हिम धरोहर व इतिहास

बौद्ध धर्म के पुनरूत्थान के सम्बंध में गुगे राज्य का अभूतपूर्व योगदान

“लामा धर्म” अपनी ख्याति के साथ आज भी विद्यमान

तिब्बत, हिमाचल प्रदेश के जनजातीय जिलों किन्नौर तथा लाहुल-स्पिति में बौद्ध धर्म अपनी विलक्षणता के साथ विद्यमान है। गेरूआ वस्त्र पहने लामा, ऊंचाईयों में स्थित बौद्ध मठ, आकर्षक मूर्तियां व...

"शिमला" के दर्शनीय स्थल

“शिमला” के खूबसूरत पर्यटक स्थल….

“मालरोड़ शिमला”  लंदन के मालरोड़ से कम नहीं शिमला जहाँ खूबसूरती हरी वादियों से जाना जाता है वहीं इसकी गोद में शिमला की कई अनमोल धरोहरें व विरासतों की खुबसूरती भी “शिमला” के दर्शनीय...

"श्री रघुनाथ" मन्दिर कुल्लू का इतिहास

“श्री रघुनाथ” मन्दिर कुल्लू का इतिहास

श्री रघुनाथ मन्दिर मंदिर की विशेषता, भगवान रघुनाथ जी के विषय में जानकारी आज भी जगतसिंह के वंशज का बड़ा सुपुत्र श्री रघुनाथ जी का छड़ीदार हिमाचल देवभूमि है। यहां पर अनेकों देवी-देवताओं का वास...

अंतरराष्ट्रीय कुल्लू दशहरा कल से, ना होगा विधिवत शुभारंभ और ना ही समापन

कुल्लू दशहरा उत्सव की ऐतिहासिक और सांस्कृतिक परम्परा और इतिहास…

कुल्लू के दशहरे का अपना इतिहास, पृष्ठभूमि व सांस्कृतिक परम्परा देवी-देवताओं के महासंगम का गवाह : कुल्लू दशहरा कुल्लू में दशहरे का शुभारंभ 17वीं शताब्दी में हुआ देश भर में मनाया जाने वाला...

शिवालिक पर्वत श्रृंखलाओं के आंचल में बसा, स्वर्ण कलशों से सुसज्जित मंदिर “माँ चिंतपूर्णी”

शिवालिक पर्वत श्रृंखलाओं के आंचल में बसा, स्वर्ण कलशों से सुसज्जित मंदिर “माँ चिंतपूर्णी”

त्रिर्गत के तीन शक्तिपीठों में ज्वालाजी, वज्रेश्वरी और चिंतपूर्णी उल्लेखनीय शक्तिपीठ पहला स्थान माता वैष्णों देवी को दिया जाता है, जो जम्मू-कश्मीर में पड़ता है स्वर्ण कलशों से सजा...

हिमाचल प्रदेश में आयुर्वेदिक चिकित्सा एवं जड़ी-बूटियों की ख़ास महत्ता…

हिमाचल: रोग निवारण के लिए प्राचीन काल में लोग आयुर्वेदिक जड़ी-बूटियों, लेप, मन्त्रों और ज्योतिषियों पर ही थे निर्भर जब हम रोगों के निवारण के लिए अपनी आयुर्वेदिक चिकित्सा एवं जड़ी बूटियों पर ही...

कांगड़ा में स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ “श्री ब्रजेश्वरी देवी मंदिर”

कांगड़ा का सशक्त शक्ति मंदिर “श्री ब्रजेश्वरी देवी”

ऐतिहासिक घटनाओं, तन्त्र-मन्त्र सिद्धियों, ज्योतिष विद्याओं, देव परम्पराओं व धार्मिक विश्वासों का प्रतीक मंदिर में मकर संक्रांति मनाने की अनोखी परम्परा मक्खन को घाव, फोड़े-फिंसियों पर...