मुख्यमंत्री ने समर्पित कीं रामपुर के लोगों को 11.25 करोड़ की विकास परियोजनाएं

शिमला : मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने देलठ में 1.60 करोड़ रुपये की लागकत से निर्मित राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला के विज्ञान खण्ड का लोकार्पण किया। उन्होंने देलठ में 2.94 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित पूनन खड्ड से शोली, शरोग, झिंझणू तथा ननखड़ी तहसील में थैली-चकटी ग्रेविटी जलापूर्ति योजना का लोकार्पण किया। इस परियोजना से 4000 से अधिक आबादी लाभान्वित होंगी। उन्होंने देलठ में 40 लाख रुपये की लागत से निर्मित आयुर्वेदिक औषधालय का लोकार्पण भी किया।

उन्होंने बरेच-बेवात सड़क के स्तरोन्यन के लिए भूमि पूजन किया। इस पर 6.31 करोड़ रुपये राशि खर्च होगी। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने क्षेत्र के विकास के लिए अनेक घोषणाएं कीं, जिनमें राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला देलठ में विज्ञान की कक्षाएं आरम्भ करना, देलठ में आईटीआई खोलने की घोषणा, दलेठ के लिए प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, देलठ में लोक निर्माण विभाग के विश्राम गृह के निर्माण की घोषणाओं के अतिरिक्त ननखड़ी पुलिस चैकी को पुलिस स्टेशन में स्तरोन्नत करना तथा सांस्कृतिक गतिविधियों के प्रोत्साहन के लिए विद्यार्थियों को 15 हजार रुपये की घोषणाएं शामिल हैं।

मुख्यमंत्री ने आज शिमला जिला की रामपुर तहसील के पंडाधार और देलठ में जनसभाओं को सम्बोधित करते हुए कहा कि भाजपा झूठे प्रचार कर रही है कि राज्य में चुनाव इसी वर्ष होंगे। पूर्व मुख्यमंत्री प्रेम कुमार धूमल पर चुटकी लेते हुए वीरभद्र सिंह ने कहा कि धूमल को उनके ज्योतिषी भ्रमित कर रहे हैं और वह सत्ता में लौटने के लिए वह व्याकुल दिख रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य विधानसभा के चुनाव निर्धारित समयावधि और सरकार के कार्यकाल के पूरा होने पर ही होंगे।

मुख्यमंत्री ने कहा कि धूमल ने इस वर्ष जनवरी माह में भी मीडिया में इसी प्रकार की बयानबाजी की थी कि राज्य में राजनीतिक अस्थिरता के चलते चुनाव 2017 की बजाय 2016 में हो सकते हैं। उन्होंने कहा कि धूमल कोई ज्योतिषी नहीं है और दिन में सपने देख रहे हैं। उनका यह सपना कभी पूरा नहीं होगा और हमारी सरकार पांच वर्ष का कार्यकाल पूरा करेगी। उन्होंने कहा कि उनके मन में किसी के प्रति दुर्भावना नहीं है, लेकिन राजनीतिक विरोधाभास हमेशा रहता है। वीरभद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस राजनीतिक भेदभाव को दरकिनार कर सभी क्षेत्रों के चहुंमुखी विकास पर विश्वास करती है। मुख्यमंत्री ने स्कूल परिसर में चारदीवारी लगाने, लड़कों व लड़कियों के लिए अलग-अलग शौचालय और स्टाफ के लिए दो शौचालयों के निर्माण के निर्देश दिए। उन्होंने स्कूल परिसर में और अधिक वृक्षारोपण करने तथा स्कूल के सम्पर्क मार्ग को चौड़ा करने के भी निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि राज्य के ग्रामीण क्षेत्रों में अनेक कॉलेज खोले गए हैं। हालांकि, इन कॉलेजों में विद्यार्थियों की संख्या अधिक नहीं है, लेकिन आने वाली पीढ़ियों के भविष्य को ध्यान में रखते हुए ये महाविद्यालय वरदान साबित होंगे।

इससे पूर्व, देलठ ग्राम पंचायत की प्रधान रक्षा देवी और उप प्रधान सतपाल सिंह ने मुख्यमंत्री का स्वागत किया तथा उन्हें सम्मानित किया। उन्होंने देलठ में पालीटेक्निक अथवा आईटीआई की मांग की। उन्होंने अपनी पंचायत में लोक निर्माण विभाग का विश्राम गृह और प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र खोलने का भी आग्रह किया।

मुख्य संसदीय सचिव नंद लाल ने भी मुख्यमंत्री का स्वागत किया और उन्हें सम्मानित किया। उन्होंने क्षेत्र के विकास का श्रेय मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह को देते हुए उनका आभार जताया। इससे पूर्व, देलठ की पूर्व प्रधान कृष्णा राणा ने मुख्यमंत्री राहत कोष के लिए 51 हजार रुपये का चेक मुख्यमंत्री को भेंट किया। शिमला जिला कांग्रेस समिति के अध्यक्ष केहर सिंह खाची, ब्लाक कांग्रेस समिति के अध्यक्ष सतीश वर्मा, राज्य महिला कांग्रेस की महासचिव चन्द्रप्रभा नेगी, कैलाश फेडरेशन के अध्यक्ष बृज लाल, हि.प्र. औद्योगिक विकास निगम के उपाध्यक्ष अतुल शर्मा, नगर परिषद रामपुर की अध्यक्ष मीना कुमारी सहित अन्य गणमान्य व्यक्ति भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

 

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

98  −    =  88