ब्लॉग

SBI प्रबंधक और एजेंसी प्रतिनिधि 20 हजार की रिश्वत लेते गिरफ्तार

बिलासपुर : विजिलेंस ने रिश्वत लेते दबोचा नेशनल क्वालिटी मॉनीटर

बिलासपुर : विजिलेंस ने बिलासपुर में प्रधानमंत्री विकास योजना के तहत नेशनल क्वालिटी मानीटर करने पहुंचे एक केंद्रीय अधिकारी को 2.16 लाख रुपये की घूस के साथ एक निजी होटल से गिरफ्तार किया है। शिकायत मिलने पर की गई कार्रवाई के बाद विजिलेंस ने आरोपी के खिलाफ भ्रष्टाचार अधिनियम की धारा 7 और 13(2) के तहत केस दर्ज कर लिया है। कोर्ट में पेश करने के बाद आरोपी को 27 जनवरी तक रिमांड पर ले लिया है। अधिकारी पर आरोप है कि सड़कों की सही रिपोर्ट बनाने के लिए वह ठेकेदारों से रिश्वत ले रहा था।

राज्य में कोरोना मरीजों के ठीक होने की रिकवरी दर 73.4 प्रतिशत

कोरोना वायरस अपडेट शिमला

शिमला: शिमला में आज कोरोना के 152 मामले हैं, जिनमें:-

न्यू शिमला में 5

कसुम्पटी में 4

खलीनी में 3

कैथू में 1

विकासनगर में 3

संजौली में 6

कनलोग में 1

मैहली में 1

अन्नाडेल में 13

भराडी में 4

ढल्ली में 1

लोअर बाजार में 2

पन्थाघाटी में 5

चौड़ा मैदान में 1

फागली में 2

बालूगंज में 1

मशोबरा में 7

कुमारसैन में 6

नेरवा में 1

कोटखाई में 12

खनेरी में 38

मिलिट्री अस्पताल में 3

रिपन (DDU) में 4

आईजीएमसी में 25

किन्नौर से शिमला आया कोरोना का 1 मामला

सोलन स्पीति से शिमला आया कोरोना का 1 मामला

कांगड़ा से शिमला आया कोरोना का 1 मामला

हिमाचल: प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री हुए कोरोना पॉजिटिव

शिमला: प्रदेश के स्वास्थ्य मंत्री राजीव सैजल कोरोना पॉजिटिव आए हैं। इस बात की जानकारी उन्होंने खुद सोशल मीडिया के माध्यम से दी है। उन्होंने सोशल मीडिया पर जारी एक पोस्ट में लिखा कि उनके चालक के पॉजिटिव होने पर उन्होंने अपना टेस्ट करवाया है और उनकी रिपोर्ट भी पॉजिटिव आई है। उन्होंने सभी से आग्रह किया है कि पिछले कुछ दिनों में जो लोग भी उनके संपर्क में आए हैं वह कोविड टेस्ट जरुर करवा लें।

शिमला: चौपाल में सात कमरे का मकान जलकर राख

शिमला: शिमला के चौपाल में आज एक मकान में आग लगने से पूरा मकान जलकर राख हो गए है। प्राप्त जानकारी के अनुसार रविवार दोपहर बाद उपमंडल-चौपाल क्षेत्र के अंतर्गत ग्राम पंचायत लिंगजार के गांव मंडोली में बिजा राम के घर में आग लगने का मामला सामने आया है। जानकारी के मुताबिक सात कमरे का यह मकान जलकर राख हो गया है। हालांकि घटना में जान माल का कोई नुकसान नहीं हुआ है। मंडोली गांव में इस समय चार फूट के आसपास बर्फबारी हो चुकी है। जहां पर इस समय पहुंचना बहुत मुश्किल है। बर्फबारी के कारण सभी रास्ते बंद हो चुके हैं। चौपाल से मंडोली 37/38 किलोमीटर की दूरी पर है। जहां पर प्रशासन और पुलिस का पहुंचना बहुत मुश्किल हो गया है। गांव के सभी लोग इकट्ठे हो कर आग बुझाने में लगे हैं। लेकिन, आग काफी फैल चुकी है और पानी का भी कोई प्रवधान नहीं है। जिससे आग पर काबू पाया जा सके। जानकारी के मुताबिक स्थानीय लोग भी भी आग बुझाने में लगे हुए हैं।

रोहडू/छौहारा में 21 नवम्बर को जन मंच शिविर : उपायुक्त

रविवार को शिमला में दुकानें खोलने के समय में बदलाव…

शिमला: राजधानी शिमला में कोरोना के बढ़ते मामलों को देखते हुए रविवार के दिन सुबह 8 बजे से दोपहर 1 बजे तक दुकानें खुली रखने के आदेश, जिला प्रशासन द्वारा जारी किये गये थे। लेकिन शहर के दुकानदारों और लोगों ने डीसी शिमला आदित्य नेगी से दूध और सब्जी की दुकानें शाम तक खोलने की मांग की थी। जिसके बाद अब जिला प्रशासन ने फैसला लिया है कि रविवार के दिन अब दूध और सब्जी की दुकानें सुबह 8 बजे से शाम 6:00 बजे तक खोली जा सकेंगी। शिमला जिला उपायुक्त आदित्य नेगी ने आदेशों में संशोधन कर सुबह 8:00 बजे से शाम 6:00 बजे तक दूध सब्जी की दुकानें खुली रखने के निर्देश जारी कर दिए हैं। जिला उपायुक्त आदित्य नेगी ने कहा कि शहर के लोगों के आग्रह पर प्रशासन ने दुकान खोलने के समय में बदलाव किया है। जबकि अन्य दुकानें रविवार को पूरी तरह से बंद रहेंगी। उन्होंने कहा आदेशों की अवहेलना पर नियमानुसार कार्रवाई की जाएगी।

कोरोना पॉजिटिव महिला आत्महत्या मामले में डीडीयू अस्पताल के कार्यकारी एमएस चार्जशीट

स्वास्थ्य विभाग ने क्षेत्रीय दीनदयाल उपाध्याय अस्पताल (DDU रिपन) शिमला को बनाया कोविड स्वास्थ्य केंद्र

शिमला: कोरोना के बढ़ते मामलों के चलते स्वास्थ्य विभाग ने क्षेत्रीय दीनदयाल अस्पताल (DDU रिपन) शिमला को एक बार फिर कोविड डेडीकेटिड अस्पताल बनाया। 

जिला दंडाधिकारी शिमला ने कोविड महामारी के दृष्टिगत ये आदेश किये जारी...

हिमाचल कोरोना वायरस अपडेट…

हिमाचल: प्रदेश में आज कोरोना पॉजिटिव के 755 नये मामले आए हैं। जिनमें बिलासपुर में 14,  चंबा में 21, हमीरपुर में 72, कांगड़ा में 151,  किन्नौर में 1, कुल्लू में 18, लाहुल स्पीति 0, मण्डी 83, शिमला में 124,  सिरमौर में 87, सोलन में 121 और ऊना में 63  मामले आये हैं।

वहीं प्रदेश में आज 1227  मरीज स्वस्थ हुए हैं जिनमें बिलासपुर 47,  चंबा से 16,  हमीरपुर में 40, कांगड़ा में 66, किन्नौर से 3, कुल्लू में 34, लाहुल स्पीति 1, मण्डी 308,  शिमला 101, सिरमौर से 328,  सोलन में 93 और ऊना में 190  लोग स्वस्थ हुए हैं।

प्रदेश में आज 2 कोरोना संक्रमित लोगों की मौत हुई है। जिनमें मण्डी में 1 और  कांगड़ा में 1 कोरोना संक्रमित की मौत हुई। 

प्रदेश में अब कोरोना संक्रमितों का आंकड़ा 260321 पहुंच गया है जबकि सक्रिय मामले 16821 हैं। अब तक 239550 मरीज स्वस्थ हो चुके हैं, जबकि 3916 लोगों की मौत हो चुकी है।

राज्य के लोगों के लिए सामाजिक सुरक्षा पेंशन हो रही है वरदान साबित

हिमाचल: चार साल में 436 से 1037 करोड़ हुआ सामाजिक सुरक्षा पेंशन बजट

4 लाख 15 हजार 993 बुजुर्गों सहित 6 लाख से अधिक हो रहे लाभान्वित

प्रदेश सरकार समाज के हर वर्ग के कल्याण के लिए प्रतिबद्ध  है। इसी कड़ी में सामाजिक सुरक्षा से जुड़ी योजनाओं का विस्तार करते हुए प्रदेश सरकार ने बुजुर्गों, महिलाओं और दिव्यांगों आदि को प्राथमिकता दी है। इसमें उन्हें मिलने वाली पेंशन की राशि बढ़ाना, आय प्रमाण पत्र की अनिवार्यता खत्म करना और आयुसीमा घटाना शामिल है।

आंकड़े बताते हैं कि विभिन्न वर्गों के लिए सामाजिक सुरक्षा पेंशन पर प्रदेश सरकार 2017 में करीब 436 करोड़ रुपये खर्च कर रही थी। 2021 में यह बजट बढ़कर 1037 करोड़ रुपये हो चुका है।

दरअसल, 2017 में सरकार बनते ही मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने पहली मंत्रिमण्डल बैठक में बुजुर्गों के लिए दी जाने वाली वृद्धावस्था पेंशन उम्र को 80 से घटाकर 70 कर दिया था। साथ ही इसमें आय सीमा की शर्त भी हटा ली गई। इससे बुजुर्गों को आय प्रमाण पत्र बनाने की प्रक्रिया से निजात मिला। इसके साथ ही बुजुर्ग महिलाओं के लिए आयु सीमा में पांच वर्ष की और छूट दी गई है। अब बुजुर्ग महिलाओं को बिना आय सीमा के 65 की उम्र से पेंशन दी जा रही है। इन निर्णयों से लाखों बुजुर्ग लाभान्वित हुए।

चार साल में 1 लाख 95 हजार नए पेंशन आवेदन स्वीकृत

जय राम सरकार के चार साल कार्यकाल में ही 1 लाख 95 हजार 3 नए पेंशन के आवेदन स्वीकृत हुए हैं। इन फैसलों से वृद्धजनों का आर्थिक और सामाजिक सशक्तिकरण हो रहा है। सरकार की ओर से 60 से 69 वर्ष के बुजुर्गों को 850 रुपये प्रतिमाह पेंशन दी जा रही है। इससे ज्यादा उम्र के बुजुर्गों को 1500 रुपये प्रतिमाह पेंशन मिल रही है। दोनों वर्गों के लिए वृद्वास्था पेंशन को मौजूदा सरकार ने क्रमशः 700 से बढ़ाकर 850 और 1250 से बढ़ाकर 1500 किया।

किस वर्ग में कितना लाभार्थी

सामाजिक सुरक्षा पेंशन के दायरे में बुजुर्गों के अलावा, विधवा, एकल नारी, परित्यक्त महिलाएं, कुष्ठ रोगी, दिव्यांग और ट्रांसजेंडर भी शामिल हैं। इस समय 4 लाख 15 हजार 993 बुजुर्ग, 1 लाख 25 हजार 343 विधवा, एकल नारी, निराश्रित महिलाएं, 1 हजार 482 कुष्ठ रोगी और 150 ट्रांसजेंडर सहित करीब 6 लाख 9 हजार लोगों को पेंशन दी जा रही है। 70 वर्ष से अधिक उम्र के 3 लाख 7 हजार बुजुर्ग भी लाभान्वित हो रहे हैं।

ज़हरीली शराब मामले में कांग्रेस पूरी तरह से एक्सपोज़ हो चुकी है : भाजपा

• यह स्पष्ट है कि खनन, वन और भू माफिया के चौकीदार भी कांग्रेस पार्टी ने नेता है

शिमला: भाजपा प्रदेश प्रवक्ता बलदेव तोमर एवं सह मीडिया प्रभारी कर्ण नंदा ने कहा कि ज़हरीली शराब मामले में जिस प्रकार से कांग्रेस पार्टी द्वारा लीपापोती के मकसद से हमीरपुर के कांग्रेस नेता नीरज को हटाया गया है उससे यह स्पष्ट हो गया है कि कांग्रेस पार्टी अवैध शराब के कारोबार की संरक्षक है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस नेता वर्तमान में जिला हमीरपुर के महासचिव थे , पूर्व में वह उपप्रधान का चनाव भी लड़ कर जीत चुका है और कांग्रेस पार्टी के अनेकों कार्यक्रमों में सक्रिय रूप में भाग लेता थे। कांग्रेस पर्टी के तार सीधा सीधा इस मामले से जोड़ते दिखाई दे रहे है।
उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी पूर्व में भी अनेकों बार अवैध कामों को संरक्षण दे चुकी है जेनके प्रमाण जनता के समक्ष पूर्व में आ चुके हैं, इस प्रकरण से शराब मामले में कांग्रेस पूरी तरह से एक्सपोज़ हो चुकी है। अब तो यह स्पष्ट है कि खनन, वन और भू माफिया के चौकीदार भी कांग्रेस पार्टी ने नेता है।
उन्होंने कहा कि नकली शराब तस्करी का कांग्रेस नेताओं को पहले से ही पता था। कांग्रेस पार्टी के नेता केवल जनता को गुमराह कर रहे थे।
उन्होंने कहा कि एसा लग रहा है कि इस मामले में अपराधी खुद दे रहे है सरकार को सलाह, अब अपने आप को बचाने के लिए कांग्रेस नेता अनेकों प्रकार की जांच मांग रहे है। पर हम यह बता दे कि हिमाचल पुलिस की जांच में कोई कमी नहीं है।
उन्होंने कहा कि हिमाचल पुलिस ने इस मामले में अच्छा काम किया है ,  72 घण्टे में केस सॉल्व करना आने आप में ही ऐतिहासिक है।

वित्तीय अपराधों पर दो दिवसीय सम्मेलन आयोजित

सोलन: वित्तीय अपराध अध्ययन केंद्र, कानूनी विज्ञान संकाय, शूलिनी विश्वविद्यालय ने वित्तीय अपराध प्रयोगशाला, जिंदल इंस्टीट्यूट ऑफ बिहेवियरल साइंसेज के सहयोग से वित्तीय अपराध अध्ययन पर पहले अंतर्राष्ट्रीय सम्मेलन की मेजबानी की। शनिवार को संपन्न हुए दो दिवसीय सम्मेलन का मुख्य विषय वित्तीय अपराधों की अवधारणा को समझने योग्य बनाना और इस प्रकार के गैर-शारीरिक अपराध के बारे में जन जागरूकता बढ़ाना था।

पहले दिन एक विशेषज्ञ पैनल चर्चा हुई जिसमें चार देशों के विशेषज्ञों ने विभिन्न प्रकार के वित्तीय अपराधों पर अपने दृष्टिकोण साझा किए। आमंत्रित अतिथियों में रुस के प्रोफ़ेसर विक्टर माचेखिन, प्रोफ़ेसर व्लादिमीर ख़िज़, प्रोफ़ेसर याना उस्तीनोवा और प्रोफ़ेसर ओल्गा रोज़्नोवा के साथ इंडोनेशिया के प्रोफ़ेसर हॉटनायर और प्रो धर्मा तिंत्री शामिल थे।

इन वक्ताओं ने अपने-अपने देशों में अंतरराष्ट्रीय कर कानूनों और वित्तीय अपराधों के बारे में चर्चा की। शूलिनी विश्वविद्यालय में कानूनी विज्ञान संकाय के डीन प्रोफेसर एन के गुप्ता ने वित्तीय अपराध और उसके परिणामों का अवलोकन प्रदान किया। शूलिनी विश्वविद्यालय के प्रोफेसर नरिंदर वर्मा ने चर्चा की कि किस प्रकार सोना वित्तीय अपराध का एक प्रमुख स्रोत बनता जा रहा है।

शूलिनी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रो पीके खोसला ने वित्तीय अपराधों का अवलोकन प्रदान किया,              इसके बाद शूलिनी विश्वविद्यालय के कुलपति प्रोफेसर अतुल खोसला ने दुनिया भर के प्रमुख बहुराष्ट्रीय  निगमों में सलाहकार के रूप में अपने अनुभव से वित्तीय अपराधों के जीवंत उदाहरण प्रदान किए।

सम्मेलन का दूसरा दिन साइबर अपराध पर केंद्रित था, जिसमें प्रतिभागियों ने क्रिप्टो मुद्रा और ब्लॉक श्रृंखला पर चर्चा की, कि कैसे COVID में वित्तीय अपराध बदल गए हैं, और लेखा परीक्षक कैसे मदद कर सकते हैं। लगभग 20 प्रतिभागियों ने पर्यावरणीय मुद्दों से लेकर ड्रग माफिया और देह व्यापार तक विभिन्न प्रकार के वित्तीय अपराधों पर अपने शोध प्रस्तुत किए।

बाद में, नॉर्वे के प्रोफेसर पेट्टर गॉट्सचॉक ने चर्चा की कि कैसे सुविधा सिद्धांत का उपयोग करके वित्तीय अपराधों का अध्ययन किया जा सकता है और केस स्टडी के साथ इसका प्रदर्शन किया।

महात्मा गांधी राष्ट्रीय ग्रामीण शिक्षा परिषद के निदेशक प्रोफेसर चेतन चित्तलकर ने भ्रष्टाचार पर चर्चा करने के लिए अपने ज्ञान को साझा करने और भगवत गीता के श्लोकों को उद्धृत करके सम्मलन का समापन किया।