मुख्यमंत्री ने की गेहड़वीं में आईटीआई खोलने की घोषणा

  • झण्डूता में एसडीएम कार्यालय का लोकार्पण

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने आज बिलासपुर जिले के विधानसभा क्षेत्र झण्डूता के झण्डूता में उपमण्डलाधिकारी (ना.) कार्यालय का लोकार्पण करने के उपरान्त एक विशाल जनसभा को सम्बोधित करते हुए झण्डूता कांग्रेस पार्टी को एकता कायम रखने का सन्देश दिया। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार की लोकप्रियता को और अधिक मजबूत करने के लिए कांग्रेस जनों को एकजुटता के साथ कार्य करना होगा। उन्होंने कहा कि कार्यकर्ता पार्टी का चेहरा हैं और वे कांग्रेस पार्टी के साथ दृढ़तापूर्वक व एकजुट दिखने चाहिए। उन्होंने कहा कि वे हमेशा ही विभाजन के बजाए जोड़ने पर विश्वास करते हैं और जाति एवं धर्म के नाम पर बांटना विपक्ष की नीति रही है, कांग्रेस की नहीं।

  • बागछाल पुल, जिसकी मुरम्मत का कार्य पिछले कई वर्षों से लटका है, को लेकर काफी राजनीति हो चुकी : वीरभद्र सिंह

वीरभद्र सिंह ने कहा कि बागछाल पुल, जिसकी मुरम्मत का कार्य पिछले कई वर्षों से लटका है, को लेकर काफी राजनीति हो चुकी है। उन्होंने कहा कि सरकार पुल के पुनःनिर्माण एवं मुरम्मत के लिए उचित पग उठाएगी, क्योंकि क्षेत्र के सामाजिक-आर्थिक विकास में इस पुल की काफी महत्वपूर्ण भूमिका है। यह पुल चण्डीगढ़ और शाहतलाई के बीच की दूरी को कम करता है तथा सतलुज नदी की बायीं ओर बसे स्वारघाट के दर्जनों गांवों सहित शाहतलाई से सट्टे दायीं ओर के 19-20 गांवों की एक बड़ी आबादी को लाभान्वित करता है। उन्होंने कहा निर्माण में देरी के कारण इसकी लागत में 15 से 20 करोड़ रुपये की वृद्धि होगी।

मुख्यमंत्री ने गेहड़वीं में औद्योगिक प्रशिक्षण संस्थान, झण्डूता में पुलिस थाना तथा ग्राम पंचायत बड़गांव के री-रढोह में पुल के निर्माण की घोषणाएं की। उन्होंने कहा कि झण्डूता में एसडीएम कार्यालय के नए भवन का निर्माण निकट भविष्य में शीघ्र किया जाएगा।

  • भगवान राम सभी के हैं, न कि भाजपा का पेटेंट : मुख्यमंत्री

विपक्ष पर निशाना साधते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि इन लोगों ने आम आदमी की भावनाओं के साथ खिलवाड़ किया है और यहां तक कि ईश्वर के नाम पर भी राजनीति की है। महज जय श्रीराम कह कर ‘परमभक्त’ नहीं बन जाते। उन्होंने कहा कि भगवान राम सभी के हैं, न कि भाजपा का पेटेंट। उन्होंने आयोध्या में राम मन्दिर के निर्माण को लेकर भाजपा के दावों पर सवाल उठाते हुए कहा कि भाजपा राम मन्दिर के नाम पर महज दुष्प्रचार कर रही है और इसके अलावा कुछ भी नहीं है। उन्होंने टिप्पणी करते हुए कहा कि भाजपा के लोग आज तक कुछ भी कर पाए। यदि वे इस कार्य को पूरा नहीं कर सकते हैं, उन्हें निर्णय लोगों पर छोड़ देना चाहिए। उन्होंने कहा कि यदि विपक्ष को खुली छूट दी जाती है तो वे भगवान के नाम पर लोगों को विभाजित करते हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के लोग उनके मनसूबों से भलीभांति परिचित हैं। उन्होंने कहा कि देवी-देवता किसी व्यक्ति विशेष की निजी सम्पत्ति नहीं है, प्रत्येक व्यक्ति इनकी आराधना करता है।

  • हिमाचल विकास के मामले में पहाड़ी राज्यों में अग्रणी : वीरभद्र सिंह

वीरभद्र सिंह ने कहा कि हिमाचल विकास के मामले में पहाड़ी राज्यों में अग्रणी है। राज्य में 15500 से अधिक पाठशालाएं तथा 116 महाविद्यालय कार्यरत हैं। उन्होंने कहा कि वर्तमान सरकार ने अपने मौजूदा कार्यकाल में 42 महाविद्यालय खोले हैं और इसमें कोई सन्देह नहीं कि राज्य में 90 प्रतिशत से अधिक महाविद्यालय सत्तासीन कांग्रेस की सरकारों ने खोले हैं। उन्होंने कहा कि ग्रामीण एवं दूरदराज के क्षेत्रों में महाविद्यालयों को खोलने के पीछे लड़कियों को लाभान्वित करने की सोच रही है, क्योंकि लड़कियां उच्च शिक्षा जारी रखने के लिए घरों से अधिक दूर नहीं जा सकतीं और महाविद्यालय लड़कियों को सुनहरा भविष्य सुनिश्चित बनाने के लिए खोले गए हैं।

  • मुख्यमंत्री ने की ग्राम पंचायत धार-टटोह के सलोग में पशु औषधालय खोलने की घोषणा

इससे पूर्व, बिलासपुर सदर विधानसभा के अन्तर्गत पंजगाई में जनसभा को सम्बोधित करते हुए मुख्यमंत्री ने ग्राम पंचायत धार-टटोह के सलोग में पशु औषधालय खोलने की घोषणा की। उन्होंने कहा कि लोगों को सरकार के गौ संरक्षण के प्रयासों में सहयोग करना चाहिए। उन्होंने कहा कि राज्य में ‘गौ सवंर्द्धन बोर्ड’ का गठन किया गया है, जिसके लिए चालू वित्त वर्ष के लिए 10 करोड़ रुपये का प्रावधान किया गया है, लेकिन लोगों को जागरूकता उत्पन्न करने तथा ‘गौ-शालाएं’ खोलने में आगे आना चाहिए। उन्होंने कहा कि गायों द्वारा दूध देना बन्द करने के उपरान्त उनका त्याग करना भारतीय संस्कृति एवं नीतिशास्त्र के विरूद्ध है और लोगों को इस बात को समझना चाहिए। उन्होंने कहा कि आवारा पशुओं को चारा उपलब्ध करवाने तथा उन्हें आश्रय प्रदान करने के लिए राज्य सरकार स्वयंसेवी संगठनों तथा पंचायतों को मौजूदा ‘गौ सदनों’ को सुदृढ़ बनाने तथा नई गौ-शालाएं खोलने के लिए प्रोत्साहित करेगी, जिसके लिए उनकी उपयुक्त सहायता की जाएगी। उन्होंने कहा कि सरकार श्रेष्ठ आश्रय तथा देखभाल सुविधा प्रदान करने वाले गौ-सदनों को पुरस्कार प्रदान करेगी।

मुख्यमंत्री ने पंजगाईं में चिकित्सकों तथा स्टॉफ के आवासों की मुरम्मत तथा सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में चार दीवारी के निर्माण के निर्देश दिए। उन्होंने पंजगाईं विश्राम गृह के अतिरिक्त भवन की मांग को भी स्वीकार किया। वीरभद्र सिंह ने प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र पंजगाईं को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र तथा प्राथमिक स्वास्थ्य केन्द्र कुठेड़ा को सामुदायिक स्वास्थ्य केन्द्र में स्तरोन्नत करने सहित विभिन्न परियोजनाओं के लोकार्पण किए। उन्होंने 1.51 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित जामला होते हुए बैरी-सलनू सम्पर्क मार्ग तथा नए खोले गए उपमण्डलाधिकारी (ना.) झण्डूता के लोकार्पण भी किए।

इसके उपरान्त, मुख्यमंत्री ने उठाऊ जलापूर्ति योजना मसवार-पटेड के अन्तर्गत 85 लाख रुपये की उठाऊ जलापूर्ति योजना का उद्घाटन किया। उन्होंने सीर खड्ड पर 1.70 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले कसोल से लिंगड़ी पैदल पुल की आधारशिला रखी। उन्होंने ग्राम पंचायत कुठेड़ा तथा भलस्वाई में जलापूर्ति योजना तलवाड़ा, टटोह, जोलपलाखीं से जनगणना गांव भलस्वाई, बाग, जोलपलाखीं तथा मसौर की आंशिक रूप से कवर बस्तियों को 1.63 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाली उठाऊ जलापूर्ति योजना तथा पपरोला पुल के समीप सौली खड्ड/मनी खड्ड पर 1.87 करोड़ रुपये की लागत से निर्मित होने वाले चैक डैम की आधारशिलाएं रखीं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *