मुख्यमंत्री ने मण्डी में किए 15 करोड़ के विकास कार्यक्रमों के लोकार्पण एवं शिलान्यास

  • 9 करोड़ की लागत से निर्मित भीमाकाली पार्किंग का लोकार्पण

मण्डी : मण्डी में 15 करोड़ रूपये की लागत के विभिन्न विकास कार्यक्रमों के मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज उद्घाटन एवं शिलान्यास किए। उन्होंने एशियन विकास बैंक द्वारा वित्त पोषित 9 करोड़ की अनुमानित लागत से निर्मित मण्डी शहर में भीमा काली मन्दिर परिसर की पार्किंग तथा प्राथमिक स्वाथ्य केन्द्र पण्डोह का उदघाटन किया। इस बहुमंजिला इमारत में लगभग 300 लोगों के बैठने की क्षमता के एक हाल के अलावा 86 वाहनों की पार्किंग की सुविधा उपलब्ध है। उन्होंने सदर तहसील की दुदर भ्रौण पंचायत के कांगणीधार से दुदरभ्रौण के लिए उठाउ जलापूर्ति योजना का भी लोकार्पण किया। उन्होंने राजकीय प्राथमिक पाठशाला बालमणी (यु-खण्ड) की भी आधारशिला रखी। उन्होंने सदर तहसील की ग्राम पंचायत कैहनवाल की बस्तियों के छूटे हुए  घरों के लिए जलापूर्ति योजना की भी आधारशिला रखी।

इस अवसर पर मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के शहरों के विकास और उनमें बेहतर सुविधाएं सुनिश्चित करने के लिए कृतसंसकल्प है और इसी के दृष्टिगत पालमपुर, सोलन तथा मण्डी शहरों को नगर निगम का दर्जा प्रदान किया गया है। उन्होंने कहा कि सरकार को विधानसभा में अधिनियम में संशोधन करना पड़ा क्योंकि पालमपुर और मण्डी 2011 की जनगणना के अनुसार निर्धारित जनसंख्या मापदण्डों को पूरा नहीं कर पा रहे थे। उन्होंने कहा कि इस निर्णय से इन शहरों का तीव्र विकास सुनिश्चित होगा। इसके लिए विशेष बजट का प्रावधान होगा तथा भारत सरकार से विभिन्न विकासात्मक योजनाओं का भी लाभ मिलेगा। प्रदेश के लोगों की सुविधा के लिए सरकार ने सात नई नगर पंचायतों, एक नगर परिषद तथा 387 नई ग्राम पंचायतों का गठन किया है।

 प्रदेश में कोविड-19 के लगातार बढ़ते मामलों पर चिन्ता व्यक्त करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि मण्डी जिला में अब तक कोविड के सबसे अधिक मामले सामने आए हैं। उन्होंने लोगों से सर्दियों और त्यौहारों के मौसम के दृष्टिगत और अधिक सतर्क रहने का आग्रह किया क्योंकि इस दौरान इस वायरस के संक्रमण का अधिक खतरा है। उन्होंने कहा कि यदि आवश्यकता हुई तो सरकार इस मामले में कठोर कदम उठाने से नहीं हिचकिचाएगी क्योंकि प्रत्येक मानव जीवन मूल्यवान है और इस महामारी को फैलने से रोकने की आवश्यकता है। उन्होंने कहा कि भारत सरकार ने प्रदेश को 500 वैंटीलेटर, 500 आक्सीजन कन्संट्रेटर उपलब्ध करवाए हैं तथा प्रदेश में पीपीई किट, मास्क और सैनेटाईजर की अब तक कमी नहीं है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि कोरोना महामारी के कारण प्रदेश सरकार द्वारा आरम्भ किए गए विभिन्न विकासात्मक कार्य प्रभावित हुए हैं परन्तु फिर भी सरकार इन योजनाओं को निकट भविष्य में पूरा करने के लिए प्रतिबद्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार सुनिश्चित करेगी कि इन सभी परियोजनाओं को जल्द पूरा किया जा सके और प्रदेश में विकास और समृद्धि के नए युग का सूत्रपात हो सके।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9  +  1  =