चार्जशीट का स्थान राजभवन नहीं बल्कि कूड़ेदान : मुख्यमंत्री

चार्जशीट का स्थान राजभवन नहीं बल्कि कूड़ेदान : मुख्यमंत्री

  • सरकार के विरूद्ध राज्यपाल को सौंपी गई चार्जशीट को झूठ का पुलिंदा करार
  • वर्तमान कांग्रेस सरकार आगामी विधानसभा चुनावों में पुनः पूर्ण बहुमत के साथ आएगी सत्ता में

शिमला : मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने सरकार के विरूद्ध राज्यपाल को सौंपी गई चार्जशीट को झूठ का पुलिंदा करार दिया है, जिसका स्थान केवल व केवल कूड़ेदान में है। उन्होंने कहा कि झूठे आरोप लगाना भाजपा की पुरानी आदत है, क्योंकि भाजपा के पिछले कार्यकाल के दौरान उन पर दो बार झूठे आरोप लगाए गए थे, और सैशन ट्रायल के उपरान्त दोनों बार वह बरी हुए हैं।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि भाजपा अभी तक उनके आयकर के एक मात्र मामले में तीन विभिन्न केन्द्रीय एजेंसियों द्वारा जांच करवा रही है और ऐसा देश में पहले कभी भी नहीं हुआ है। मुख्यमंत्री ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने गत चार वर्षों के दौरान राज्य में सर्वांगीण विकास सुनिश्चित बनाया है, जिसके कारण भाजपा अपने आप को वैकफुट पर पा रही है और चार्जशीट महज डिप्रेशन तथा कांग्रेस सरकार व इसके कुछ मंत्रियों पर अपनी हताशा के चलते तैयार की गई है। उन्होंने कहा कि भाजपा के पास लोगों के समक्ष जाने के लिए और कोई मुद्दा भी नहीं है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यदि किसी के विरूद्ध कोई अपमानजनक मुद्दे पाए जाते हैं, तो भाजपा कानूनी परिणामों के लिए उत्तरदायी होगी। इसी दौरान, सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री विद्या स्टोक्स, स्वास्थ्य एवं परिवार कल्याण मंत्री कौल सिंह ठाकुर तथा कृषि मंत्री सुजान सिंह पठानिया ने भी चार्जशीट को झूठ का पुलिंदा बताया, जोकि बेबुनियादी आरोप लगाकर राज्य के लोगों को गुमराह करने के अलावा कुछ भी नहीं है और इस चार्जशीट का स्थान राजभवन नहीं बल्कि कूडेदान में है। उन्होंने कहा कि मंत्रियों के खिलाफ लगाए गए सभी आरोप महज ख्याली पुलाव हैं तथा इन आरोपों में सत्य का अंश मात्र भी नहीं है।

मंत्रियों ने कहा कि आरोप तथ्यों के विपरीत हैं, जिनका कोई भी प्रमाण नहीं है। भाजपा ने ये आरोप लोगों का ध्यान बांटने के उद्देश्य से मुख्यमंत्री, मंत्रियों, विधायकों, विभिन्न बोर्डों एवं निगमों के अध्यक्षों/उपाध्यक्षों पर लगाए हैं। मंत्रियों ने कहा कि राज्य के भाजपा नेता पिछले कुछ महीनों से चार्जशीट को लेकर काफी हो-हल्ला कर रहे थे, लेकिन यह एक निरर्थक अभ्यास साबित हुआ है, क्योंकि इसमें कोई भी ठोस प्रमाण दिखाई नहीं दे रहा है। वास्तविकता यह है कि वीरभद्र सिंह के नेतृत्व वाली लोकप्रिय राज्य सरकार के विरूद्ध भाजपा के पास कहने को कुछ भी नहीं है।

उन्होंने कहा कि यह राज्य सरकार के कड़े प्रयासों के कारण ही संभव हो पाया है कि आज हिमाचल प्रदेश सभी क्षेत्रों में विकास के मामले में एक आदर्श के तौर पर उभरा है। सरकार ने पार्टी लाईन से परे राज्य के सभी क्षेत्रों का तीव्र एवं सर्वांगीण विकास सुनिश्चित बनाया है और कोई भी वर्ग ऐसा नहीं, जिसे सरकार की नीतियों एवं कार्यक्रमों का लाभ प्राप्त न हुआ हो। राज्य सरकार ने न केवल कांग्रेस पार्टी के चुनावी घोषणा पत्र में लोगों से किए गए वायदों को पूरा किया है, बल्कि इससे हटकर भी अनेक ऐतिहासिक निर्णय लेकर पिछले चार वर्षों के दौरान विकास के क्षेत्र में अनेक मील के पत्थर स्थापित किए हैं।

मंत्रियों ने कहा कि भाजपा नेता राज्य सरकार की लोकप्रियता, जिसमें राज्य के लोगों का पूर्ण विश्वास है, से हताश हैं। उन्होंने कहा कि पार्टी विपक्ष की सकारात्मक भूमिका अदा करने में पूरी तरह नाकामयाब रही है और सुर्खियों में बने रहने के लिए बिना मुद्दों के दोष ढूंढ़ने की उनकी आदत है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश को देश का दूसरा ‘बाह्य शौचमुक्त राज्य’ घोषित किया गया है। भाजपा के केन्द्रीय मंत्रियों ने स्वयं हिमाचल को यह दर्जा प्रदान किया। हाल ही में हिमाचल प्रदेश को शिक्षा तथा समावेशी विकास में देश के बड़े राज्यों में सर्वश्रेष्ठ राज्य के लिए ‘स्टेट ऑफ द स्टेटस’ पुरस्कार प्रदान किया है। उन्होंने कहा कि हिमाचल प्रदेश को शिक्षा तथा स्वास्थ्य, सामाजिक-आर्थिक समानता, रोजगार सृजन, ढांचागत विकास, सड़कें, ऊर्जा, सिंचाई इत्यादि क्षेत्रों में सामुहिक रूप से समावेशी विकास में देश का नम्बर वन राज्य आंका गया है। इसके लिए पुरस्कार भाजपा से संबंध रखने वाले एक वरिष्ठ केन्द्रीय मंत्री द्वारा प्रदान किया गया है।

भ्रष्टाचार के आरोपों पर प्रतिक्रिया में मंत्रियों ने कहा कि राज्य सरकार भ्रष्टाचार के विरूद्ध जीरो टॉलरेंस की नीति अपना रही है और यदि भाजपा नेताओं के पास सरकार के विरूद्ध भ्रष्टाचार का कोई ठोस सबूत है, तो उन्हें लोकायुक्त में जाना चाहिए, वरना झूठे आरोपों के लिए राज्य के लोगों से माफी मांगनी चाहिए।

मंत्रियों ने राज्य में माफिया शासन के आरोपों की आलोचना करते हुए कहा कि राज्य सरकार उत्तरदायी एवं पारदर्शी शासन प्रदान कर रही है तथा सरकार के ध्यान में किसी भी प्रकार की अनियमितता सामने आने पर त्वरित कार्रवाई की जाती है। उन्होंने कहा कि भाजपा हमेशा ही अनावश्यक आलोचना तथा अफवाह फैलाने की नकारात्मक राजनीति में संलिप्त रहती है और राज्य के लोग उनकी इन घटिया चालबाजियों से भलीभांति परिचित हैं। उन्होंने कहा कि कांग्रेस सरकार भाजपा द्वारा आरम्भ किए गए दुष्प्रचार से डरने वाली नहीं है और उनके इन घटिया मनसूबों का करारा जबाव देगी।

विद्या स्टोक्स, कौल सिंह ठाकुर तथा सुजान सिंह पठानिया ने कहा कि भाजपा हमेशा ही वीरभद्र सिंह को अपना मुख्य राजनीतिक विरोधी मानती रही है और यही कारण है कि ये नेता हमेशा ही उनके विरूद्ध बेबुनियाद आरोप लगाते आए हैं। क्योंकि अब एक वर्ष के उपरान्त विधानसभा के चुनाव होने हैं, वे पुनः सरकार के विरूद्ध झूठे प्रचार की नीति को अपना रहे हैं। हालांकि भाजपा के नेता अपने घटिया मनसूबों में कामयाब नहीं होंगे, क्योंकि राज्य के लोग उनकी दोहरी नीतियों से अच्छी तरह परिचित हैं और राज्य सरकार की नीतियों एवं कार्यक्रमों में उन्हें पूर्ण विश्वास है। उन्होंने कहा कि वर्तमान कांग्रेस सरकार लोगों की अपेक्षाओं के अनुरूप बेहतर शासन उपलब्ध करवाने में कामयाब रही है और आगामी विधानसभा चुनावों में पुनः पूर्ण बहुमत के साथ सत्ता में आएगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *