित वितरण का एक निरंतर अभियान जारी है। वित्त मंत्रालय के अधीनस्थ केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने कोविड संबंधी आयात से जुड़े सवालों के समाधान के लिए एक सहायता प्रकोष्ठ बनाया है, ताकि सीमा शुल्क विभाग से ऐसे सामान की त्वरित निकासी हो सके।”