मकर सक्रांति क्या है, जानें सूर्य की पूजा और स्नान का महत्व व समय : कालयोगी आचार्य महिंदर शर्मा

मकर संक्रांति का त्योहार पौष माह की शुक्ल पक्ष की द्वादशी तिथि को मनाया जाता है। सूर्य जब मकर राशि में प्रवेश करते हैं तो इसे मकर संक्रांति कहा जाता है। इस वर्ष मकर संक्रांति का पर्व ज्यादा खास रहने वाला है। इस साल 14 जनवरी को मकर संक्रांति के दिन सूर्य और शनि एक साथ मकर राशि में विराजमान होंगे।

मकर संक्रांति की तारीख और शुभ मुहूर्त इस साल 14 और 15 जनवरी दोनों ही दिन पुण्यकाल और स्नान, दान का मुहूर्त बन रहा है। हालांकि, ज्यादा उत्तम तिथि 14 जनवरी ही होगी। हालांकि, ज्यादा उत्तम तिथि 14 जनवरी ही होगी। हिमाचल के शिमला के अनुसार 14 को ही पुण्य दान और स्नान का है वैसे पंचांग के अनुसार ही मकर संक्रांति का पर्व मनाएं।

बनारस के पंचांग में सायंकाल का मुहूर्त बताया गया है, लेकिन राजधानी दिल्ली के पंचांग में दोपहर का समय बताया गया है। उत्तरायण काल में संक्रांति का शुभ मुहूर्त शुकवार, 14 जनवरी को दोपहर 2 बजकर 43 मिनट से लेकर शाम 5 बजकर 45 मिनट तक रहेगा।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *