डीडीयू जीकेवाई के तहत हिमाचल प्रदेश के लिए 133 करोड़ रुपये स्वीकृत

डीडीयू जीकेवाई के तहत हिमाचल के लिए 133 करोड़ रुपये स्वीकृत

शिमला: सांसद वीरेन्द्र कश्यप ने कहा कि दीन दयाल उपाध्याय ग्रामीण कौशल योजना- दिशा (डीडीयू जीकेवाई) के तहत केंद्र सरकार द्वारा हिमाचल प्रदेश के लिए 133 करोड़ रुपये स्वीकृत किए गए हैं। यह धनराशि वर्ष 2019 तक की अवधि के लिए स्वीकृत की गई है। वह आज यहां बचत भवन में जिला विकास समन्वय और निगरानी समिति की बैठक की अध्यक्षता करते हुए बोल रहे थे। उन्होंने कहा कि इस योजना के तहत प्रदेश में 15 हजार ग्रामीण युवाओं को कौशल विकास प्रशिक्षण प्रदान किया जाएगा। बैठक में केंद्र सरकार द्वारा प्रायोजित 28 योजनाओं के तहत विभिन्न विकास कार्यों की विस्तृत चर्चा की गई।

वीरेंद्र कश्यप ने सभी अधिकारियों को विभिन्न योजनाओं के तहत लक्षित उद्देश्यां को समयबद्ध हासिल करने के निर्देश देते हुए कहा कि आम आदमी के विकास के लिए हर संभव प्रयास सुनिश्चित किए जाने चाहिए। उन्होंने कहा कि जिला शिमला में राष्ट्रीय ग्रामीण आजीविका मिशन के तहत वर्ष 2014-15 में 236 स्वयं सहायता समूह गठित किए गए हैं और वर्ष 2016-17 में अब तक 228 स्वयं सहायता समूह गठित किए जा चुके हैं। पिछले तीन वर्षों के दौरान जिला शिमला में 2172 स्वयं सहायता समूह गठित किए जा चुके हैं।

उन्होंने स्वच्छ भारत अभियान को सफल बनाने के लिए सभी से आह्वान करने हुए कहा कि स्वच्छता के क्षेत्र में देशभर में हिमाचल प्रदेश के मण्डी जिला को प्रथम, हमीरपुर को पांचवा और शिमला जिला को तीसरा स्थान प्राप्त हुआ है। जिला शिमला में तीन वर्षों में 17,708 व्यक्तिगत शौचालय बनाए जा चुके हैं। वीरेंद्र कश्यप ने कहा कि मनरेगा के तहत जिला शिमला में वर्ष 2015-16 में 14 लाख 63 हजार और वर्ष 2016-17 में अभी तक   5.28 लाख कार्य दिवस सृजित किए गए हैं और मनरेगा के तहत 66.38 फीसदी भुगतान आधार सीडिंग के माध्यम से किया जा रहा है।

जिला में 139 पंचायतों में वाटर शैड कार्यक्रम चलाया जा रहा है, जिसमें लोगों को विभिन्न तरह की सुविधाएं प्रदान की जा रही हैं, साथ ही पर्यावरण संरक्षण भी सुनिश्चित बनाया जा रहा है।

बच्चों तथा महिलाओं के स्वास्थ्य देखभाल के लिए बाल एवं महिला विकास विभाग के माध्यम से कई कार्यक्रम आरंभ किए गए हैं और जिला में वर्तमान में 53 हजार 473 बच्चों को पोषाहार कार्यक्रम के तहत लाभान्वित किया जा रहा है, साथ ही किशोरी शक्ति योजना, बेटी है अनमोल योजना व अन्य योजनाओं के माध्यम से भी लोगों को लाभान्वित किया जा रहा है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *