प्रदेश में RTPCR रिपोर्ट की अनिवार्यता खत्म, राठौर बोले: प्रदेश के लिए हो सकता है बड़ा खतरा साबित

भाजपा सरकार महंगाई-बेरोजगारी को जनसमस्याएं नहीं मानती- राठौर

राठौर बोले: देश के मात्र पांच बड़े घरानों को भाजपा सरकार ने 7 लाख करोड़ रुपए की कर्ज माफ़ लेकिन आमजन, किसानों-बागवानों और बेरोजगारों के लिए कोई भी राहत प्रदान नहीं 

शिमला: हिमाचल प्रदेश कांग्रेस कमेटी के प्रदेशाध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने भाजपा पर एक बार फिर महंगाई और बेरोजगारी की समस्या के प्रति उदासीन रवैया अपनाने का आरोप लगाया है। आज अर्की विधानसभा क्षेत्र के कुनिहार, मनलोग, दिग्गल और चमधार में जनसभाओं को संबोधित करते हुए प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर महंगाई को समस्या ही नहीं मानते हैं जबकि आसमान छूती महंगाई से आमजन का जीना दूभर हो गया है। उन्होंने कहा कि सार्वजनिक वितरण प्रणाली के अंतर्गत मिलने वाले राशन के दाम भी सरकार ने बढ़ा दिए हैं। डिपुओं में मिलने वाली दालें 15 रुपए महंगी हो गई हैं। रिफाइंड तेल 104 से117 रुपए कर दिया। उन्होंने कहा कि इलेक्ट्रॉनिक उपकरण 25 प्रतिशत तक महंगे हो चुके हैं। दवाइयां 50 प्रतिशत तक महंगी हो चुकी हैं। आमजन के रोजमर्रा के जीवन में उपयोग होने वाली हर चीज महंगी हो चुकी है।

 कुलदीप राठौर ने कहा कि ड्राइविंग लाइसेंस जो 250 रुपए में बनता था आज 5500 रुपए में बन रहा है। स्टील की कीमतें 3600 रुपए से 6500 रुपए तक पहुंच चुकी हैं। रेता-बजरी का एक ट्राला जो 1500 रुपए में मिलता था आज 6000 रुपए में मिल रहा है। सीमेंट की कीमत 195 से 410 रुपए हो चुकी है। रसोई गैस सिलेंडर 1000 रुपए हो गया है।

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने कहा कि 2014 तक देश पर 2.5 लाख करोड़ का कर्ज था जो कि अब भाजपा सरकार के कार्यकाल में बढ़ कर 25 लाख करोड़ हो चुका है। उन्होंने कहा कि देश के मात्र पांच बड़े घरानों को भाजपा सरकार ने 7 लाख करोड़ रुपए की कर्ज मुआफी की है लेकिन आमजन, किसानों-बागवानों और बेरोजगारों के लिए कोई भी राहत प्रदान नहीं की है। उन्होंने प्रवुद्ध मतदाताओं से अपील की कि भाजपा सरकार की इन जनविरोधी नीतियों का करारा जबाब देने के लिए भाजपा के खिलाफ वोट देकर सरकार को स्पष्ट सन्देश दें।

वीरभद्र सिंह के प्रति मुख्यमंत्री का बयान अशोभनीय एवम दुर्भाग्यपूर्ण’

कांग्रेस प्रदेशाध्यक्ष ने मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर द्वारा स्वर्गीय वीरभद्र सिंह के प्रति विकास न करने और हेलीकॉप्टर में घूमने के आरोपों को राजनीति से प्रेरित और दुर्भाग्यपूर्ण करार दिया है। उन्होंने कहा कि हार सामने देख मुख्यमंत्री बौखलाहट में हैं। स्व.  वीरभद्र सिंह के प्रति मुख्यमंत्री जो संवेदनाएं दर्शाते थे वह आज चुनाव आते ही ढोंग नजर आने लगी हैं। मुख्यमंत्री की असलियत सामने आई है। उन्होंने कहा कि भाजपा ने चुनावों में जनहित के मुद्दों से मुंह फेर कर नकारात्मक सोच एवम घटिया राजनीति का परिचय दिया है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *