हेल्थ कैंप आयोजित करने के लिए एसजेवीएन का हेल्पेज इण्डिया के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

हेल्थ कैंप आयोजित करने के लिए एसजेवीएन का हेल्पेज इण्डिया के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर

  • परियोजना क्षेत्रों में 20 हेल्थ कैंप आयोजित करने के लिए किए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर
  •  कैंप उन क्षेत्रों में आयोजित किए जाएंगे जहां विशेषज्ञ स्वास्थ्य सुविधा का अभाव है : नंद लाल शर्मा
  • स्त्री रोग, दंत रोग, आंख, नाक और कान के रोगों के विशेषज्ञों के साथ आयोजित किए जायेंगे कैंप  

शिमला : भारत सरकार एवं हिमाचल प्रदेश सरकार का संयुक्त उपक्रम एसजेवीएन ने आज (सोमवार) को हेल्पेज इण्डिया के साथ समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए। एसजेवीएन ने अपने परियोजना क्षेत्रों में 20 हेल्थ कैंप आयोजित करने के लिए समझौता ज्ञापन पर हस्ताक्षर किए है। इस समझौता ज्ञापन पर एसजेवीएन की ओर से अपर महाप्रबंधक अवधेश प्रसाद, सीएसआर और हेल्पेज इण्डिया की ओर से सुश्री मधु मदान ने एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा, निदेशक वित्त ए.एस. बिन्द्रा, निदेशक विद्युत आर.के. बंसल, निदेशक सिविल कंवर सिंह और हेल्पेज इण्डिया से रवि शंकर और कमल बलानी की उपस्थिति में हस्ताक्षर किए।

 कैंप उन क्षेत्रों में आयोजित किए जाएंगे जहां विशेषज्ञ स्वास्थ्य सुविधा का अभाव है : नंद लाल शर्मा

कैंप उन क्षेत्रों में आयोजित किए जाएंगे जहां विशेषज्ञ स्वास्थ्य सुविधा का अभाव है : नंद लाल शर्मा

समझौता ज्ञापन के अंतर्गत एसजेवीएन हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड, बिहार और महाराष्ट्र में 20 हेल्थकैंप के आयोजन के लिए 32 रूपये की वित्तीय सहायता उपलब्ध करायेगा। स्त्री रोग, दंत रोग, आंख, नाक और कान के रोगों के विशेषज्ञों के साथ ये कैंप आयोजित किए जायेंगे। इन स्वास्थ्य कैंप के दौरान विशेषज्ञ व्याख्यानों का भी आयोजन किया जाएगा।

समझौता ज्ञापन के हस्ताक्षर के दौरान एसजेवीएन के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा ने कहा कि ये हेल्थ कैंप पेशेवर तरीके से आयोजित किए जाएंगे जिनमें अनुभवी डाक्टरों द्वारा लोगों को स्वास्थ्य लाभ दिया जाऐगा क्योंकि ये कैंप उन क्षेत्रों में आयोजित किए जाएंगे जहां विशेषज्ञ स्वास्थ्य सुविधा का अभाव है।

एसजेवीएन सीएसआर के अंतर्गत स्वास्थ्य एवं स्वच्छता, शिक्षा एवं कौशल विकास, स्थाई विकास, संरचनात्मक और सामुदायिक विकास, प्रकृतिक आपदाओं के दौरान वित्तीय सहायता, संस्कृति और खेलों के संरक्षण के लिए प्रतिबद्ध है।

पिछले सात सालों में एसजेवीएन ने कौशल विकास के तहत बेल्डर, इलैक्ट्रीशियन, एकाउंटेंट, टेलरींग, हॉस्पीटलिटी और बैड साइड एटेंडेंट के लिए कुल 4000 स्थानीय युवाओं को प्रशिक्षित किया।  स्वास्थ्य के क्षेत्र में एसजेवीएन हिमाचल प्रदेष, उत्तराखंड, बिहार और महाराष्ट्र में कुल 14 मोबाइल हेल्थ वेन परिचालित कर रहा है जिनसे 5 लाख से ज्यादा लोगों को स्वास्थ्य लाभ मिला है। इसके अलावा एसजेवीएन 150 हेल्थ विशेषज्ञ हेल्थ कैंपस के आयोजन के जरिए कुल 50 हजार रोगियों को स्वास्थ्य लाभ पहुंचा चुका है। इसके अतिरिक्त इण्डियन एसोसिएशन ऑफ मस्कुलर डिस्टॉफी को मस्कुलन डिस्टॉफी सेंटर, सोलन के निर्माण के लिए और शिमला स्थित स्पेशल स्कूल ढली के निर्माण के लिए एसजेवीएन ने वित्तीय सहायता दी है।

एसजेवीएन पंचायत घर, महिला मंडल खेल के मैदान जैसे सामुदायिक संपति के निर्माण के लिए वित्तीय सहायता देता रहा है और पिछले कुछ वर्षों में एसजेवीएन ने कुल 250 सामुदायिक संपतियों का निर्माण किया है। एसजेवीएन ने स्वच्छ विद्यालय अभियान के तहत कुल 2421 शौचालयों का निर्माण विभिन्न स्कूलों में करवाया है और इनकी रख-रखाव की जिम्मेदारी भी एसजेवीएन प्रबंधन ने ली है। एसजेवीएन प्रधानमंत्री के महत्वाकांक्षी कार्यक्रम स्वच्छ भारत अभियान के तहत कई महत्वपूर्ण गतिविधियां भी आयोजित कर रहा है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *