ताज़ा समाचार

कृषि/ बागवानी

टमाटर

आइये जानें कैसे करें टमाटर की खेती

टमाटर की अच्छी पैदावार के लिए कुछ खास बातों का रखें ख्याल हमारे खान बनाने में अहम भूमिका टमाटर की होती है जी हां सब्जियों में टमाटर का प्रमुख स्थान है। इसके फलों को विभिन्न प्रकार से उपयोग...

हिमाचल: आर्थिकी मजबूत करने के लिए औषधीय पौधों की खेती में अपार संभावनाएं

हिमाचल: आर्थिकी मजबूत करने के लिए औषधीय पौधों की खेती में अपार संभावनाएं प्रदेश के किसानों और बागवानों को औषधीय पौधों की खेती के लिये प्रोत्साहित किया जा रहा है, जिससे न केवल उनकी आर्थिकी...

सभी प्रकार की भूमियों में पैदा की जा सकती है “पालक” की उन्नत खेती

सभी प्रकार की भूमि में पैदा की जा सकती है “पालक” की उन्नत खेती

हम आपको इस बार पालक की उन्नत खेती कैसे करें के बारे में विस्तार से जानकरी देने जा रहे हैं। क्यूंकि पत्तियों वाली सब्जियों में पालक भी एक भारतीय सब्जी है जिसकी खेती अधिक क्षेत्र में की जाती...

मूली

मूली एक महत्वपूर्ण शाकीय फसल

मौसमी खेती मूली एक महत्वपूर्ण शाकीय फसल है जो जड़ तथा हरी पत्तियों दोनों रूपों में प्रयोग की जाती है। शीघ्रता से बढऩे के कारण इसे अन्य सब्जियों की क्यारियों के बीच में सहयोगी अथावा अत: फ़सल...

हिमाचल की एक महत्वपूर्ण मसालेदार व नगदी फसल अदरक

हिमाचल की एक महत्वपूर्ण मसालेदार व नगदी फसल अदरक

अदरक हिमाचल प्रदेश की एक महत्वपूर्ण मसालेदार व नगदी फसल है। यह लगभग 20 हैक्टेयर भूमि पर उगाया जाता है तथा इसका उत्पादन लगभग 160 टन होता है। अदरक की खेती मुख्यत: सिरमौर, सोलन, शिमला, बिलासपुर, मण्डी...

गुटलीदार फलों में फूल खिलने की प्रक्रिया पूरी, इस वर्ष लगभग 15 दिन पहले खिल रहे हैं सेब बागीचों में फूल : डॉ. एस पी भारद्वाज

सेब में कली विकास की विभिन्न अवस्थाएं भी कम समय में पूर्ण इस समय किसी भी छिड़काव की आवश्यकता नहीं इस वर्ष मार्च के महीने में जितनी तीव्रता तापमान की बढ़ोतरी में देखी गई है वह अप्रत्याशित है...

हिमाचल के निचले एवं गर्म क्षेत्रों में अधिक पाया जाता है पीला रतुआ… जानें रोग एवं उपचार

हिमाचल प्रदेश में पीला रतुआ (येलो रस्ट या स्ट्राइप रस्ट) गेहूँ का प्रमुख रोग है। यह बीमारी प्रदेश में दिसम्बर के मध्य से लेकर फरवरी के पहले पखवाड़े तक आती है तथा इसके बाद फसल पर मार्च के अंत तक...