ताज़ा समाचार

राज्य स्तरीय लघु शिवरात्रि मेला के दौरान आयोजित होंगी महिला मंडलों की विभिन्न खेल स्पर्धाएं

रस्साकशी, मटका फोड, रंगोली, लोकनृत्य, चेयर रेस इत्यादि स्पर्धाओं में भाग लेंगी महिलाएं

जोगिन्दर नगर:  एक से पांच अप्रैल तक मनाए जाने वाले राज्य स्तरीय लघु शिवरात्रि मेला जोगिन्दर नगर में महिला मंडलों के लिए भी विभिन्न खेल एवं सांस्कृतिक स्पर्धाओं का आयोजन किया जा रहा है। जिनमें रस्साकशी, मटका फोड, मटकी दौड़, रंगोली, लोकनृत्य, समूह गायन, चेयर रेस इत्यादि शामिल हैं।

इस संबंध में जानकारी देते हुए मेला समिति अध्यक्ष एवं एसडीएम जोगिन्दर नगर मनीश चौधरी ने बताया कि जोगिन्दर नगर मेला के दौरान महिला मंडलों के लिए विभिन्न खेल व सांस्कृतिक स्पर्धाएं आयोजित की जा रही हैं। इन विभिन्न खेल व सांस्कृतिक स्पर्धाओं के आयोजन के लिए प्रधानाचार्य आईटीआई ई. नवीन कुमारी के संयोजन में एक समिति का गठन किया गया है।

उन्होंने बताया कि मतदाता जागरूकता पर आधारित थीम पर रंगोली प्रतियोगिता का आयोजन एक अप्रैल को प्रात: 10 बजे से लेकर 11 बजे तक किया जाएगा। रंगोली प्रतियोगिता में भाग लेने के लिए पंजीकरण प्रातः 9 बजकर 45 मिनट तक किया जाएगा। इसके अलावा विभिन्न खेल व सांस्कृतिक स्पर्धाओं में भाग लेने के लिए पंजीकरण एक अप्रैल सायं पांच बजे तक किया जाएगा। खेल व सांस्कृतिक स्पर्धाओं के आयोजन के लिए खेल कोच रीता ठाकुर, ऑफिस कानूनगो तहसील कार्यालय जोगिन्दर नगर लता देवी तथा ग्रामीण राजस्व अधिकारी टिकरू दीपा कुमारी को शामिल किया गया है।

एसडीएम ने बताया कि रस्साकशी प्रतियोगिता का आयोजन 2 अप्रैल, मटका फोड व मटकी रेस का आयोजन 3 अप्रैल तथा म्यूजिकल चेयर रेस का आयोजन 4 अप्रैल को किया जाएगा। ये सभी स्पर्धाएं प्रत्येक दिन प्रात: साढ़े नौ बजे से लेकर दोपहर साढ़े 12 बजे तक मेला ग्राउंड में आयोजित होंगी। उन्होंने बताया कि यदि म्युजिकल चेयर रेस के लिए प्रतिभागी कम होंगी तो यह स्पर्धा भी 3 तीन अप्रैल को ही आयोजित कर ली जाएगी।

उन्होंने बताया कि समूह गायन स्पर्धा का आयोजन 2 अप्रैल तथा लोक नृत्य का आयोजन 3 व 4 अप्रैल को रितु कला मंच पुराने मैला मैदान में किया जाएगा। उन्होंने बताया कि समूह गायन स्पर्धा के लिए समय 5 से 7 मिनट रहेगा जबकि प्रतिभागियों की संख्या 10 होनी चाहिए। इसी तरह लोकनृत्य स्पर्धा के लिए समय 7 से 10 मिनट तथा प्रतिभागी 20 होने चाहिए।

सम्बंधित समाचार

Comments are closed