ताज़ा समाचार

हिम धरोहर व इतिहास

"श्री रघुनाथ" मन्दिर कुल्लू का इतिहास

“श्री रघुनाथ” मन्दिर कुल्लू का इतिहास

श्री रघुनाथ मन्दिर मंदिर की विशेषता, भगवान रघुनाथ जी के विषय में जानकारी आज भी जगतसिंह के वंशज का बड़ा सुपुत्र श्री रघुनाथ जी का छड़ीदार हिमाचल देवभूमि है। यहां पर अनेकों देवी-देवताओं का वास...

शिवालिक पर्वत श्रृंखलाओं के आंचल में बसा, स्वर्ण कलशों से सुसज्जित मंदिर “माँ चिंतपूर्णी”

शिवालिक पर्वत श्रृंखलाओं के आंचल में बसा, स्वर्ण कलशों से सुसज्जित मंदिर “माँ चिंतपूर्णी”

त्रिर्गत के तीन शक्तिपीठों में ज्वालाजी, वज्रेश्वरी और चिंतपूर्णी उल्लेखनीय शक्तिपीठ पहला स्थान माता वैष्णों देवी को दिया जाता है, जो जम्मू-कश्मीर में पड़ता है स्वर्ण कलशों से सजा...

सराहन में गिरा था सती का कान, जिससे प्रकट हुईं “माता भीमाकाली”

सराहन में गिरा था सती का कान, जिससे प्रकट हुईं “माता भीमाकाली”

प्राकृतिक सौंदर्य से परिपूर्ण सराहन  मार्कण्डेय पुराण में “माता भीमाकाली” वर्णन मार्कण्डेय पुराण में वर्णन : राक्षसों के विनाश के लिए मैं हिमाचल भूमि में भीम रूप में प्रकट होउंगी तब मेरा...

हिमाचल के गुज्जर चरवाहे......

हिमाचल के गुज्जर चरवाहा……

…राजा की बेटी ने दुल्हन ने जिद्द की थी कि वह सिरमौर तभी जाएगी यदि उसके साथ गुज्जर भी जाएंगे गुज्जरों का पशुधन भैंसे गुज्जरों का पशुधन भैंसे होती हैं ठीक वैसे ही जैसे गद्दियों की भेड़ें होती...

हिमाचल की पौराणिक स्मृतियों को संजोए महर्षि वशिष्ठ का तपस्या स्थल “वशिष्ठ”

हिमाचल प्रदेश के मनाली से करीब चार किलोमीटर दूर लेह राजमार्ग पर स्थित है वशिष्ठ। एक ऐसा गांव जो अपने दामन में पौराणिक स्मृतियां छुपाये हुए है। महर्षि वशिष्ठ ने इसी स्थान पर बैठकर तपस्या की...

कांगड़ा में स्थित प्रसिद्ध शक्तिपीठ “श्री ब्रजेश्वरी देवी मंदिर”

कांगड़ा का सशक्त शक्ति मंदिर “श्री ब्रजेश्वरी देवी”

ऐतिहासिक घटनाओं, तन्त्र-मन्त्र सिद्धियों, ज्योतिष विद्याओं, देव परम्पराओं व धार्मिक विश्वासों का प्रतीक मंदिर में मकर संक्रांति मनाने की अनोखी परम्परा मक्खन को घाव, फोड़े-फिंसियों पर...

प्रारंभ में एक छोटा सा गांव था "शिमला"

“शिमला”…जो हुआ करता था कभी एक छोटा सा गांव

शिमला हिल स्टेट्स ‘श्यामला’ से लिया गया शिमला का नाम 1808-1809 ई. में सिक्खों और गोरखों की लड़ाई के बाद शिमला से जुड़ा अंग्रेजों का संबंध “शिमला” न केवल हिमाचल की राजधानी है अपितु भारत की शान भी है...