ताज़ा समाचार

तीन साल समग्र विकास और जन कल्याण को समर्पित : अध्यक्ष एवं उपाध्यक्ष

शिमला: हिमाचल प्रदेश औद्योगिक विकास निगम के उपाध्यक्ष अतुल शर्मा, एपीएमसी शिमला और किन्नौर के अध्यक्ष महेन्द्र स्तान तथा एपीएमी कुल्लू एवं लाहुल-स्पीति के अध्यक्ष यूपेंद्र कांत मिश्रा द्वारा 17 फरवरी को शिमला से जारी प्रेस वक्तव्य हिमाचल प्रदेश औद्योगिक विकास निगम के उपाध्यक्ष अतुल शर्मा, एपीएमसी शिमला और किन्नौर के अध्यक्ष महेन्द्र स्तान तथा एपीएमी कुल्लू एवं लाहुल-स्पीति के अध्यक्ष यूपेंद्र कांत मिश्रा ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह के नेतृत्व में वर्तमान कांग्रेस सरकार के तीन वर्षों के कार्यकाल को सफल करार दिया है। उन्होंने कहा कि यह तीन साल समग्र विकास और जन कल्याण को समर्पित रहे हैं।

उन्होंने कहा कि यही कारण रहा कि हाल ही में सम्पन्न हुए पंचायती राज एवं स्थानीय शहरी निकायों के चुनावों में कांग्रेस समर्थित उम्मीदवारों ने 70 प्रतिशत से अधिक सीटें जीती हैं। और जीत का यह क्रम आगे भी जारी रहेगा और दो वर्षों के पश्चात प्रदेश में विधानसभा चुनावों में भी कांग्रेस पुनः जीत दर्ज करेगी।

अतुल शर्मा, महेन्द्र स्तान और यूपेंद्र कांत मिश्रा ने कहा कि प्रदेश सरकार ने गत तीन वर्षों में सरकारी व निजी क्षेत्र में 60 हजार युवाओं को रोजगार प्रदान किया है। इनमें से 27 हजार रोजगार के अवसर सरकारी क्षेत्र में उपलब्ध करवाये गए हैं। उन्होंने कहा कि सामाजिक सुरक्षा पेंशन को 450 रुपये से बढ़ाकर 600 रुपये प्रतिमाह किया गया है। कौशल विकास भत्ता योजना के अन्तर्गत अब तक 1,07,887 युवा लाभान्वित हो चुके हैं।

उन्होंने कहा कि तीव्र औद्योगीकरण के लिए औद्योगिक सलाहकार परिषद् का गठन किया गया है। कांगड़ा ज़िले के कंदरौड़ी तथा ऊना ज़िले के पंडोगा में नए आधुनिक औद्योगिक क्षेत्र विकसित किए जा रहे हैं। प्रदेश में नए उद्योगों की स्थापना को एक ही आवेदन पत्र पर 45 दिनों के भीतर सभी स्वीकृतियां प्रदान की जा रही हैं। एकल खिड़की स्वीकृति एवं अनुश्रवण प्राधिकरण द्वारा इस अवधि के दौरान 11,663 करोड़ रुपये निवेश की 219 इकाइयों को स्वीकृति प्रदान की गई है, जिनमें लगभग 22000 युवाओं को रोजगार उपलब्ध होगा। नए उद्यमियों की सुविधा के लिए स्टाम्प शुल्क एवं भूमि उपयोग हस्तांतरण शुल्क में कटौती की गई है। 300 से अधिक हिमाचलियों को रोज़गार प्रदान करने वाली नई औद्योगिक इकाइयों से पांच वर्षों तक केवल एक प्रतिशत विद्युत शुल्क वसूला जाएगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *