पी चिदंबरम को अनुराग ठाकुर का जवाब, कहा- नेतृत्वहीन कांग्रेस आर्थिक आंकड़ों की हेराफेरी से फैलाना चाहती है सनसनी

विदेशों से सहायता सामग्री की तेज निकासी/बंटवारा व उन्हें राज्यों को भेजना जारी : अनुराग ठाकुर 

  • अब तक 10,000 से अधिक ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, 12,000 से अधिक ऑक्सीजन सिलेंडर, 19 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र, 6,400 से अधिक वेंटिलेटर/बाई पैप, 4.2 लाख रेमडिसिविर की खुराकें वितरित/भेजी गई

हिमाचल : केंद्रीय वित्त एवं कॉरपोरेट अफ़ेयर्स राज्यमंत्री अनुराग सिंह ठाकुर ने कोरोना आपदा की इस घड़ी में विदेशों से आ रही सहायता सामग्री का वित्त मंत्रालय के अधिकारियों द्वारा युद्ध स्तर पर त्वरित निकासी, उसका बँटवारा व निर्धारित कोटे के अनुसार राज्यों को भेजे जाने की जानकारी साझा की है।

अनुराग ठाकुर ने कहा “ पूरी दुनिया कोविड -19 की भयावह स्थिति का सामना कर रही है। पीएम की कुशल विदेश नीति के चलते आज पूरा विश्व भारत के साथ खड़ा है। दुनिया के तमाम देश आज भारत को मेडिकल उपकरण व जीवन रक्षक सामग्री उपलब्ध करा रहे हैं जिसका  एयरपोर्ट व बंदरगाहों पर वित्त मंत्रालय के अधीनस्थ कस्टम अधिकारीयों द्वारा रिकॉर्ड समय (8 से 10 मिनट) में  निकासी की  जा रही है। विदेशों से आ रही सहायता सामग्री का युद्ध स्तर पर त्वरित निकासी, उसका बँटवारा व निर्धारित कोटे के अनुसार सभी राज्यों को भेजे जाने से कोविड के ख़िलाफ़ इस जंग में हमें बल मिल रहा है।”

आगे बोलते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा “भारत सरकार के विभिन्न मंत्रालयों / विभागों ने एक सुगम और व्यवस्थित तंत्र के जरिए विश्व समुदाय की ओर से आने वाली सहायता को राज्यों और केन्द्र-शासित प्रदेशों को तेजी से वितरित करने के लिए निर्बाध रूप से सहयोग किया है।27 अप्रैल 2021 से लेकर अब तक  कुल मिलाकर 10,796 ऑक्सीजन कंसन्ट्रेटर, 12,269 ऑक्सीजन सिलेंडर, 19 ऑक्सीजन उत्पादन संयंत्र, 6,497 वेंटिलेटर/बाई पैप, 4.2 लाख रेमडिसिविर की खुराकें सड़क एवं हवाई मार्ग के जरिए वितरित/भेजी जा चुकी हैं। प्राप्तकर्ता राज्यों/केन्द्र-शासित प्रदेशों और संस्थानों को कारगर तत्काल आवंटन और सुव्यवस्थित वितरण का एक निरंतर अभियान जारी है। वित्त मंत्रालय के अधीनस्थ केंद्रीय अप्रत्यक्ष कर और सीमा शुल्क बोर्ड (CBIC) ने कोविड संबंधी आयात से जुड़े सवालों के समाधान के लिए एक सहायता प्रकोष्ठ बनाया है, ताकि सीमा शुल्क विभाग से ऐसे सामान की त्वरित निकासी हो सके।”

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *