कड़ी मेहनत की और देश के लिए किया गौरव अर्जित :राठौड़

मैंने जब पहली बार ओलंपिक का ख्वाब देखा तो मुझे पागल कहा गया: राठौड़

ओलंपिक रजत पदक विजेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़

ओलंपिक रजत पदक विजेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़

नई दिल्ली : ओलंपिक रजत पदक विजेता राज्यवर्धन सिंह राठौड़ ने पुरानी यादें ताजा करते हुए कहा कि जब उन्होंने पहली बार खेलों के महाकुंभ में पदक जीतने का ख्वाब देखा था तब लोगों ने उन्हें ‘पागल’ कहा था।

ट्रैप शूटर राठौड़ ने 2004 के एथेंस ओलंपिक खेलों में ऐतिहासिक रजत पदक जीता था। उनसे पहले भारत को ओलंपिक की किसी भी व्यक्तिगत स्पर्धा में रजत पदक नहीं मिला था। इसके बाद 2008 के बीजिंग ओलंपिक में एक और निशानेबाज अभिनव बिंद्रा ने इसे बेहतर करते स्वर्ण पदक जीता था।

उन्होंने एक समारोह में कहा, ‘जब मैंने ओलंपिक में जीतने की तैयारी करनी शुरू की थी तब लोगों ने मुझे पागल कहा था।’ अर्जुन पुरस्कार विजेता खिलाड़ी और वर्तमान में केंद्रीय सूचना एवं प्रसारण राज्य मंत्री ने खिलाड़ियों की वर्तमान पीढ़ी को अपने अपने खेलों में उत्कृष्ट प्रदर्शन के लिए प्रेरित करते हुए कहा, ‘लेकिन मैंने कड़ी मेहनत की और देश के लिए गौरव अर्जित करने के लिए प्रतिबद्ध था।’ पुरस्कार समारोह में राठौड़ के अलावा, दिग्गज अमेरिकी एथलीट कार्ल लुईस , पूर्व भारतीय क्रिकेट कप्तान सौरव गांगुली समेत भारतीय खेल जगत की कई बड़ी हस्तियां मौजूद थीं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *