हिमुडा लैंड स्कैम की जांच की बजाए गुपचुप बकाया भुगतान करने जा रही सरकार : राणा

हिमुडा लैंड स्कैम की जांच की बजाए गुपचुप बकाया भुगतान करने जा रही सरकार : राणा

  • कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा ने लगाया आरोप, कहा : बड़ा लैंड स्कैंडल पर चुप बैठी है सरकार

शिमला: सुजानपुर से कांग्रेस विधायक राजेंद्र राणा द्वारा गत माह प्रदेश सरकार पर हिमुडा द्वारा खरीदी जा रही जमीनों में भारी अनियमितताओं के आरोप लगाने के बाद अब उन्होंने संदेह जताया है कि आज तक इस मामले में जांच न होने के पीछे प्रदेश भाजपा सरकार की कहीं न कहीं शह प्राप्त है।जारी प्रेस विज्ञप्ति में उन्होंने कहा कि ऊना जिला के दुर्गम क्षेत्र छेत्रा में खरीदी गई करीब 29 करोड़ रूपए की लगभग 630 कनाल जमीन का शेष भुगतान गुपचुप तरीके से हिमुडा करने जा रहा है, जबकि इस भूमि की कीमत 50 हजार रूपए प्रति कनाल है और हिमुडा ने इसे भारी दामों पर 4.11 लाख रूपए प्रति कनाल की दर से खरीदा है। उन्होंने कहा कि कीक बैक की चर्चाएं पूरे प्रदेश में हो रही है कि सरकार इतने बड़े लैंड स्कैंडल पर चुप्पी साध कर बैठी हुई है तथा सरकार के इशारे पर सारा खेल खेला जा रहा है लेकिन विपक्ष इस पर चुप नहीं रहेगा और विधानसभा के शीतकालीन सत्र में भी इस विषय को उठाया जाएगा।राजेंद्र राणा ने कहा कि पहले से 100 करोड़ रूपए के कर्ज का ब्याज चुकाना हिमुडा के लिए मुश्किल है लेकिन सरकार ने पूरा दबाव डाल रखा है कि छेत्रा की जमीन की बकाया राशि का भुगतान करने के लिए और कर्ज लिया जाए। उन्होंने कहा कि ऐसा पहली बार हो रहा है कि पिछले दो सालों में हिमुडा द्वारा खरीदी गई जमीनों पर आगे कोई भी काम नहीं हो पाया है। धर्मशाला और देहरा में भी हिमुडा ने बैंक से भारी कर्जे उठाकर जमीनें खरीद रखी हैं। लेकिन इनके उपयोग की कोई भी कार्य योजना अभी तक नहीं बनी है।उन्होंने सवाल उठाया कि आखिर मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर इस मसले की जांच क्यों नहीं करवा रहे हैं।क्यों सीबीआई जांच करवाने से सरकार डर रही है। कहीं उनको डर है कि इसमें शामिल लोगों के नाम सार्वजनिक हो जाएंगे। आखिर यह कैसी ईमानदार सरकार है जिसकी नाक के नीचे भ्रष्टाचार चरम पर फैल रहा है।उन्होंने अधिकारियों को चेतावनी दी कि वे किसी के बहकावे व दबाव में आकर गलत काम न करें, अन्यथा परिणाम भुगतने के लिए भी तैयार रहें।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *