ब्लॉग

शिमला : कार नाले में गिरी, चालक की मौत

शिमला : कार नाले में गिरी, चालक की मौत

शिमला: शिमला जिला के तहत कुमारसैन में हुए दर्दनाक सड़क हादसे में एक व्यक्ति की मौत हो गई। जानकारी के अनुसार बुधवार देर शाम झमोल के समीप बड़ागांव-किंगल सड़क पर एक आल्टो कार (एचपी 95-0140) दुर्घटनाग्रस्त होकर नाले में जा गिरी। करीब साढ़े 6 बजे भरेडी ग्राम पंचायत के उपप्रधान देवराज ने इस हादसे की सूचना कुमारसैन पुलिस को दी।

हादसे की सूचना मिलते ही पुलिस ने मौके पर पहुंचकर गंभीर रूप से घायल देवेन्द्र को घटनास्थल से निकालकर अस्पताल पहुंचाया, जहां डॉक्टर ने उसे मृत घोषित कर दिया। मृतक की पहचान देवेन्द्र पुत्र तोता राम निवासी झमोल गांव के रूप में की गई है जोकि कार चला रहा था। रामपुर के एसडीपीओ अभिमन्यु वर्मा ने हादसे की पुष्टि करते हुए कहा कि शव को पोस्टमार्टम के उपरांत परिजनों को सौंप दिया है। वहीं मामला दर्ज कर दुर्घटना के कारणों की जांच की जा रही है।

सरकार प्रदेश की चुनौतियों से निपटने में पूरी तरह असफल : वीरभद्र सिंह

सरकार प्रदेश की चुनौतियों से निपटने में पूरी तरह हो रही है असफल : वीरभद्र सिंह

  • बिंदल का इस्तीफ, बीजेपी के भीतर जो अंतर्कलह चल रही है, उससे लोगों का ध्यान हटाने मात्र का एक असफ़ल प्रयास : वीरभद्र सिंह

शिमला:पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने आज एक बयान जारी कर कहा है कि कोविड-19 जैसे संकट के बीच रिश्वत लेने के आरोप में स्वास्थ्य निदेशक की गिरफ्तारी से साफ है कि इसके तार सीधे बीजेपी के बड़े नेताओं से जुड़े है। उन्होंने कहा है कि बिंदल का इस्तीफा , असल में बीजेपी के भीतर जो अंतर्कलह चल रही है, उससे लोगों का ध्यान हटाने मात्र का एक असफ़ल प्रयास है। वीरभद्र सिंह ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग में कोरोना किट्स,वेंटिलेटर, मास्क,सैनिटाइजर और पीपीई जैसे आवश्यक उपकरणों की आपूर्ति को लेकर रिश्वत और प्रदेश सचिवालय में सैनिटाइजर की आपूर्ति घोटाले ने बीजेपी की ईमानदारी की पूरी पोल खोल दी है।

पूर्व सीएम वीरभद्र सिंह ने कहा कि उनके 60 साल के राजनीतिक करियर में उन्होंने कभी कोई ऐसा दौर नहीं देखा जब ऐसी विपदा के समय कोई राजनीतिक दल संगीन भ्रष्टाचार के आरोप में संलिप्त पाए जाए। उन्होंने कहा है कि सरकार प्रदेश की चुनौतियों से निपटने में पूरी तरह असफल साबित हो रही है। लोगों को राहत देने की जगह महंगाई परोसी जा रही है। किसानों, बागवानों के साथ साथ आम लोगों की समस्याओं की ओर सरकार का कोई भी ध्यान नही है। सरकार पूरी तरह से संवेदनहीन नज़र आ रही है, जो दुर्भाग्यपूर्ण है। वीरभद्र सिंह ने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग से जुड़े इस रिश्वत मामले की निष्पक्ष जांच की जानी चाहिए। उन्होंने कहा है कि चूंकि यह विभाग सीएम जयराम ठाकुर के पास है इसलिए इसकी संवेदनशीलता ओर भी बढ़ जाती है। सीएम को इसकी पूरी जांच किसी सिटिंग जज से करवानी चाहिए।

 

 

सोलन : बीबीएन क्षेत्र में मां-बेटे समेत तीन कोरोना संक्रमित, 276 पहुंचा आंकड़ा

सोलन : बीबीएन क्षेत्र में मां-बेटे समेत तीन कोरोना संक्रमित, 276 पहुंचा आंकड़ा

सोलन: हिमाचल के सोलन में बीबीएन क्षेत्र में तीन कोरोना संक्रमित मरीज सामने आए हैं। इनमें दो मां-बेटा हैं जो दिल्ली से बद्दी पहुंचे थे। जबकि एक अन्य महिला जो भुड्ड की रहने वाली बताई जा रही है की भी कोरोना संक्रमित होने की पुष्टि हुई है। यह महिला अपने पति के साथ बद्दी अस्पताल में चेकअप करवाने आई थी। जिसके बाद स्वास्थ्य विभाग ने महिला का सैंपल लिया जो रिपोर्ट में पॉजिटिव पाया गया है।

तीनों मामलों में संक्रमित मरीजों की ट्रैवल हिस्ट्री दिल्ली व उत्तर प्रदेश की बताई जा रही है। मां और बेटा दोनों बद्दी इंडोर स्टेडियम में क्वारंटीन थे। जिला स्वास्थ्य अधिकारी डा. एनके गुप्ता ने तीनों मामलों की पुष्टि की है।  अब तक प्रदेश में 276 मरीज संक्रमित हो चुके हैं। इनमें से 201 एक्टिव केस हैं, 76 ठीक हो चुके हैं, जबकि 5 की मौत हो चुकी है।

 

 

हमीरपुर: 15 कोरोना संक्रमितों को निगेटिव बताकर भेज दिया घर, जांच के आदेश

हमीरपुर: 15 कोरोना संक्रमितों को निगेटिव बताकर भेज दिया घर, जांच के आदेश

हमीरपुर: हमीरपुर में कोरोना संक्रमित 15 लोगों की रिपोर्ट नेगेटिव बताकर घर भेजने के मामले में उपायुक्त हमीरपुर हरिकेश मीणा ने जांच के आदेश दिए  हैं। वहीं 43 लोगों में से 15 लोगों की देर रात को रिपोर्ट पॉज़िटिव आने के बाद ज़िला प्रशासन ने तुरंत 15 लोगों को कोविड केयर सेंटरों में शिफ्ट किया गया है।

प्रदेश के हमीरपुर में  कोरोना संक्रमितों को लेकर हुई लापरवाही का खुलासा हुआ है। यहां हमीरपुर में कोरोना संक्रमित 15 लोगों की रिपोर्ट निगेटिव बताकर उन्हें घर भेज दिया। शिमला से कोविड-19 पॉजिटिव रिपोर्ट आने के बाद प्रशासन में आया। अब सभी कोरोना संक्रमितों को घर से कोविड-19 केयर सेंटर शिफ्ट किया गया है।

एसडीएम भोरंज ने सभी पॉजिटिव लोगों को घर भेजने के आदेश जारी किए थे। जिला प्रशासन ने मामला संज्ञान में आते ही जांच बिठा दी है। स्वास्थ्य विभाग ने भी इस मामले की जांच शुरू कर दी है। सीएमओ हमीरपुर डॉ. अर्चन सोनी ने कहा कि इस मामले की पड़ताल की जा रही है।
इस सारे मामले की सरकार ने रिपोर्ट तलब की है।

 

 

 

हमीरपुर: 15 कोरोना संक्रमितों को निगेटिव बताकर भेज दिया घर, जांच के आदेश

हिमाचल प्रदेश में आज कोरोना पॉजिटिव के 26 नए मामले : हमीरपुर में 15, बिलासपुर में 7, कांगड़ा में 3 और ऊना में 1 मामला 

हिमाचल: प्रदेश  में कोरोना मामलों में आय दिन बढोत्तरी का क्रम जारी है। आज प्रदेश में कोरोना पॉजिटिव के 26 नए मामले सामने आए हैं। जहाँ हमीरपुर में ही 15 नए मामले सामने आए वहीं बिलासपुर में 7, कांगड़ा में 3 और ऊना में 1 मामला सामने आया है। इसमें बिलासपुर के 2, हमीरपुर के 15 और कांगड़ा का एक पॉजिटिव मामला पिछले कल के पेंडिंग सैंपल से है। साथ ही 8 आज के सैंपल से पॉजिटिव आए हैं।

इन मामलों के साथ हमीरपुर में आंकड़ा 100 के करीब पहुंच गया है। कोरोना पॉजिटिव का कुल आंकड़ा 93 है। एक्टिव केस 85 हैं। सात मरीज ठीक हुए हैं और एक की मृत्यु हुई है।

  • बिलासपुर में कुल आंकड़ा 18 हो गया है। 14 एक्टिव केस हैं। 4 ठीक हुए हैं।
  • कांगड़ा में आंकड़ा 65 पहुंच गया है व 46 एक्टिव केस हैं। 18 लोग ठीक हुए हैं। एक की मृत्यु हुई है।
  • ऊना जिला में 32 कुल मामले हो गए हैं। एक्टिव केस 15 हो गए हैं। 17 लोग ठीक हुए हैं। ऊना कोरोना पॉजिटिव व्यक्ति 22 मई को परिवार सहित दिल्ली से ऊना पहुंचा था। पूरे परिवार सहित ऊना के क्वारंटाइन सेंटर में रखा गया था। पॉजिटिव व्यक्ति को कोविड केयर सेंटर खड्ड में शिफ्ट किया जा रहा है।
  • ऊना में कोरोना का आंकड़ा 32 हो गया है। साथ एक्टिव केस 15 हो गए हैं। अभी तक 17 मरीज ठीक हो चुके हैं।
  • कांगड़ा की पालमपुर तहसील के राजेर में 28 वर्षीय युवक कोरोना पॉजिटिव पाया गया है। युवक के सैंपल सिविल अस्पताल पालमपुर में लिए गए थे।

हिमाचल में आंकड़ा 273 पहुंच गया है। साथ ही एक्टिव केस 198 हो गए हैं। 70 कोरोना पॉजिटिव ठीक हुए हैं। साथ ही पांच की मृत्यु हुई है।

 

शिमला: शोघी-मैहली रोड पर यातायात 3 दिन तक रहेगा बंद

शिमला: शोघी-मैहली रोड पर यातायात 3 दिन तक रहेगा बंद

शिमला :  शिमला के शोघी में 70 फीट स्पेन टीएस बेली ब्रिज को ध्वस्त किया जा रहा है, जिसके अंतर्गत सुरक्षा की दृष्टि से शोघी-मैहली रोड को सभी प्रकार के वाहनों के लिए बंद कर दिया गया है ताकि निर्माण कार्य आसानी से किया जा सके। यह आदेश 28 मई से 30 मई तक लागू रहेंगे। उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने आदेश जारी करते हुए यह जानकारी देते हुए बताया कि यह सड़क केवल आपातकालीन वाहनों के लिए ही खोली जाएगी। उन्होंने बताया कि यातायात को वैकल्पिक मार्ग शोघी-शिमला बैरियर रोड से डायवर्ट किया जाएगा।
भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल के इस्तीफे के बाद कांग्रेस ने बोला हमला...

भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल के इस्तीफे के बाद कांग्रेस ने बोला हमला…

शिमला: भाजपा के प्रदेशाध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल के इस्तीफे के बाद विपक्ष ने हमला बोल दिया है। कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर व कांग्रेस विधायक दल के नेता मुकेश अग्निहोत्री ने प्रदेश भाजपा अध्यक्ष पद से डॉ. राजीव बिंदल इस्तीफे पर कहा है कि देश प्रदेश में कोरोना माहमारी के चलते भाजपा स्वास्थ्य विभाग में घोटाले और भ्रष्टाचार के पाप से मुक्त नहीं हो सकती।इन नेताओं ने कहा है कि बिंदल के इस्तीफे से साफ है कि दाल में कुछ काला है पर कही,निष्पक्ष जांच के बाद कही पूरी दाल ही काली न मिले।
राठौर व अग्निहोत्री ने एक सयुंक्त बयान में कहा है कि बिंदल के इस्तीफे से कांग्रेस के प्रदेश सरकार पर भ्रष्टाचार के आरोप सिद्ध होते हैं। इन नेताओं ने कहा है चूंकि स्वास्थ्य विभाग मुख्यमंत्री के पास ही है,इसलिए वह भी अपनी नैतिक जिम्मेदारी से नहीं बच सकते।इन्होंने कहा है कि माहमारी के चलते स्वास्थ्य विभाग में भ्रष्टाचार प्रदेश सरकार की पूरी पोल खोलता है। इन्होंने कहा है कि अभी तो इस भ्रष्टाचार की एक पोल ही खुली है आगे आने वाले समय मे तो इसकी कई परते और जड़े खुलेगी। इन्होंने कहा है कि स्वास्थ्य विभाग जुड़े घोटालों में ओर भी कई बड़े नेता शामिल हो सकतें है।
कांग्रेस नेताओं ने कहा है कि भाजपा के नेता जो अपने आप को हमेशा पाक साफ साबित करने में जुटे रहते है जल्द ही बेनकाब होंगे।कांग्रेस इनके सभी घोटालों को जनता की अदालत में लेकर आएगी।
कांग्रेस नेताओं ने कहा है कि इस पूरे मामले की निष्पक्ष जांच होनी चाहिए। ऐसा न हो की सरकार की जांच एजेंसियां कहीं इस पर लीपापोती कर इनके नेताओं को बचाने का प्रयास करें। उन्हें विजिलेंस की जांच पर भरोसा नहीं है,इसलिए इसकी जांच उच्च न्यायालय के किसी सिटिंग जज से करवाई जानी चाहिए।

वहीं पूर्व मंत्री एवं अखिल भारतीय कांग्रेस कमेटी के सचिव सुधीर शर्मा ने कहा है कि वर्तमान सरकार के कार्यकाल के दौरान हुए स्वास्थ्य विभाग में खरीदफरोख्त घोटाले के चलते प्रदेश भारतीय जनता पार्टी के अध्यक्ष डॉक्टर राजीव बिंदल का अपने पद से इस्तीफ़ा देना वर्तमान परिस्थितियों की गंभीरता को दर्शाता है। उन्होंने कहा इससे पता चलता है कि स्वास्थ्य विभाग में हुए घोटाले में किस स्तर तक की संलिप्तता है जहाँ किसी भी राष्ट्रीय दल के प्रदेश अध्यक्ष को इस्तीफ़ा देना पड़े और ये कहना पड़े कि सिर्फ़ मोरल ग्राउंड पर हुआ है इससे पता चलता है कि इस घोटाले में और कोरोना महामारी जैसी वैश्विक आपदा के चलते स्वास्थ्य विभाग में अभी तक की जितनी भी ख़रीद फ़रोख़्त हुई है  और वो संदेह के घेरे में है। मामला प्रदेश में अब तक के सबसे बड़े घोटाले का है और इस सारे के सारे मामले को जहाँ प्रधानमंत्री कार्यालय की देख रेख में 1 अलग से नोडल अधिकारी को लगाया गया है वहीं पर इस सारे क्रियाकलाप का संज्ञान लेते हुए माननीय उच्च न्यायालय की एक जाँच कमेटी गठित करके इस पर कार्यवाही करनी चाहिए। क्योंकि वर्तमान में सरकारी एजेंसियों के ऊपर से जनता का विश्वास उठ चुका है। जहाँ सत्तारूढ़ दल के अध्यक्ष को इस्तीफ़ा देना पड़े जहाँ सत्तारूढ़ दल के कई नेताओं पर उँगलियां उठ रही हों वहाँ यह विश्वास नहीं किया जा सकता है कि कितने बड़े पैमाने की हेरा-फेरी है जिसके चलते सरकारी एजेंसियों कोई न्याय कर पाएंगी।

और कांग्रेस विधायक विक्रमादित्य सिंह ने बीजेपी प्रदेशाध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल के इस्तीफे को लेकर कहा है कि स्वास्थ्य विभाग हो या सचिवालय में सैनिटाइजर की खरीद, इस माहमारी के दौर में सरकार के संरक्षण में भ्रष्टाचार चरम सीमा में चल रहा है। विक्रमादित्य सिंह ने कहा है कि उन्हें लगता है कि प्रदेश बीजेपी के अंदर सीएम जयराम ठाकुर के खिलाफ विद्रोह की चिंगारी सुलग गई है। बिंदल का इस्तीफा इसी ओर इंगित भी करता है। विक्रमादित्य सिंह ने कोरोना माहमारी के दौरान हो रहें घोटालों पर चिंता व्यक्त करते हुए स्वास्थ्य विभाग और सचिवालय में सैनिटाइजर खरीद की निष्पक्ष जांच करवाने की मांग की है। उन्होंने कहा है कि इसकी जांच उच्च न्यायालय के अधीन की जानी चाहिए।

नड्डा ने मंजूर किया भाजपा के अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल का इस्तीफा

नड्डा ने मंजूर किया हिमाचल भाजपा प्रदेश भाजपा अध्यक्ष का इस्तीफा

9a838c4a-3945-47ac-85cf-19461fe87e74शिमला: हिमाचल प्रदेश भाजपा के अध्यक्ष डॉ. राजीव बिंदल ने  आज पद से इस्तीफा दिया था। उन्होंने भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जेपी नड्डा को त्यागपत्र भेजा था, जिसे नड्डा  ने स्वीकार कर लिया है।

ऑडियो वायरल मामले में स्वास्थ्य निदेशक की गिरफ्तारी के बाद भाजपा नेताओं पर भी सवाल उठ रहे थे। आरोपों के बीच बिंदल ने अपना त्यागपत्र भाजपा के राष्ट्रीय अध्यक्ष जगतप्रकाश नड्डा को भेजा। देर शाम नड्डा ने इस्तीफा मंजूर कर लिया। बिंदल ने त्यागपत्र में लिखा है कि वह केवल उच्च नैतिक मूल्यों के आधार पर ही त्यागपत्र दे रहे हैं।