शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में हुआ समग्र विकासः मुख्यमंत्री

  • भलोह में आयुर्वेदिक औषधालय खोलने की घोषणा
  • हीरा नगर में संप्रेषण गृह का उदघाटन
  • राज्य सरकार ने प्रदेश में वर्तमान कार्यकाल में 1010 स्कूल खोले अथवा स्तरोन्न्त किए

 शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र की ग्राम पंचायत भलोह में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि प्रदेश सरकार ने केन्द्र से 14वें वित्तायोग की सिफारिशों में संशोधन करने का बार-बार आग्रह किया है और जिला परिषदों व पंचायत समितियों को वित्त धनराशि उपलब्ध करवाने का प्रावधान करने की मांग की है। उन्होंने कहा कि आयोग ने स्पष्ट तौर पर कहा है कि धनराशि केवल ग्राम पंचायतों को प्रदान की जाएगी, जबकि प्रदेश सरकार ने केन्द्र से जिला परिषदों और पंचायत समितियों को भी धनराशि उपलब्ध करवाने का आग्रह किया है।

उन्होंने कहा कि राज्य सरकार ने प्रदेश में वर्तमान कार्यकाल में 1010 स्कूल खोले अथवा स्तरोन्न्त किए हैं। इसके अलावा 24 आईटीआई, 2 इंजिनियरिंग कॉलेज व 41 महाविद्यालय खोले गए हैं। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री आदर्श विद्यालय योजना आरम्भ की गई है जिसके तहत प्रत्येक विधानसभा क्षेत्र के दो वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाओं में अधोसंरचना व शैक्षणिक सुविधा करवाई जा रही है। उन्होंने कहा कि शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र में 36 स्कूल खोले अथवा स्तरोन्नत किए गए हैं, जिनमें 8 प्राथमिक पाठशालाएं, 11 माध्यमिक पाठशालाएं, 8 उच्च पाठशालाएं तथा 9 राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशालाएं शामिल हैं। इसके अलावा, शोघी में ललित कला महाविद्यालय खोला जा रहा है और 16 मील में राजकीय महाविद्यालय खोला गया है। सुन्नी, दाड़गी व जलोग में तीन आईटीआई कार्य कर रहे हैं और बसंतपुर में पॉलिटेकनिक कॉलेज खोला गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश सरकार राज्य में स्वास्थ्य अधोसंरचना सुदृढ़ करने के प्रति वचनबद्ध है। शिमला ग्रामीण क्षेत्र में 17 स्वास्थ्य संस्थान खोले व स्तरोन्न्त किए गए हैं तथा निकट भविष्य में घरोग में दंत महाविद्यालय और नर्सिंग छात्रावास एवं महाविद्यालय खोला जा रहा है। इसके अतिरिक्त शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के तहत सुन्नी में 50 बिस्तरां वाला अस्पताल, 8 प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र, तीन सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र और पांच स्वास्थ्य केन्द्र खोले व स्तरोन्नत किए गए हैं।

मुख्यमंत्री ने भलोह में आयुर्वेदिक औषधालय, ग्राम पंचायत नेरी के छाईवाला पशु औषधालय खोलने व स्कूली बच्चों को सांस्कृतिक गतिविधियों को बढ़ावा देने के लिए 15000 रुपये देने की घोषणा की।

मुख्यमंत्री ने कहा कि पेयजल व सिंचाई सुविधा प्रदान करना राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकताओं में है। उन्होंने कहा कि शिमला ग्रामीण विधानसभा क्षेत्र के तहत 105 करोड़ रुपये की घरोग-घंडल परियोजना का 70 प्रतिशत कार्य पूरा हो चुका है और इससे क्षेत्र की 41 पंचायतें लाभान्वित होंगी। इसके अतिरिक्त पंदोआ खडड से हिमरी के लिए उठाउ पेयजल योजना का कार्य प्रगति पर है। इस योजना के बन जाने से क्षेत्र के सात पंचायतों के लोग लाभान्वित होंगे।

क्षेत्र के विकास की चर्चा करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि विधि विश्वविद्यालय व विधिक अकादमी का निर्माण घंडल में किया जा रहा है और धामी में मिनी सचिवालय भवन का निर्माण किया जा रहा है। इसके अतिरिक्त धामी व जलोग में दो उप तहसीलें खोली गई हैं। इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री विद्या के स्टोक्स के साथ 43.52 लाख रुपये की लागत से निर्मित पडे़च-दफावग-धराट पेयजल योजना का पड़ेच में शुभारम्भ किया। इस योजना से क्षेत्र की 500 से अधिक जनसंख्या लाभान्वित होगी। उन्होंने टूटू में 3.91 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवन की आधारशिला रखी तथा वर्तमान प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र टूटू में एक्सरे प्लांट का शुभारम्भ किया।

मुख्यमंत्री ने टूटू के निकट हीरानगर में 2.4 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित संप्रेषण गृह का उदघाटन किया। यह बाल अपराधियों का प्रदेश में दूसरा सुधार केन्द्र है। उन्होंने ग्राम पंचायत भलो में 15 लाख रुपये की लागत से निर्मित ग्राम पंचायत भवन का शुभारम्भ किया। इससे पूर्व मुख्यमंत्री ने घणहटटी के निकट पड़ेच व कड़ि़याची में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कहा कि राजकीय वरिष्ठ माध्यमिक पाठशाला घणाहटटी को आदर्श विद्यालय बनाया जाएगा, जहां पर सभी सुविधाएं उपलब्ध होगी और सभी विषय पढ़ाए जाएंगे। उन्होंने कहा कि 1000 अध्यापकों के पदों को भरने की प्रक्रिया शुरू हो गई है, इसी के साथ दूरदराज क्षेत्र व अन्य क्षेत्र जहां शिक्षकों के पद रिक्त चल रहे हैं में स्कूल प्रबन्धन समिति को अध्यापक रखने के लिए अधिकृत किया गया है।

मुख्यमंत्री ने ग्राम पंचायत डुमी तथा पाहल के लिए 2.21 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले थबोग कड़ेची, दिदो घाटी को जोड़ने वाले कड़ेची-थबोग सड़क की आधारशिला रखी तथा कहा कि इस सड़क को एक वर्ष के भीतर पक्का कर लिया जाएगा। उन्होंनें 1.47 करोड़ रुपये की लागत से शराड़ा में बनने वाले प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र के भवन की आधारशिला भी रखी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

13  −  11  =