हिमाचल प्रदेश के होनहारों से गौरवान्वित हुआ "हिमाचल"

हिमाचल प्रदेश के होनहारों से गौरवान्वित हुआ “हिमाचल”

हिमाचल प्रदेश के होनहारों से गौरवान्वित हुआ “हिमाचल”। जी हाँ गृह मंत्रालय ने शुक्रवार शाम को पद्म विभूषण, पद्म भूषण और पद्मश्री पुरस्कारों की घोषणा कर दी है। जिसमें हिमाचल प्रदेश के  डॉ. ओमेश कुमार भारती, डॉ. जगत राम और कबड्डी खिलाड़ी अजय ठाकुर को पदमश्री अवार्ड के लिए चुना गया है जोकि पूरे हिमाचल के लिए बहुत बड़े सम्मान की बात है। पद्मश्री का अलंकरण समारोह अप्रैल में होगा। हिमाचल के होनहार डॉ. ओमेश कुमार भारती, डॉ. जगत राम और अजय ठाकुर को पद्मश्री अवॉर्ड से जहाँ सम्मानित किया जाएगा वहीं हिमाचल के लिए यह एक बहुत बड़े गौरव व ख़ुशी का विषय है। इन तीनों ने हिमाचल प्रदेश और देश के साथ-साथ विदेशभर में एक बेहतरीन उपलब्धि हासिल की है। जोकि सम्मानजनक और गौरव की बात है।  

  • डॉ. ओमेश भारती

    डॉ. ओमेश भारती

    मूल रूप से कांगड़ा के ज्वालामुखी के रहने वाले डॉ. ओमेश भारती की ओर से तैयार किए गए प्रोटोकाल से रैबीज से बचने का इलाज सस्ता हो गया है। पहले जहां रैबीज के इलाज पर 30 से 35 हजार रुपये खर्च आता था, वहीं इनके किए शोध के बाद मात्र 300 रुपये से भी कम में रैबीज से बचने का इलाज हो जाता है। इनके किए शोध को विश्व स्वास्थ्य संगठन ने मान्यता देते हुए इसे विश्व स्तर पर लागू करने के निर्देश दिए थे। रेबीज़ के सस्ते ईलाज की दवाई खोजने वाले डॉ. ओमेश भारती को भी पद्मश्री से सम्मानित किया जाएगा। डॉ. ओमेश ने 17 सालों तक कड़ी मेहनत के बाद एन्टी रेबीज़ वैक्सीन की रिसर्च की। डॉ. ओमेश भारती को अपने शोध के लिए ब्रिटिश मेडिकल जनरल की ओर से एशिया बेस्ट रिसर्च पेपर का अवॉर्ड भी मिल चुका है।

  • अंतरराष्ट्रीय स्तर पर ख्याति पाने वाले सर्जन डॉ. जगत राम सिरमौर के राजगढ़ के रहने वाले हैं और वह चंडीगढ़ पीजीआई के निदेशक के तौर पर तैनात हैं। बेहद साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाले डॉ. जगत राम ने नेत्र चिकित्सा के क्षेत्र में अंतरराष्ट्रीय स्तर पर बेशुमार उपलब्धियां हासिल की हैं। बतौर पीजीआई निदेशक डॉ. जगत राम का
    डॉ. जगत राम

    डॉ. जगत राम

    कार्यकाल 30 अक्तूबर 2021 को पूरा होगा। डॉ. जगतराम इंटरनेशनल ऑप्थेमोलॉजी अकादमी के मेंबर हैं। देश और विदेश के 24 प्रतिष्ठित अवार्ड उनके खाते में दर्ज हैं। जानकारी अनुसार पीजीआई चंडीगढ़ के निदेशक बनने वाले दूसरे हिमाचली हैं। खेतीबाड़ी करने वाले अनपढ़ पिता के बेटे डॉ. जगत राम बेहद ही साधारण शख्सियत हैं।

  • अजय ठाकुर

    अजय ठाकुर

    सोलन जिले के दभोटा के रहने वाले अजय ठाकुर ने कबड्डी में देश का नाम दुनिया में चमकाया है। भारतीय टीम के कप्तान अजय की अगुवाई भारतीय कबड्डी टीम ने पिछले साल एशियाड़ में रजत पदक जीता था। उन्होंने कबड्डी वर्ल्ड कप-2016 में बेहतरीन प्रदर्शन कर देश को गोल्ड मेडल दिया था। उन्हें स्टार प्लेयर का खिताब भी दिया गया। 2014 एशियन गेम्स में अद्भुत प्रदर्शन के बूते टीम को गोल्ड मेडल जिताया। हिमाचल सरकार ने उन्हें डीएसपी रैंक से नवाजा है। अजय ठाकुर प्रो कबड्डी लीग में बंगलूरू बुल्स, पुनेरी पल्टन और तमिल थलाइवा का प्रतिनिधित्व कर चुके हैं। अजय के पिता छोटू राम स्टेट लेवल के पहलवान रह चुके हैं। गृह मंत्रालय की ओर से घोषित पुरस्कारों में 4 पदम विभूषण, 14 पदम भूषण और 94 पद्मश्री अवार्ड शामिल हैं। इससे पहले कई कबड्डी खिलाड़ियों को अर्जुन पुरस्कार से सम्मानित किया जा चुका है। लेकिन अजय ठाकुर पहले कबड्डी खिलाड़ी हैं जिन्हें पद्मश्री अवॉर्ड मिलेगा। अजय ठाकुर वर्तमान में हिमाचल पुलिस में डीएसपी के पद पर तैनात हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

9  +  1  =