कोरोना काल में भी भारतीय अर्थव्यवस्था को अंतरराष्ट्रीय एजेंसियों की सराहना : अनुराग ठाकुर

वीरभद्र सरकार स्कूलों में अध्यापकों व संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के बजाए, सिर्फ़ शिलान्यास व अपनी दलगत राजनीति चमकाने में व्यस्त : अनुराग

शिमला: हमीरपुर सांसद अनुराग ठाकुर ने राज्य में गिरती शिक्षाव्यवस्था और शिक्षा में गुणवत्ता के आभाव में राज्य के छात्रों का दूसरे राज्यों की तरफ़ पलायन को लेकर चिंता जताई है। उन्होंने राज्य सरकार पर छात्रों के भविष्य के साथ खिलवाड़ करने का आरोप लगाते हुए कहा कि प्रदेश सरकार को छात्रों के भविष्य से ज़्यादा अपनी पार्टीगत राजनीति में दिलचस्पी है जिसकी वजह से राज्य में शिक्षा व्यवस्था अपने निम्नतर स्तर पर जा पहुँची है।

प्रदेश में गिरते शिक्षा स्तर पर बोलते हुए अनुराग ठाकुर ने कहा” पिछले 5 सालों में कांग्रेस सरकार का पूरा ध्यान सिर्फ़ जगह-जगह घूम कर स्कूलों का शिलान्यास करने में रहा मगर वहाँ अच्छी शिक्षा कैसे उपलब्ध हो, अध्यापकों की नियुक्ति, स्कूलों तक बच्चों के पहुँचने की व्यवस्था, बुनियादी सुविधाएँ कैसे उपलब्ध करानी है इसकी तरफ़ वीरभद्र सरकार का कोई ध्यान नहीं रहा। उन्होंने स्कूल बस नाम के खोले हैं जिनका कोई काम नहीं है। सरकारी स्कूलों के ज़्यादातर छात्रों की स्थिति ऐसी है कि उनसे अपनी क्लास तो दूर की बात है अपने से नीचे की कक्षाओं के इग्जाम पास करना मुश्किल हो रहा है।” इस मुद्दे पर आगे बोलते हुए हमीरपुर सांसद ने कहा “अच्छी शिक्षा की चाह में आज हिमाचली छात्रों को प्रदेश के बाहर का रूख करना पड़ रहा है और इसके लिए प्रदेश में शिक्षा के आधारभूत ढाँचे में गिरावट और गुणात्मक शिक्षा का आभाव दोनों ही ज़िम्मेदार हैं। वीरभद्र सरकार द्वारा खोले गए स्कूलों में अध्यापकों और संसाधनों की उपलब्धता सुनिश्चित करने के बजाए सिर्फ़ और सिर्फ़ नए शिलान्यास और अपनी दलगत राजनीति चमकाने में व्यस्त रही”।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *