रामलाल ठाकुर ने प्रदेश सरकार के जनमंच पर उठाए सवाल...

बिलासपुर: मुख्यमंत्री के कार्यक्रम का स्थानीय विधायक को नहीं मिला न्यौता, बोले- कार्यक्रम का करेंगे बहिष्कार

बिलासपुर: मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर के प्रस्तावित नैना देवी दौरे पर राजनीति में सियासी उबाल आ गया है। मुख्यमंत्री के कार्यक्रम के लिए छपे निमंत्रण पत्र में स्थानीय विधायक का नाम न होने पर नैना देवी विधायक राम लाल ठाकुर ने नाराजगी जाहिर की है। नयनादेवी क्षेत्र के विधायक एवं पूर्व मंत्री तथा कांग्रेस पार्टी के प्रदेश उपाध्यक्ष राम लाल ठाकुर ने आरोप लगाया है कि बिलासपुर जिला में लोक निर्माण विभाग का भाजपाईकरण किया जा चुका है और मुख्यमंत्री के प्रस्तावित नयनादेवी दौरे के जो निमंत्रण पत्र विभाग द्वारा छापे गए हैं, उनमें स्थानीय विधायक का नाम न होकर भाजपा के प्रवक्ता का नाम है जोकि तर्कसंगत नहीं है। उन्होंने पत्रकारों को संबोधित करते हुए कहा कि उन्हें समाचार पत्रों के माध्यम से ज्ञात हुआ है कि मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर 20 फरवरी को नयनादेवी क्षेत्र के लिए करोड़ों की सौगात देने वाले हैं। उन्होंने कहा कि लोकसभा चुनाव को निकट देखकर इस तरह की कारगुजारी भाजपा द्वारा की जा रही है।

ठाकुर ने कहा कि लोकसभा चुनाव को निकट देख कर इस तरह की कारगुजारी भाजपा द्वारा की जा रही है। विधायक ने कहा कि जिन सड़कों का उद्घाटन होना है, उनका काम उन्होंने पूर्व की कांग्रेस सरकार के समय किया था। उन्होंने बताया कि इन सभी सड़कों की वन विभाग से स्वीकृति भी उन्होंने ही करवाई है। ब्रम्हपुखर दयोथ जामली सड़क पर 14 करोड़ रुपये व्यय होने हैं जो कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में स्वीकृत हो गए थे। उन्होंने बताया कि इस के अलावा जिन सड़कों का उद्घाटन मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर करने वाले हैं वे सभी कांग्रेस सरकार के कार्यकाल में स्वीकृत हुई थी। रामलाल ठाकुर ने हमीरपुर के सांसद से सवाल किया कि इन सड़कों के बारे में इतना बता दें कि उन्होंने एक भी पत्र क्या इसके बारे में लिखा है।

रामलाल ठाकुर ने कहा कि जहां तक जुखाला के 33 केवी विद्युत सब स्टेशन की बात है इस को स्वीकृत करवाने के लिए भी उन्हें 2 साल लगे हैं और यह सिर्फ इसलिए रोक दिया गया था कि केंद्र में सरकार बनते ही राजीव गांधी विद्युतीकरण योजना का नाम बदलकर दीनदयाल उपाध्याय रखा गया इस कारण इसकी स्वीकृति देरी से हुई।

उन्होंने कहा कि बस्सी पंचायत में जो सोलर एनर्जी प्लांट लगा है उसका उद्घाटन भी मुख्यमंत्री द्वारा किया जा रहा है. लेकिन हैरानी की बात यह है कि जिस निजी कंपनी द्वारा यह सोलर प्लांट लगाया जा रहा है उस कंपनी को कहा जा रहा है कि स्थानीय विधायक को न बुलाया जाए।

रामलाल ठाकुर ने कहा कि ये प्रजातांत्रिक मूल्यों का हनन है जो सहन नहीं होगा। मुख्यमंत्री के प्रोग्राम का राजनीतिकरण किया जा रहा है इसलिए वह इस कार्यक्रम का बहिष्कार कर रहे हैं। रामलाल ठाकुर ने कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि वह जमीन से जुड़े व्यक्ति हैं तो वह बिलासपुर के लिए इतना बताएं कि विस्थापितों के लिए इस सरकार ने क्या किया। उन्होंने कहा कि मुख्यमंत्री कहते हैं कि वह जमीन से जुड़े व्यक्ति हैं तो वह इतना बताएं कि बिलासपुर के विस्थापितों के लिए इस सरकार ने क्या किया। वहीं जहां तक एम्स की बात है तो शिलान्यास प्रधानमंत्री द्वारा किया गया और उसके बाद भूमि पूजन जे.पी. नड्डा और मुख्यमंत्री ने किया लेकिन वास्तव में बिलासपुर के लिए न तो पर्यटन की कोई योजना दी जा रही है और न ही कोई अन्य कार्य बिलासपुर के लिए की जा रहा है जोकि उचित नहीं है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *