चंबा : घर में लगी आग, दम घुटने से दो बच्चों समेत परिवार के चार लोगों की मौत

जंगलों को आग से बचाने के लिए 2909 फायर वाॅचर का प्रावधान : अवनि भूषण राय

  • जंगल में आग लगने की सूचना दूरभाष न. 01978-224809 पर दें

बिलासपुर : वन मण्डल अधिकारी अवनि भूषण राय ने जानकारी देते हुए बताया कि ग्रीष्म ऋतु में जंगलो में आग लगने के कारण पर्यावरण को काफी खतरा बना रहता है। उन्होंने बताया कि बिलासपुर वन मण्डल का कुल क्षेत्र 34308.88 हैक्टेयर है, जिसमें से 5647.81 हैक्टेयर क्षेत्र में चील का जंगल है जो कि आग लगने की दृष्टि से अति संवेदनशील है।

उन्होंने बताया कि वर्ष 2020 में बिलासपुर वन मण्डल में 87 हैक्टेयर क्षेत्र में आग लगी थी जो कि जमीनी आग थी, जिसमें कोई भी नुकसान नहीं हुआ था। इस वर्ष जंगल को आग से बचाने के लिए 34.29 कि.मी. (फायर लाईन) की मुरम्मत की गई है तथा 2.27 कि.मी. नई (फायर लाईन) बनाई गई तथा 282 हैक्टेयर में कंट्रोल बर्निंग की गई है और 2909 फायर वाॅचर (मेनडे) रखने का प्रावधान किया गया है।

उन्होंने बताया कि इसके अतिरिक्त पानी के टैंकरो हेतु वन परिक्षेत्राधिकारी को धनराशि उपलब्ध करवाई गई है तथा फायर अलर्ट सिस्टम मोबाईल ऐप के माध्यम से पूर्व चेतावनी रखी जा रही है, जिसमें सभी कर्मचारियों को सम्मिलित किया गया है, ताकि समूह में एकत्रित होकर अग्नि की रोकथाम की जा सके।

उन्होंने बताया कि इस वर्ष में जंगलों में बारिश न होने के कारण माह मार्च में ही आग लगने के मामले सामने आ गए है फिर भी वन विभाग के कर्मचारियों ने जंगलों को आग से बचाने के लिए कमर कस ली है तथा जन जागरण अभियान के तहत जंगलों में आग लगने से होने वाले नुकसान के बारे में कारण जागरूक किया जा रहा है ताकि लोग जंगलों को आग से बचाने में अपनी सहभागिता दे सकें।

उन्होंने सभी लोगों से आग्रह है कि यदि जंगल में आग की घटना घटे तो इस बारे जानकारी वन मण्डल अधिकारी बिलासपुर के कार्यालय के दूरभाष न. 01978-224809 पर सूचना करें।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

90  −  85  =