सीएम ने स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना, स्टार्टअप इंडिया यात्रा शुरू करने वाला नौंवां राज्य बना "हिमाचल"

सीएम ने स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना, स्टार्टअप इंडिया यात्रा शुरू करने वाला नौंवां राज्य बना “हिमाचल”

  • हिमाचल स्टार्टअप युवाओं के लिए रोजगार के मार्ग प्रशस्त करेगा : मुख्यमंत्री

शिमला: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां अपने अधिकारिक आवास ओक ओवर से राज्य के लिए स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि हिमाचल स्टार्टअप रोज़गार प्राप्त करने के इच्छुक शिक्षित युवाओं को स्वरोजगार का मार्ग प्रशस्त कर उन्हें और युवाओं को रोजगार प्रदान करवाने के लिए सक्षम बनाएगा। स्टार्टअप तथा नवाचार परियोजनाओं को समर्थन प्रदान करने के उद्देश्य से राज्य सरकार उद्यमिता विकसित करने के लिए युवाओुं को हर संभव सहायता प्रदान करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह योजना देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक उपहार है, जो स्टार्टअप के लिए विभिन्न प्रोत्साहन प्रदान करती है, ताकि उद्यमियों को अपने कारोबार में सफलता हासिल करने के लिए सक्षम बनाया जा सके। यह योजना युवाओं को उनके नवाचारों को अगले स्तर तक ले जाने का अवसर प्रदान करती है, जहां वे सही मायने में बदलाव ला सकें। उन्होंने कहा कि यह यात्रा शिमला, सोलन, सिरमौर, हमीरपुर, कांगड़ा, चम्बा, कुल्लू तथा मण्डी जिलों के विभिन्न शिक्षण संस्थानों से होकर गुजरेगी। यात्रा आगामी 30 नवम्बर को आईआईटी मण्डी में सम्पन्न होगी।

जय राम ठाकुर ने कहा कि योजना में क्षमता निर्माण, नेटवर्किंग विकास, आवश्यक अधोसंरचना स्थापित करना तथा जागरूकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से राज्य के मेजबान संस्थानों में इन्क्यूबेशन केन्द्रों के सृजन का प्रावधान है। राज्य में इन्क्यूबेशन केन्द्रों के लिए आईआईटी मण्डी, एनआईटी हमीरपुर, कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर, विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद, बागवानी विश्वविद्यालय नौणी, बीड़ प्रौद्योगिकी पार्क, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, सीएसआईआर पालमपुर तथा जे.पी. विश्वविद्यालय वाकनाघाट को चयनित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य रोजगार तथा स्वरोजगार सृजित करना, उद्यमियों के कौशल का उन्नयन तथा पेशेवर मार्गदर्शन के तहत उन्हें अपनी इकाइयां स्थापित करने के लिए समर्थन प्रदान करना है। योजना निर्माण तथा सेवा क्षेत्रों के संभावित क्षेत्रों में व्यवहार्य परियोजनाओं का चयन करने के लिए उद्यमियों को सहायता प्रदान करना तथा उन्हें स्टार्ट-अप शुरू करने और पेशेवर तरीके से इसका संचालन करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करना है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *