तीन वर्षों में 5 लाख हथकरघा बुनकरों को मिलेंगे मुद्रा ऋण

हथकरघा व हस्तकलाओं को प्रोत्साहित करने के लिए नियमित बाजार सुविधा होगी उपलब्ध

नई दिल्ली: भारत सरकार ने हथकरघा तथा दस्तकारी प्रोत्साहन के लिए नियमित बाजार सुविधा उपलब्ध कराने के उद्देश्य से देश के विभिन्न भागों के बड़े शहरों में नियमित प्रदर्शनी/बिक्री उत्सव आयोजित करने का निर्णय लिया है। प्रारंभ में दिल्ली हॉट की तर्ज पर राष्ट्रीय राजधानी में पूरे वर्ष प्रदर्शनी/बिक्री उत्सव का आयोजन किया जाएगा। इस तरह के आयोजन क्राफ्ट म्यूजियम, हैंडलूम परिसर जनपथ तथा प्रगति मैदान के अंदर वातानुकूलित हॉल में किया जाएगा। बाद में ऐसे आयोजन अन्य शहरों में किए जाएंगे

दिल्ली में ऐसे आयोजन 10/15 दिनों के लिए 5/7 दिनों के अंतराल पर किए जाएंगे। क्राफ्ट म्यूजियम प्रदर्शनी/बिक्री उत्सव में हस्तकला क्षेत्र का प्रभाव रहेगा, जबकि अन्य दो स्थानों पर हैंडलूम क्षेत्र का। लेकिन सभी स्थानों पर दोनों श्रेणियों के उत्पाद उपलब्ध होंगे। साथ में राज्य विशेष खान-पान की सुविधा और सांस्कृतिक कार्यक्रम भी होंगे। ऐसे आयोजनों के कैलेंडरों को राज्य की सलाह से तैयार किया जाएगा और विकास आयुक्त (हैंडलूम)/विकास आयुक्त (दस्तकारी) द्वारा इसे अंतिम रूप दिया जाएगा। कपड़ा मंत्रालय की वर्तमान योजना से इसका खर्च वहन किया जाएगा।

टूर ऑपरेटरों तथा हॉटलों तक प्रचार की जिम्मेदारी पर्यटन मंत्रालय की होगी। संस्कृति मंत्रालय प्रदर्शनी/बिक्री उत्सव के दौरान सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन राज्य सरकारों की सहायता से करेगा। बुनकरों/दस्तकारों तथा सांस्कृतिक कार्यक्रम में हिस्सा लेने वालों के लिए उचित दर पर ठहरने और आने-जाने की व्यवस्था डीसी (हैंडलूम) तथा डीसी (दस्तकारी) द्वारा की जाएगी। सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए जनपथ परिसर तथा क्राफ्ट म्यूजियम में स्थायी सुविधा तैयार की जाएगी। दिल्ली की तरह देश के अन्य शहरों में भी इस तरह के आयोजन किए जाएंगे। शहरों की पहचान राज्यों द्वारा स्वीकृत पर्यटन परियोजनाओं से मिलाकर किया जाएगा।

संदर्भ माननीय प्रधानमंत्री ने जून 2014 में कपड़ा क्षेत्र की समीक्षा के दौरान हैंडलूम तथा दस्तकारी को पर्यटन के साथ जोड़ने के लिए विशेष प्रयास करने की सलाह दी थी। इसी के अनुरूप कपड़ा मंत्रालय तथा पर्यटन मंत्रालय ने मिलकर वर्तमान योजनाओं को पर्यटन से जोड़ने के लिए रूपरेखा तैयार की।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *