अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में नौणी के पीएचडी छात्र ने जीता प्रोफेसर एमएन कामत मेरिट पुरस्कार

अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में नौणी के पीएचडी छात्र ने जीता प्रोफेसर एमएन कामत मेरिट पुरस्कार

  • भारतीय राष्ट्रीय कवक संवर्धन संग्रह और अगरकर रिसर्च इंस्टीट्यूट पुणे द्वारा किया गया संगोष्ठी का आयोजन
  • विभिन्न देशों के शोधकर्ताओं ने किया कवक जीव विज्ञान से संबंधित शोध पत्रों को संगोष्ठी में प्रस्तुत

सोलन: डॉ. वाई एस परमार औदयानिकी एवं वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी के जैव प्रौद्योगिकी विभाग के पीएचडी छात्र अर्जुन चौहान को पुणे में आयोजित अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी में सर्वश्रेष्ठ मौखिक प्रस्तुति के लिए प्रतिष्ठित प्रोफेसर एमएन कामत मेरिट पुरस्कार से सम्मानित किया गया। यह पुरस्कार ‘कवक जीव विज्ञान पर अंतर्राष्ट्रीय संगोष्ठी: प्रगति, अग्रिम,अनुप्रयोग और संरक्षण’, और भारतीय माइकलॉजिकल सोसाइटी की 45वीं वार्षिक बैठक में प्रस्तुत किया गया। भारतीय राष्ट्रीय कवक संवर्धन संग्रह और अगरकर रिसर्च इंस्टीट्यूट,पुणे द्वारा इस संगोष्ठी का आयोजन किया गया।

विभिन्न देशों के शोधकर्ताओं ने कवक जीव विज्ञान से संबंधित शोध पत्रों को इस संगोष्ठी में प्रस्तुत किया। रॉयल बॉटनिकल गार्डन केव,लंदन के विश्व प्रसिद्ध माइकोलॉजिस्ट प्रोफेसर डी.एल. हॉक्सवर्थ ने यह पुरस्कार प्रस्तुत किया। इस पुरस्कार में एक स्मृति चिन्ह, प्रमाण पत्र और नकद पुरस्कार शामिल है।

अर्जुन ने ऐप्पल लीफ ब्लॉच कवक में किए जा रहे अपने शोध कार्य को इस संगोष्ठी में प्रस्तुत किया। पेपर के अन्य लेखक डॉ. मंजू मॉडगिल, डॉ. जे.एन. शर्मा, एम.वी. राजम और सुन्दरेश सिद्प्पाप्पा हैं। नौणी विश्वविद्यालय के कुलपति डॉ. एचसी शर्मा और औद्यानिकी महाविद्यालय के डीन डॉ. राकेश गुप्ता ने इस उपलब्धि के लिए टीम को बधाई दी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *