पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने भाजपा के संकल्प पत्र को दिया जुमलों का पत्र करार

बजट 2018-19 : हिमाचल को किया गया नजरअंदाज, बजट में न तो कहीं तरक्की दिख रही है और न ही विकास : वीरभद्र सिंह

शिमला:  हिमाचल के पूर्व मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने वित्त मंत्री अरुण जेटली द्वारा पेश किए गए केंद्रीय बजट को लेकर अपनी प्रतिक्रिया देते हुए इसे अब तक का सबसे निराशाजनक बजट बताया। वीरभद्र सिंह ने कहा कि उन्होंने बजट के विस्तार से टीवी पर देखा है पर लगता नहीं कि 2019 के चुनावों को ध्यान में रखकर यह बजट बनाया गया है। इससे कुछ लोग तो खुश हो सकते हैं पर आम जनता के लिए बजट में राहत या खुश होने वाली कोई बात नहीं है। न तो सरकारी और न ही मध्यम वर्ग के लिए कुछ राहत दी गई है। वीरभद्र सिंह ने कहा कि पीएम मोदी विकास की बात तो करते हैं लेकिन बजट में न तो कहीं तरक्की दिख रही है और न ही विकास।

उन्होंने कहा कि बजट में हिमाचल को नजरअंदाज किया गया है। उन्होंने कहा कि जहां तक हिमाचल की बात है तो बजट में प्रदेश की पूरी तरह अनदेखी हुई है। बजट में प्रदेश में रेलवे विस्तार की कोई बात नहीं की गई है। यहां पर रेल के कई प्रोजेक्ट लटके पड़े हैं, उनके बारे में कुछ नहीं किया। कुछ प्रोजेक्ट धीमी गति से चल रहे हैं, इस तरह से तो वे अगले कई दशकों तक पूरे नहीं हो सकते।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *