ताज़ा समाचार

एसजेवीएन ने हासिल की ई-आरए में 200 मेगावाट की पवन परियोजना – सीएमडी नन्‍दलाल शर्मा

सीएमडी नन्‍दलाल शर्मा ने जानकारी देते हुए करवाया अवगत- एसजीईएल ने भारत में कहीं भी 1200 मेगावाट ग्रिड से जुड़ी पवन ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना के लिए पवन ऊर्जा डेवलपर्स के चयन के लिए एसईसीआई द्वारा आयोजित टैरिफ आधारित प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया में लिया भाग

200 मेगावाट की पवन परियोजना एसजीईएल द्वारा ईपीसी अनुबंध के माध्यम से भारत में कहीं भी की जाएगी विकसित 

परियोजना के आबंटन के साथ, एसजेवीएन का पवन ऊर्जा पोर्टफोलियो अब 497.6 मेगावाट

शिमला: एसजेवीएन अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍द लाल शर्मा सूचित किया कि एसजेवीएन ने 200 मेगावाट ग्रिड कनेक्ट पवन ऊर्जा परियोजना हासिल की है। एसजेवीएन की पूर्ण स्वामित्व वाली अधीनस्‍थ कंपनी एसजेवीएन ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एसजीईएल) ने सोलर एनर्जी कॉरपोरेशन ऑफ इंडिया लिमिटेड (एसईसीआई) द्वारा आयोजित खुली प्रतिस्पर्धी टैरिफ बोली-प्रक्रिया के पश्‍चात ई-रिवर्स ऑक्शन (ई-आरए) में भाग लिया।

नन्‍द लाल शर्मा ने बताया कि एसजीईएल ने भारत में कहीं भी 1200 मेगावाट ग्रिड से जुड़ी पवन ऊर्जा परियोजनाओं की स्थापना के लिए पवन ऊर्जा डेवलपर्स के चयन के लिए एसईसीआई द्वारा आयोजित टैरिफ आधारित प्रतिस्पर्धी बोली प्रक्रिया में भाग लिया। एसजीईएल ने ओपन कॉम्पिटिटिव टैरिफ बिडिंग प्रोसेस में बिल्ड ओन एंड ऑपरेट (बीओओ) आधार पर 3.24 रुपए प्रति यूनिट के टैरिफ पर 200 मेगावाट की परियोजना हासिल की है।

शर्मा ने आगे अवगत कराया कि 200 मेगावाट की पवन परियोजना एसजीईएल द्वारा ईपीसी अनुबंध के माध्यम से भारत में कहीं भी विकसित की जाएगी। इस परियोजना के आबंटन के साथ, एसजेवीएन का पवन ऊर्जा पोर्टफोलियो अब 497.6 मेगावाट हो गया है। एसजेवीएन की 97.6 मेगावाट की संचयी क्षमता वाली दो परियोजनाएं प्रचालन में हैं और 400 मेगावाट की संचयी क्षमता वाली शेष तीन परियोजनाएं विकास के विभिन्न चरणों में हैं।

नन्‍द लाल शर्मा ने कहा कि इस परियोजना के निर्माण की संभावित लागत 1400 करोड़ रुपए है। कमीशनिंग के पश्‍चात परियोजना से पहले वर्ष में 578 मिलियन यूनिट विद्युत उत्पादन होने की संभावना है और 25 वर्षों की अवधि में अनुमानित संचयी ऊर्जा उत्पादन 14454 मिलियन यूनिट है। परियोजना को विद्युत खरीद करार (पीएसए) पर हस्ताक्षर करने की तिथि से 24 माह की अवधि में कमीशन किया जाएगा। इस परियोजना की कमीशनिंग से 708246 टन कार्बन उत्सर्जन कम होने की आशा है। एसजेवीएन के पास अब, विकास के विभिन्न चरणों में 78 परियोजनाओं के साथ 49065 मेगावाट का परियोजना पोर्टफोलियो है और वर्ष 2023-24 तक 5000 मेगावाट, 2030 तक 25,000 मेगावाट और वर्ष 2040 तक 50,000 मेगावाट क्षमता के अपने साझा विजन को प्राप्त करने के लिए अग्रसर है।

सम्बंधित समाचार

Comments are closed