पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक: करवा चौथ

पति-पत्नी के मजबूत रिश्ते, प्यार और विश्वास का प्रतीक: करवा चौथ

सभी विवाहित (सुहागिन) महिलाओं के लिये करवा चौथ बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार

सभी विवाहित (सुहागिन) महिलाओं के लिये करवा चौथ बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार

सभी विवाहित (सुहागिन) महिलाओं के लिये करवा चौथ बहुत महत्वपूर्ण त्यौहार हैं। ये एक दिन का त्यौहार प्रत्येक वर्ष मुख्यतः उत्तरी भारत की विवाहित (सुहागिन) महिलाओं द्वारा मनाया जाता है। इस दिन विवाहित (सुहागिन) महिलाएँ पूरे दिन का उपवास रखती हैं जो जल्दी सुबह सूर्योदय के साथ शुरु होता है और देर शाम या कभी कभी देर रात को चन्द्रोदय के बाद खत्म होता है। वे अपने पति की सुरक्षित और लम्बी उम्र के लिये बिना पानी और बिना भोजन के पूरे दिन बहुत कठिन व्रत रखती हैं। पहले ये एक पारंपरिक त्यौहार था जो विशेष रूप से भारतीय राज्यों राजस्थान, हिमाचल प्रदेश, उत्तर प्रदेश के कुछ भागों, हरियाणा और पंजाब में मनाया जाता था हालांकि, आज कल ये भारत के लगभग प्रत्येक क्षेत्र में सभी महिलाओं द्वारा मनाया जाता है।

करवा चौथ की उत्पत्ति और कहानी : करवा चौथ का अर्थ उपवास है और कार्तिक माह के कृष्ण पक्ष की चतुर्थी पर करवा (मिट्टी के बर्तन) का उपयोग कर के चंद्रमा को अर्घ्य देना है। करवा चौथ हर साल अंधेरे पखवाड़े के चौथे दिन पडता है। भारतीय उपमहाद्वीप के उत्तर-पश्चिमी भाग में महिलाओं द्वारा करवा चौथ के त्यौहार का जश्न अभी स्पष्ट नहीं है हालांकि इसे मनाने के कुछ कारण अस्तित्व में है। यह माना जाता है कि महिलाऍ को अपने पति के स्वस्थ और लंबे जीवन के लिए भगवान से प्रार्थना करती है जब वे घर से बाहर अपने कर्तव्य या अन्य कठिन अभियानों पर होते हैं जैसे भारतीय सैनिक, पुलिसकर्मी, सैन्य कर्मचारी इत्यादि। भारतीय सैनिक अपने घर से दूर पूरे देश की सुरक्षा के लिए देश की सीमा पर बहुत कठिन ड्यूटी करते हैं। वे सूखे क्षेत्रों में कई नदियों को पार करके मानसून के मौसम को झेलते हुये और भी कई चुनौतियों का सामना करते हुये अपने कर्तव्य का पालन करते हैं। तो, उनकी पत्नियॉ अपने पतियों की सुरक्षा, दीर्घायु और कल्याण के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं। महिलाऍ पूरे दिन को बिना खाना खाये और पानी की एक बूंद भी पीये बिना अपने पति की सुरक्षा के लिए जहॉ कहीं भी वे अपने घर से दूर अपने मिशन पर होते हैं के लिए व्रत रहती है। यह त्यौहार गेहूं की बुवाई के दौरान अर्थात् रबी फसल चक्र के शुरू में होता है। एक औरत बड़े मिट्टी के बर्तन (कार्व) गेहूं अनाज के साथ भर कर के पूजा करती हैं और विशेष रूप से गेहूं खाने वाले क्षेत्रों में इस मौसम में अच्छी फसल के लिए भगवान से प्रार्थना करती हैं।

महिलाओं द्वारा करवा चौथ का जश्न मनाने के पीछे एक और कहानी खुद के लिए है। बहुत समय पहले, जब लङकियों की शादी किशोरावस्था या और भी जल्दी 10,12 या 13 साल की उम्र में हे जाती थी, उन्हें अपने माता-पिता के घर से दूर अपने पति और ससुराल वालों के साथ जाना पड़ता था। उसे घर के सभी कामों को, ससुराल वालों के कामों के साथ साथ घर के बाहर खेतों के भी कामों को करना पड़ता था। वह बस उसके ससुराल वालों के घर में एक पूर्णकालिक नौकर की तरह थी। उसे हर किसी की जिम्मेदारी खुद लेनी पड़ती थी। ऐसे मामलों में यदि उसे ससुराल वालों से कुछ समस्या है, तो उसके पास कोई विकल्प नहीं था जैसे वापस घर जाना हो, रिश्तेदार, मित्र, आदि। पहले के दिनों में परंपरा थी, कि एक बार दुल्हन के दूल्हे के घर आने के बाद वह लंबे समय के लिये या जीवन में केवल एक या दो बार माता-पिता के से ज्यादा अपने घर नहीं जा सकेंगीं।

इस समस्या या अकेलेपन को हल करने के लिए महिलाओं ने उसी गॉव में जिसमें उनकी शादी हुई है वहॉ अच्छे समर्थन कर्त्ता दोस्त या बहन (धर्म दोस्त या धर्म बहन) (गांव की अन्य विवाहित महिलाओं) बनाने के लिये कार्तिक के महीने में चतुर्थी पर करवा चौथ का जश्न मना करना शुरू कर दिया। वे एक साथ मिलती, बात करती, अच्छे और बुरे क्षणों के बारे में चर्चा करती,हॅसती, अपने आप को सजाती, एक नयी दुल्हन की तरह बहुत सारी गतिविधियॉ करती और खुद को फिर से याद करती। इस तरह वे,कभी खुद को अकेली या दुखी महसूस नहीं करती थी। करवा चौथ के दिन वे कार्व खरीदती और एक साथ पूजा करती थी। वे विवाहित महिलाओं का कुछ सामान भी उपहार में (जैसे चूड़ियां, बिंदी, रिबन, लिपस्टिक, झुमके, नेल पॉलिश, सिंदूर, घर का बना कैंडी, मिठाई, मेकअप आइटम, छोटे कपड़े और अन्य तरह की वस्तुऍ) अन्य विवाहित महिलाओं को यह अहसास कराने के लिये देती कि उनके लिये भी कोई है। तो पुराने समय में करवा चौथ का त्यौहार आनंद और धर्म दोस्तों या धर्म बहनों के बीच विशेष बंधन को मजबूत करने के लिए एक उत्सव के रूप में शुरू किया गया था।

Pages: 1 2

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *