एनटीपीसी और एनएचपीसी के बीच एमओयू साईन होने पर प्रो. धूमल ने जताई खुशी

  • यह अवसर ड्रीम प्रोजेक्ट के सपने के पूरा होने का अवसर : प्रो. धूमल
  • इस प्रोजेक्ट के निर्माण से हिमाचल तेजी से प्रगति के पथ पर बढ़ेगा

शिमला : हाईड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज के निर्माण को लेकर केन्द्र सरकार, राज्य सरकार, एनटीपीसी और एनएचपीसी के बीच एमओयू साईन होने पर पूर्व मुख्यमंत्री व नेता प्रतिपक्ष प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने खुशी जाहिर की है। आज नई दिल्ली में इस कॉलेज के निर्माण को लेकर केन्द्र सरकार, प्रदेश सरकार, एनटीपीसी व एनएचपीसी के बीच समझौता हुआ, जिसमें एनटीपीसी और एनएचपीसी इस कॉलेज के निर्माण के लिए 100 करोड़ रुपए देंगे और साथ में इस कॉलेज के संचालन के लिए अगले पांच वर्षों में 25 करोड़ रुपए देंगे। एमओयू साईन होने के अवसर पर केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल, केन्द्रीय मंत्री जगत प्रकाश नड्डा, नेता प्रतिपक्ष व पूर्व मुख्यमंत्री प्रो. प्रेम कुमार धूमल, प्रदेश सरकार की तरफ से मंत्री जी.एस. बाली, सांसद अनुराग ठाकुर, सांसद वीरेन्द्र कश्यप, सांसद रामस्वरूप शर्मा, विप्लव ठाकुर विशेष रूप से उपस्थित थे। इस अवसर पर केन्द्रीय मंत्री पीयूष गोयल, जे.पी. नड्डा, प्रो. प्रेम कुमार धूमल व जी.एस. बाली ने भी उपस्थित अधिकारियों व अन्य लोगों को सम्बोधित किया।

इस अवसर पर अपने सम्बोधन में प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने कहा कि यह अवसर उनके ड्रीम प्रोजेक्ट के सपने के पूरा होने का अवसर है। यह प्रोजेक्ट उनके लिए विशेष महत्व रखता है। पूर्व भाजपा सरकार के समय उन्होंने इस प्रोजेक्ट के लिए जिला बिलासपुर में लगभग 62 बीघा जमीन उपलब्ध करवाई थी, परन्तु बाद में यह गलत राजनीति का शिकार बनकर रह गया। परन्तु आज प्रदेश के सांसदों के लगातार प्रयासों से इस कॉलेज का निर्माण संभव हो पा रहा है। वह इसके लिए नरेन्द्र मोदी व केन्द्रीय राज्य मंत्री पीयूष गोयल के आभारी रहेंगे।

प्रो. धूमल ने कहा कि यह महीना हिमाचल प्रदेश के लिए विशेष महत्वपूर्ण साबित हुआ है। इसी महीने में जहां प्रदेश को एक ओर हाइड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज मिला वहीं भानुपल्ली-मण्डी-मनाली-लेह रेल लाईन के निर्माण के लिए अंतिम सर्वे का कार्य भी शुरू हुआ है। इस रेल लाईन प्रोजेक्ट के बनने से हिमाचल प्रदेश में आधारभूत ढांचा मजबूत होगा, वहीं प्रगति के नए द्वार भी खुलेंगे। सामरिक महत्व के इस प्रोजेक्ट के निर्माण से हिमाचल तेजी से प्रगति के पथ पर बढ़ेगा। हिमाचल के प्रति इस लगाव के चलते प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी, अरूण जेटली, मनोहर पर्रिकर ने जो अनमोल तोहफा दिया है प्रदेश सदैव उसके लिए ऋणी रहेगा। हिमाचल के लिए केन्द्र में मोदी सरकार का आना किसी वरदान से कम नहीं है। छोटी सी समयावधि में वन रैंक वन पैंशन तत्पश्चात प्रदेश में 56 नेशनल हाईवे, रेलवे के ढांचे को खड़ा करने के लिए पर्याप्त धनराशि, स्मार्ट सिटी, वित्त आयोग द्वारा हिमाचल प्रदेश की आर्थिक सहायता में 227 प्रतिशत वृद्धि, हिमाचल का विशेष राज्य का दर्जा पुनः बहाल करना, प्रदेश में एम्स और अब हाईड्रो इंजीनियरिंग कॉलेज व आईआईएमएस का निर्माण प्रदेश में प्रगति के नए द्वार खोलेगा। प्रदेश के लिए दी जा रही पर्याप्त आर्थिक सहायता के लिए प्रदेश की जनता प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी की सदा आभारी रहेगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1  +    =  11