कुल्लू: गिफ्ट के बहाने महिला से ठगे लाखों रूपये, यूपी से गिरफ्तार किए 2 आरोपी

कुल्लू: गिफ्ट के बहाने महिला से ठगे लाखों रूपये, यूपी से गिरफ्तार किए 2 आरोपी

कुल्लू: कुल्लू पुलिस में 30 जनवरी को 28 वर्षीय शालंग निवासी एक महिला शिकायतकर्ता ने प्राथमिकी दर्ज कराई कि इसका एक पर्सनल फेसबुक अकाउंट है। जिस पर पिछले साल उसकी दोस्ती  अल्बर्ट जॉनसन नामक एक व्यक्ति के साथ हो गई और फिर बाद में ये दोनों आपस में व्हाट्सएप पर भी बात करने लगे।

एक दिन अल्बर्ट ने महिला को कहा कि वो इसके लिए एक गिफ्ट पार्सल भेज रहा है। 3 दिन बाद उसे मुंबई से फोन आया कि आपका गिफ्ट पार्सल मुंबई पहुंच गया है और महिला को 65,950 रू फीस के तौर पर जमा करने को कहा। महिला ने पैसे जमा करा दिए। फिर बाद में फोन आया कि आपका पार्सल एयरपोर्ट पर स्कैन किया गया जिसमें सोने चांदी के कई आभूषण और 80 हजार पाउंड है लेकिन इसको लेने के लिए इसे 3 लाख रुपए का इनकम टैक्स देना पड़ेगा। महिला शिकायतकर्ता ने फिर आरोपी के एकाउंट में 3 लाख रुपए जमा करा दिए। इसके बाद एक के बाद एक कमी का बहाना लगाकर आरोपी शिकायतकर्ता से पैसे मांगता रहा और अपने परिवारवालों व रिश्तेदारों से पैसे उधार लेकर जमा कराती रही। इस तरह से इसने आरोपी के अलग अलग खातों में करीब 25 लाख रूपए जमा करा दिए।
थाना में सूचना मिलते ही पुलिस ने 420 आईपीसी में मुकदमा दर्ज कर जांच शुरू की। इसमें कुल्लू साइबर सेल के एक कॉन्स्टेबल ने आरोपी से डेढ़ महीने तक लड़की बनकर फेसबुक पर बात की और उसकी जानकारी ली। साथ ही आरोपी को पुलिस केस की भनक न लगे इसके लिए शिकायतकर्ता की भी बात जारी रखी। साथ ही आरोपी के कई सारे बैंक अकाउंट और फेसबुक व्हाट्सएप की डिटेल्स की जांच की और इसके गैंग में शामिल अन्य आरोपियों का पता लगाया। जिस पर कल रात इस गैंग के दो मुख्य आरोपी रवि प्रकाश सिंह पुत्र शंभू सिंह गांव तुर्कवालिया थाना पीपीगंज जिला गोरखपुर उत्तर प्रदेश उम्र 34 वर्ष  और दूसरा  पुत्र  बृज बिहारी शर्मा गांव व डाकघर जम्मूतवी जिला भोजपुर बिहार हाल गांव राम जानकी नगर थाना गोरखपुर उत्तर प्रदेश उम्र 30 साल है। कुल्लू पुलिस की एक स्पेशल टीम ने गोरखपुर से गिरफ्तार किया है। आरोपियों से फ्रॉड के लिए इस्तेमाल किए गए एटीएम कार्ड्स,पास बुक, चेक बुक, स्टाम्प पैड आदि बरामद किए गए हैं।
इन आरोपियों ने कई नेपाली लोगों का जाली आधार कार्ड बनवाकर उनके बैंक अकाउंट्स खुलवाए और सिम कार्ड खरीदें। इसके लिए इन्होंने प्रधान और पार्षद के जाली लेटर पैड पर हस्ताक्षर व मुहर लगाकर इन लोगों के सत्यापन बनवाए और इनके अकाउंट्स में लोगों के साथ फ्रॉड करके पैसा डलवाकर निकाल लेते थे। इन्होंने 50 से भी ज्यादा जाली अकाउंट्स व सिम कार्ड बनवाए। कुल्लू थाना के मुकदमे में इन्होंने ऐसे 10 जाली अकाउंट्स व सिम कार्ड जिसमें 7 नेपाली व 3 भारतीयों के हैं को इस्तेमाल किया जिनको फ्रीज कर दिया गया है।
आरोपी इस सिंडिकेट को दिल्ली, गोरखपुर,मुरादाबाद, लखनऊ, निरसा झारखंड,बिहार व पश्चिम बंगाल आदि जगहों से चलाते थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *