शूलिनी विवि ने कायम किया प्लेसमेंट में एक नया रिकॉर्ड

शूलिनी विश्वविद्यालय में शुरू हुआ स्टार्ट-बज

छात्रों को व्यवसाय के नए विचारों के साथ आने के लिए किया जाएगा आमंत्रि , और IIC कैंपस में प्रोटोटाइप को सफलतापूर्वक लागू करने में करेगा मदद

उम्मीदवारों को 2 और 3 अक्टूबर को पिचिंग की तैयारी के लिए दिया जाएगा दो दिन का समय

आईआईसी पैनल 4 अक्टूबर को करेगा परिणाम घोषित

सोलन: इंडियन इनोवेशन काउंसिल (IIC), शूलिनी यूनिवर्सिटी ने आज स्टार्ट-बज़ नाम से अपना विशेष कार्यक्रम शुरू किया, जिसमें छात्रों को व्यवसाय के नए विचारों के साथ आने के लिए आमंत्रित किया जाएगा, और IIC कैंपस में प्रोटोटाइप को सफलतापूर्वक लागू करने में उनकी मदद करेगा।आईआईसी कुछ चुनिंदा स्टार्ट-अप्स को मार्गदर्शन और बीज राशि भी प्रदान करेगा ताकि वे निवेश के लिए तैयार हो सकें।

आयोजन का पहला चरण विचारों को प्रस्तुत करना होगा जिसमें छात्रों को 25 से 30 सितंबर के बीच अपने विचार प्रस्तुत करने होंगे। इसमें आईआईसी की टीम सभी प्रविष्टियों और प्रस्तुत विचारों की जांच करेगी। जिन विचारों को परिसर में लागू करने की क्षमता है, उनका चयन किया जाएगा।

प्रोफ़ेसर कमल कांत वशिष्ठ, निदेशक ई-लर्निंग आईआईसी के संयोजक ने कहा कि उम्मीदवारों को 2 और 3 अक्टूबर को पिचिंग की तैयारी के लिए दो दिन का समय दिया जाएगा। इसके बाद जिन उम्मीदवारों के योजनाओं का चयन किया गया है, उन्हें 3 अक्टूबर को पैनल के सामने अपनी व्यावसायिक योजना पेश करने के लिए बुलाया जाएगा।

उम्मीदवारों को पिचिंग की तैयारी के लिए दो दिन का समय दिया जाएगा।

एक बार पैनल द्वारा विचारों का चयन करने के बाद, संबंधित छात्र को एक व्यवसाय योजना के साथ एक प्रोटोटाइप और अन्य ज़रूरी आंकड़े प्रस्तुत करने होंगे। प्रोफेसर वशिष्ठ ने कहा कि यदि उनकी व्यावसायिक योजना को मंजूरी दी जाती है तो उन्हें ये बताना होगा कि वे योजना को कैसे लागू करेंगे।

आईसीसी के संयोजक ने कहा कि जिन छात्रों को अपने प्रोटोटाइप को विकसित करने के लिए राशि की आवश्यकता है, उन्हें कुछ छोटी धनराशि प्रदान की जा सकती है।

अंतिम चरण में, आईआईसी पैनल 4 अक्टूबर को परिणाम घोषित करेगा और एक स्टार्ट-अप पर फैसला करेगा जिसे परिसर में लागू किया जाएगा। प्रोफेसर वशिष्ठ ने कहा कि छात्र को उनके विचार को वास्तविकता में बदलने के लिए एक बीज राशि दी जाएगी।

IIC शूलिनी की स्थापना वर्ष 2018 में विश्वविद्यालय में उद्यमिता और नवीन संस्कृति विकसित करने के लिए की गई थी। आईआईसी का प्राथमिक उद्देश्य युवा छात्रों को नए विचारों के साथ काम करने और उन्हें प्रोटोटाइप में बदलने के लिए प्रोत्साहित करना, प्रेरित करना और उनका पोषण करना है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

86  −  78  =