ताज़ा समाचार

एसजेवीएन ने सौर परियोजना के विकास हेतु बीबीएमबी के साथ किया विद्युत क्रय करार हस्‍ताक्षरित – सीएमडी नन्‍द लाल शर्मा

सीएमडी नन्‍द लाल शर्मा ने जानकारी देते हुए करवाया अवगत- परियोजना 12 महीनों के भीतर बिल्‍ड ऑन एंड ऑपरेट के आधार पर विकसित की जाएगी और इसमें लगभग 90 करोड़ का किया जा रहा है निवेश 

शिमला: एसजेवीएन अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नन्‍द लाल शर्मा  की मौजूदगी में आज शिमला में भाखड़ा ब्यास प्रबंधन बोर्ड (बीबीएमबी) के साथ 18 मेगावाट सौर ऊर्जा के लिए विद्युत क्रय करार  पर हस्ताक्षर किए।

 नन्‍द लाल शर्मा ने अवगत करवाया कि एसजेवीएन ने अपनी पूर्ण स्वामित्व वाली अधीनस्‍थ कंपनी एसजेवीएन ग्रीन एनर्जी लिमिटेड (एसजीईएल) के माध्यम से 18 मेगावाट सौर विद्युत के लिए  बीबीएमबी के साथ पीपीए पर हस्ताक्षर किए। यह परियोजना हिमाचल प्रदेश एवं पंजाब राज्यों में बीबीएमबी के भू-भागों पर विकसित की जाएगी। इस परियोजना को अगस्त 2024 तक कमीशन किया जाएगा ।

शर्मा ने कहा कि परियोजना 12 महीनों के भीतर बिल्‍ड ऑन एंड ऑपरेट के आधार पर विकसित की जाएगी और इसमें लगभग 90 करोड़ रुपए का निवेश किया जा रहा है।”

 नन्‍द लाल शर्मा ने आगे कहा कि इस परियोजना को पंजाब ऊर्जा विकास एजेंसी द्वारा आयोजित ई-रिवर्स नीलामी में 2.63/- रुपए के टैरिफ पर ओपन प्रतिस्पर्धी बोली के माध्यम से हासिल किया गया है। परियोजना प्रचालन के पहले वर्ष में 39.42 मिलियन यूनिट ऊर्जा उत्पन्न करेगी और 25 वर्षों की अवधि में संचयी ऊर्जा उत्पादन लगभग 917 मिलियन यूनिट होगा। परियोजना से उत्पादित विद्युत के लिए बीबीएमबी के साथ 25 वर्षों के लिए विद्युत क्रय करार किया गया है। इस परियोजना के कमीशन होने से 44,923 टन कार्बन उत्सर्जन कम होने की उम्मीद है।

विद्युत क्रय करार पर एसजीईएल के सीईओ अजय सिंह और बीबीएमबी के विशेष सचिव अजय शर्मा ने हस्ताक्षर किए। इस अवसर पर निदेशक (कार्मिक), एसजेवीएन गीता कपूर,  एसजेवीएन निदेशक (वित्त) अखिलेश्वर सिंह ,  निदेशक (विद्युत), एसजेवीएन सुशील शर्मा, सदस्य (पी), बीबीएमबी एएस जुनेजा,  एफए एवं सीएओ जेएस काहलों, बीबीएमबी और सुरजीत सिंह निदेशक (पी एंड डी) बीबीएमबी  के साथ एसजेवीएन एवं बीबीएमबी के अन्य वरिष्ठ अधिकारी भी उपस्थित रहे।

विद्युत मंत्रालय के अधीन एक अग्रणी सीपीएसयू, एसजेवीएन ने वर्ष 2030 तक 25000 मेगावाट और वर्ष 2040 तक 50000 मेगावाट की कंपनी बनने के अपने साझा विजन की ओर आगे बढ़ते हुए तीन वर्षों में 10,000 मेगावाट से अधिक नवीकरणीय ऊर्जा क्षमता स्थापित करने की योजना बनाई है।

सम्बंधित समाचार

Comments are closed