प्रदेश ने की शिशुओं, धात्री और गर्भवती महिलाओं को उचित आहार और पोषण प्रदान करने में उल्लेखनीय प्रगति

प्रदेश ने की शिशुओं, धात्री और गर्भवती महिलाओं को उचित आहार और पोषण प्रदान करने में उल्लेखनीय प्रगति

रीना ठाकुर/शिमला:महिला एवं बाल कल्याण निदेशालय, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग द्वारा बेटी बचाओ, बेटी पढाओ और पोषण अभियान के अंतर्गत आयोजित सम्मान तथा पुरस्कार वितरण समारोह की अध्यक्षता करते हुए मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने कहा कि भारत 21वीं शताब्दी में तीव्र गति से आगे बढ़ रहा है, परन्तु देश की कुछ आबादी उचित पोषण से वंचित है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि हिमाचल प्रदेश ने नवजात शिशुओं, धात्री और गर्भवती महिलाओं को उचित आहार और पोषण उपलब्ध करवाने में उल्लेखनीय प्रगति की है। इसका श्रेय महिला एवं बाल कल्याण निदेशालय, पंचायती राज संस्थाओं और धरातल पर क्रियाशील संस्थाओं को प्रभावी ढंग से कार्य करने के लिए जाता है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि पोषण अभियान का शुभारम्भ गत वर्ष मार्च मह में झुनझुनू राजस्थान से किया था। सरकार नवजात शिशुओं को पोषक आहार प्रदान कर स्वस्थ राष्ट्र बनाने के लिए प्रयासरत है। उन्होंने कहा कि हिमाचल के शिमला, ऊना, कांगड़ा और कुल्लू जिलों ने राष्ट्रीय स्तर पर बेटी बचाओ, बेटी पढाओ अभियान 2018-19 के लिए पुरस्कार प्राप्त किए है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ताओं के परिश्रम को ध्यान में रखते हुए राज्य सरकार ने आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ताओं को 1800 रुपये, मिनी आंगनबाड़ी कार्यकर्त्ताओं को 1100 रुपये और सहायिकाओं को 900 रुपये का प्रति माह का अतिरिक्त मानदेय दे रही हैं। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पर्यवेक्षकों के पद से बाल विकास परियोजना अधिकारियों के पदों पर पदोन्नति करने के लिए भर्ती व पदोन्नति नियमों में 25 प्रतिशत का प्रावधान किया है ताकि पर्यवेक्षकों को पदोन्नति के अवसर प्राप्त हो सके।

उन्होंने दिव्यांग बच्चें जिन्होंने मार्च, 2019 में आबुधाबी में आयोजित विशेष ओलम्पिक वैश्विक ग्रीष्मकालीन प्रतिस्पर्धा के दौरान पदक हासिल किए थे को 5.25 लाख रुपये के नकद ईनाम वितरित किए। उन्होंने जिला ऊना के रघुनाथ सिंह को 1.25 लाख रुपये और जिला बिलासपुर के शुभम को साईकलिंग के लिए एक लाख रुपये का नकद ईनाम, जिला मण्डी की निशा धवन को एथेलेटिक्स के लिए 75 हजार रुपये, जिला बिलासपुर की पूजा कुमारी को पॉवर लिफि्ंटग के लिए 75 हजार रुपये, जिला मण्डी के विनोद कुमार और अभिषेक कुमार को वॉलीबॉल के लिए 50-50 हजार रुपये और जिला मण्डी के चिराग को बास्केटबॉल के लिए 50 हजार रुपये के पुरस्कार वितरित किए।

मुख्यमंत्री ने अतिरिक्त मुख्य सचिव सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता निशा सिंह, अतिरिक्त मुख्य सचिव स्वास्थ्य आर.डी. धीमान, सचिव ग्रामीण विकास और पंचायती राज डॉ. आर.एन. बत्ता को भी प्रदेश में पोषण अभियान को लागू करने में उनके योगदान के लिए सम्मानित किया। 

उन्होंने इस अवसर पर उपायुक्त शिमला अमीत कश्यप, उपायुक्त ऊना संदीप कुमार, उपायुक्त कुल्लू डॉ. रिचा वर्मा और उपायुक्त कांगड़ा राकेश प्रजापति को सम्बन्धित जिलों में सराहनीय उपलब्धियों और पोषण अभियान के तहत राष्ट्रीय पुरस्कार जीतने के लिए सम्मानित किया।

उन्होंने राज्य में पोषण अभियान को प्रभावी रूप से लागू करने के लिए निदेशक ग्रामीण विकास राकेश कंवर, निदेशक उद्योग हंस राज शर्मा, निदेशक ई.एस.ओ.एम.एस.ए. हंस राज चौहान और विशेष सचिव वित्त राजेश शर्मा को सम्मानित किया। इसके अतिरिक्त उन्होंने राज्य सरकार के अधिकारियों, आंगनवाड़ी कार्यकर्ताओं, सहायिकाओं और आई.सी.डी.एस. केन्द्रों को भी उनके योगदान के लिए सम्मानित किया। 

सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता मंत्री डॉ. राजीव सैजल ने कहा कि प्रदेश सरकार मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर के गतिशील नेतृत्व में समाज के कमज़ोर वर्गों के उत्थान के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने पिछले डेढ़ वर्षों में समाज के पिछड़े वर्गों के सामाजिक-आर्थिक उत्थान के लिए विभिन्न कल्याणकारी योजनाएं आरम्भ की हैं। 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *