ब्लॉग

बर्फ से गुलजार हुआ “हिमाचल”

बर्फ से गुलजार हुआ “हिमाचल”

रामपुर के लवी मेले से लौटते वक्त मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज और मंडी सांसद राम स्वरूप शर्मा ने भी बर्फबारी के नजारे का लुत्फ़ उठाया

रामपुर के लवी मेले से लौटते वक्त मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज और मंडी सांसद राम स्वरूप शर्मा ने भी बर्फबारी के नजारे का लुत्फ़ उठाया

शिमला: राजधानी शिमला के कुफरी में बुधवार रात सीजन का पहला हिमपात हुआ। हिमाचल प्रदेश के पहाड़ियों सहित ऊपरी क्षेत्रों में हल्की बर्फबारी देखने को मिली है। कई इलाकों में यह मौसम की पहली बर्फबारी है। जानकारी के मुताबिक मनाली और नारकंडा में बीती रात ताजा बर्फबारी हुई, दोनों जगहों पर यह मौसम की पहली बर्फबारी है। धर्मशाला व पालमपुर में भी बर्फबारी हुई। अन्य पहाड़ी स्थलों नारकंडा,खड़ापत्थर, रोहड़ू की चांशल घाटी ऊंची पहाड़ियों में हिमपात हुआ है। नारकंडा में भी बर्फबारी के बाद जन जीवन अस्त व्यस्त हो गया है। वहीं रामपुर के लवी मेले से लौटते वक्त मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर, शिक्षा मंत्री सुरेश भारद्वाज और मंडी सांसद राम स्वरूप शर्मा ने भी बर्फबारी के नजारे का लुत्फ़ उठाया।

उधर मनाली में भी बर्फबारी हुई है। कुल्लू, मंडी, चंबा, शिमला, कांगड़ा और सिरमौर जिला के कई इलाकों में बुधवार रात ताजा बर्फबारी हुई। कुल्लू रोहतांग पास, गुलाबा की पहाड़ियां बर्फ से ढक गई हैं।  लाहौल और पांगी समेत मंडी के कई क्षेत्रों का बर्फबारी के चलते अन्य क्षेत्रों से संपर्क कट गया है। वीरवार को दर्जनों सड़कें भी बर्फबारी के चलते बंद रही। प्रदेश के जनजातीय क्षेत्रों में बर्फबारी से जनजीवन अस्त-व्यस्त हो गया है। बिजली और पानी की सप्लाई कई जगह ठप हो गई है। लेकिन वहीं पर्यटक यहां बर्फबारी का खूब लुत्फ उठा रहे हैं।

सीएम ने स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना, स्टार्टअप इंडिया यात्रा शुरू करने वाला नौंवां राज्य बना "हिमाचल"

सीएम ने स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर किया रवाना, स्टार्टअप इंडिया यात्रा शुरू करने वाला नौंवां राज्य बना “हिमाचल”

  • हिमाचल स्टार्टअप युवाओं के लिए रोजगार के मार्ग प्रशस्त करेगा : मुख्यमंत्री

शिमला: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां अपने अधिकारिक आवास ओक ओवर से राज्य के लिए स्टार्ट-अप यात्रा वाहन को हरी झण्डी दिखाकर रवाना किया। उन्होंने इस अवसर पर कहा कि हिमाचल स्टार्टअप रोज़गार प्राप्त करने के इच्छुक शिक्षित युवाओं को स्वरोजगार का मार्ग प्रशस्त कर उन्हें और युवाओं को रोजगार प्रदान करवाने के लिए सक्षम बनाएगा। स्टार्टअप तथा नवाचार परियोजनाओं को समर्थन प्रदान करने के उद्देश्य से राज्य सरकार उद्यमिता विकसित करने के लिए युवाओुं को हर संभव सहायता प्रदान करेगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि यह योजना देश के युवाओं के लिए प्रधानमंत्री नरेन्द्र मोदी का एक उपहार है, जो स्टार्टअप के लिए विभिन्न प्रोत्साहन प्रदान करती है, ताकि उद्यमियों को अपने कारोबार में सफलता हासिल करने के लिए सक्षम बनाया जा सके। यह योजना युवाओं को उनके नवाचारों को अगले स्तर तक ले जाने का अवसर प्रदान करती है, जहां वे सही मायने में बदलाव ला सकें। उन्होंने कहा कि यह यात्रा शिमला, सोलन, सिरमौर, हमीरपुर, कांगड़ा, चम्बा, कुल्लू तथा मण्डी जिलों के विभिन्न शिक्षण संस्थानों से होकर गुजरेगी। यात्रा आगामी 30 नवम्बर को आईआईटी मण्डी में सम्पन्न होगी।

जय राम ठाकुर ने कहा कि योजना में क्षमता निर्माण, नेटवर्किंग विकास, आवश्यक अधोसंरचना स्थापित करना तथा जागरूकता उत्पन्न करने के उद्देश्य से राज्य के मेजबान संस्थानों में इन्क्यूबेशन केन्द्रों के सृजन का प्रावधान है। राज्य में इन्क्यूबेशन केन्द्रों के लिए आईआईटी मण्डी, एनआईटी हमीरपुर, कृषि विश्वविद्यालय पालमपुर, विज्ञान, प्रौद्योगिकी एवं पर्यावरण परिषद, बागवानी विश्वविद्यालय नौणी, बीड़ प्रौद्योगिकी पार्क, हिमाचल प्रदेश विश्वविद्यालय, सीएसआईआर पालमपुर तथा जे.पी. विश्वविद्यालय वाकनाघाट को चयनित किया गया है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि इस योजना का मुख्य उद्देश्य रोजगार तथा स्वरोजगार सृजित करना, उद्यमियों के कौशल का उन्नयन तथा पेशेवर मार्गदर्शन के तहत उन्हें अपनी इकाइयां स्थापित करने के लिए समर्थन प्रदान करना है। योजना निर्माण तथा सेवा क्षेत्रों के संभावित क्षेत्रों में व्यवहार्य परियोजनाओं का चयन करने के लिए उद्यमियों को सहायता प्रदान करना तथा उन्हें स्टार्ट-अप शुरू करने और पेशेवर तरीके से इसका संचालन करने के लिए प्रशिक्षण प्रदान करना है।

नारकंडा : 31 ग्राम चिट्टा के साथ एक युवक गिरफ्तार

नारकंडा : 31 ग्राम चिट्टा के साथ एक युवक गिरफ्तार

शिमलाः पुलिस थाना कुमारसैन के तहत नारकंडा में पुलिस ने एक युवक को 31 ग्राम चिट्टा के साथ धरा है। युवक की पहचान जगमोहन गांव बीनबरा डाकघर जाहू उपतहसील ननखड़ी के रूप में हुई है। आरोपी के खिलाफ मामला दर्जकर छानबीन शुरू कर दी है। डीएसपी रामपुर अभिमन्यु ने बताया कि नारकड़ा में एक युवक से चिट्टा बरामद किया है। नाके के दौरान पुलिस ने इसे पकड़ने मे सफलता हासिल की।

उत्कृष्ट कार्यों के लिए पंचायती राज संस्थाएं होंगी पुरस्कृत, 22 नवम्बर तक करें ऑनलाईन आवेदन

उत्कृष्ट कार्यों के लिए पंचायती राज संस्थाएं होंगी पुरस्कृत, 22 नवम्बर तक करें ऑनलाईन आवेदन

  • उत्कृष्ट कार्यों के लिए पंचायती राज संस्थाओं को प्रदान किए जाएंगे पुरस्कार : वीरेन्द्र कंवर

शिमला: ग्रामीण विकास एवं पंचायती राज मन्त्री, वीरेन्द्र कंवर ने आज यहां  बताया कि हर वर्ष की भांति इस वर्ष भी पंचायती राज मन्त्रालय, भारत सरकार द्वारा राज्य के पंचायती राज संस्थानों को पुरस्कार प्रदान किए जाएंगे। उन्होंने कहा कि ये पुरस्कार उत्कृष्ट कार्य करने वाली जिला परिषद, दो पंचायत समितियों, तीन ग्राम पंचायतों तथा एक ग्राम सभा को प्रदान किए जाएंगे।

इसके अतिरिक्त भारत सरकार द्वारा ग्राम पंचायत विकास योजना तैयार करने वाली सर्वक्षेष्ठ पंचायत को भी पुरस्कृत किया जाएगा। यह पुरस्कार राष्ट्रीय स्तर पर 24 अप्रैल, 2019 को राष्ट्रीय पंचायत दिवस के अवसर पर प्रदान किया जाएगा।

ग्रामीण विकास एवं पचायती राज मन्त्री ने ग्राम पंचायत के प्रधानों तथा पंचायत सचिवों से उक्त पुरस्कारों के लिए ऑनलाईन आवेदन भारत सरकार के दिशा निर्देशानुसार चंदबींलंजूंंतकेण्हवअण्पद में लॉगइन करके करें। आवेदन की तिथि 15 नवम्बर से बढ़ाकर 22 नवम्बर, 2018 कर दी गई है। उन्होंने कहा कि सभी पंचायतें निर्धारित तिथि के भीतर आवेदन करना सुनिश्चत करें। वीरेन्द्र कंवर ने बताया कि सभी पंचायती राज संस्थाओं के लिए अपनी उपलब्धियों को उजागर करने तथा उपलब्धियों के लिए सम्मानित होने का यह सुनहरा अवसर है जिसके लिए सभी पंचायतों को निश्चित अवधि में आवेदन करना चाहिए।

भारत स्काउट्स और गाइडस को देय 25 लाख रुपये का अनुदान शीघ्र होगा जारी

भारत स्काउट्स और गाइडस को देय 25 लाख रुपये का अनुदान शीघ्र होगा जारी

  • स्काउट्स और गाइडस की समाज में रचनात्मक भूमिका : मुख्यमंत्री

शिमला: मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने आज यहां आयोजित भारत स्काउट्स और गाइडस की राज्य परिषद की बैठक की अध्यक्षता की।  मुख्यमंत्री ने इस अवसर पर कहा कि स्काउट वादा और कानून पर आधारित मूल्य प्रणाली के माध्यम से स्काउटिंग एक बेहतर दुनिया के निर्माण में युवा लोगों की शिक्षा में योगदान करती है, जहां लोग आत्मनिर्भर होते हैं और समाज में रचनात्मक भूमिका निभाते हैं। मुख्यमंत्री ने स्काउट्स और गाइडस गतिविधियों में नियमित रूप से भाग लेने के लिए विद्यार्थियों तथा अध्यापकों का आह्वान किया। उन्होंने कहा कि आजकल बहुत से युवा आत्म विश्वास की कमी के कारण अनेक समस्याओं का सामना कर रहे हैं। स्काउट आन्दोलन में भाग लेने से उनमें आत्म विश्वास और उत्साह की भावना उत्पन्न होगी और इससे विद्यार्थियों के व्यक्तित्व विकास में मदद मिलेगी साथ ही उनमें सामाजिक जिम्मेवारी की भावना भी उत्पन्न होगी। स्काउटिंग से विद्यार्थियों में अनुशासन और साहस पैदा होता है, जो उन्हें कठिन समय में आगे रहने में मदद करता है।

जय राम ठाकुर ने कहा कि यह महत्वपूर्ण है कि शिक्षा में उत्कृष्टता हासिल करने के अलावा विद्यार्थियों को देश के अच्छे नागरिक बनाया जाए। उन्होंने कहा कि स्काउट्स और गाइडस जैसे संघ इस दिशा में एक महत्वपूर्ण भूमिका अदा करते हैं। उन्होंने कुल्लू जिला में बाढ़ के दौरान प्रभावितों की मदद में भारत स्काउट्स और गाइडस के विद्यार्थियों की भूमिका की सराहना की।

विद्यार्थियों में नशीले पदार्थों के दुरूपयोग की बढ़ती घटनाओं पर चिंता जाहिर करते हुए मुख्यमंत्री ने स्काउट्स और गाइडस को इस बुराई को रोकने में सक्रिय भूमिका निभाने का आग्रह किया। उन्होंने कहा कि भारत स्काउट्स और गाइडस को देय 25 लाख रुपये का अनुदान शीघ्र जारी किया जाएगा। उन्होंने आश्वासन दिया कि इस अनुदान में वृद्धि की जाएगी।

मुख्यमंत्री ने कहा कि ऐसोशिएसन के साथ 1897 पाठशालाऐं, 67 महाविद्यालय तथा 7 खुली इकाइयां पंजीकृत हैं। उन्होंने कहा कि प्रदेश में स्काउट्स और गाइडस की कुल संख्या 48230 है। उन्होंने कहा कि यह सभी आयु वर्ग के लोगों के लिए एक स्वैच्छिक तथा शैक्षिक आन्दोलन है।  मुख्यमंत्री को औपचारिक तौर पर भारत स्काउट्स और गाइडस हिमाचल प्रदेश राज्य परिषद का अध्यक्ष जबकि शिक्षा मंत्री को उपाध्यक्ष नामित किया गया।

जय राम ठाकुर ने इस अवसर पर मनीला फिलिपिन्स में हाल ही में आयोजित 26वें एशिया पैसिफिक स्काउट सम्मेलन के दौरान एशिया पैसिफिक मैसेन्जर्स ऑफ पीस हीरो अवार्ड प्राप्त करने के लिए ज्योति चरण चौहान को सम्मानित भी किया।

मुख्यमंत्री ने किया रामपुर में 210.44 लाख रुपये की लागत से नव-निर्मित आयुर्वेदिक अस्पताल भवन का लोकार्पण

मुख्यमंत्री ने किया रामपुर में 210.44 लाख रुपये की लागत से नव-निर्मित आयुर्वेदिक अस्पताल भवन का लोकार्पण

  • मुख्यमंत्री का प्रदेश में आयुर्वेद चिकित्सा को बढ़ावा देने पर बल

शिमला: प्रदेश सरकार राज्य में आयुर्वेदिक चिकित्सा प्रणाली को प्रोत्साहित करने पर बल दे रही है और इन संस्थानों में अधोसंरचना को विकसित करने के साथ-साथ श्रम शक्ति का सृजन भी किया जा रहा है। यह बात मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने गत देर सांय शिमला जिले के रामपुर में 210.44 लाख रुपये की लागत से नव-निर्मित आयुर्वेदिक अस्पताल भवन का लोकार्पण करते हुए कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि आयुर्वेद दुनिया की सबसे प्राचीन उपचार प्रणाली है, जिसका उद्भव भारतवर्ष से हुआ माना जाता है। इसमें हर प्रकार के रोग का स्थाई निदान है। उन्होंने कहा कि आयुर्वेदिक दवाओं के सेवन से हमारे शरीर पर किसी प्रकार का बुरा प्रभाव नहीं पड़ता है, जबकि ऐलोपैथी में त्वरित निदान के साथ-साथ इससे कहीं न कहीं व्यक्ति के शरीर पर प्रतिकूल प्रभाव भी पड़ता है।

जय राम ठाकुर कहा कि रामपुर के आयुर्वेद अस्पताल में पंचकर्म की सुविधा प्रदान की जाएगी। उन्होंने कहा कि पंचकर्म अनेक बीमारियों का इलाज है और लोग अक्सर इसकी मांग करते हैं। वर्तमान में यह सुविधा राज्य के 16 अस्पतालों में उपलब्ध है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में आयुर्वेद अस्पतालों के नेटवर्क को और मजबूत किया जाएगा। पिछले कुछ महीनों के दौरान आयुर्वेद चिकित्सकों के 200 पद भरे गए हैं और पैरा मेडिकल के लगभग 350 पद भरे हैं। उन्होंने कहा कि आयुर्वेद संस्थानों में योग को विशेष स्थान दिया गया है और लोगों को योग प्रशिक्षण की निःशुल्क सुविधा प्रदान की जा रही है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य सरकार स्वास्थ्य पर्यटन को प्रोत्साहित करने पर बल दे रही है और इसके लिए स्वास्थ्य तंत्र को मजबूत कर राज्य को स्वास्थ्य हब्ब बनाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि राज्य के दूरवर्ती क्षेत्रों में अनेक प्रकार की जड़ी-बुटियां मौजूद हैं जो आयुर्वेदिक दवाओं के लिए उपयोग में लाई जाती हैं। उन्होंने कहा कि औषधीय पौधों की खेती को बढ़ा दिया जाएगा जिससे युवाओं को स्वरोजगार के अवसर प्रदान होंगे।

इसी बीच पत्रकारों से बात करते हुए मुख्यमंत्री ने कहा कि प्रदेश के कुछ सीमावर्ती जिले सामरिक दृष्टि से काफी महत्वपूर्ण हैं और केन्द्र सरकार ने ऐसे क्षेत्रों को आवागमन की दृष्टि से जोड़ने को गंभीरता से लिया है। लेह तक रेलवे लाईन के सर्वेक्षण की प्रक्रिया आगे बढ़ी है और आने वाले समय में रामपुर-किन्नौर क्षेत्रों में भी इस प्रकार की योजना संभव है।

ठियोग-हाटकोटी मार्ग पर हुए भू-स्खलन के कारण सड़क से शीघ्र मलबा हटाने के अधिकारियों को निर्देश

ठियोग-हाटकोटी मार्ग पर हुए भू-स्खलन के कारण सड़क से शीघ्र मलबा हटाने के अधिकारियों को निर्देश

  • ठियोग-हाटकोटी सड़क निर्माण कार्य को लेकर समीक्षा बैठक

शिमला: मुख्य सचेतक एवं जुब्बल कोटखाई विधानसभा क्षेत्र के विधायक नरेन्द्र बरागटा ने आज ठियोग-हाटकोटी सड़क के निर्माण कार्य को लेकर एक समीक्षा बैठक की अध्यक्षता की। बैठक में राष्ट्रीय उच्च मार्ग, हिमाचल प्रदेश लोक निर्माण विभाग तथा हि.प्र. सड़क अधोसंरचना निगम के अधिकारियों ने भाग लिया।

बरागटा ने ठियोग-हाटकोटी मार्ग पर जगह-जगह पर हुए भू-स्खलन के कारण सड़क पर आए मलबे को शीघ्र हटाने के अधिकारियों को निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि मलवे से सड़क को नुकसान पहुंचता है। उन्होंने कहा कि पट्टी ढांक के पास सड़क पर भारी भू-स्खलन हुआ है और बर्फबारी की आशंका को ध्यान में रखते हुए इस क्षेत्र से मलबा साफ करना जरूरी है। उन्होंने अधिकारियों को इस स्थल पर पर्याप्त मशीनरी व श्रमशक्ति लगाकर इसे जल्द से जल्द साफ करवाने को कहा ताकि आवागमन में किसी प्रकार की असुविधा न हो।

उन्होंने अधिकारियों को जिले की अन्य सड़कों की मुरम्मत भी सुनिश्चित बनाने के भी निर्देश दिए ताकि बर्फबारी के दौरान सड़क अवरुद्ध न हो।

बैठक में मुख्य अभियन्ता लोक निर्माण विभाग आर.के. वर्मा, मुख्य अभियन्ता राष्ट्रीय उच्च मार्ग भुवन शर्मा, मुख्य अभियन्ता हि.प्र. सड़क अधोसंरचना विकास निगम ललित शर्मा, अधीक्षण अभियन्ता लोक निर्माण विभाग रोहडू जितेन्द्र धीमान, अधिशाषी अभियन्ता राष्ट्रीय उच्च मार्ग अजय वर्मा तथा अधिशाषी अभियन्ता हि.प्र. सड़क अधोसंरचना विकास निगम पवन शर्मा सहित विभाग के वरिष्ठ अधिकारी उपस्थित थे।

मुख्य सचिव ने सर्दियों की तैयारियों को लेकर उपायुक्तों से की वीडियो कांफ्रेंस, कहा : जनजातीय क्षेत्रों के लिए हेलीकाप्टर उड़ानों का शीघ्र किया जाएगा प्रबन्ध

मुख्य सचिव ने सर्दियों की तैयारियों को लेकर उपायुक्तों से की वीडियो कांफ्रेंस, कहा : जनजातीय क्षेत्रों के लिए हेलीकाप्टर उड़ानों का शीघ्र किया जाएगा प्रबन्ध

  • जनजातीय क्षेत्रों के लिए हेलीकाप्टर उड़ानों का शीघ्र किया जाएगा प्रबन्ध : मुख्य सचिव

शिमला: मुख्य सचिव बी.के. अग्रवाल ने सर्दियों के मौसम के लिए तैयारियों तथा बरसात के दौरान राज्य को हुए नुकसान के आकलन के लिए केन्द्र सरकार के दल के दौरे की समीक्षा के लिए राज्य के सभी उपायुक्तों के साथ आज यहां वीडियो कान्फ्रेंस की।

उन्होंने ज़िला स्तरीय समितियों को आपदा प्रबन्धन दिशा-निर्देशों तथा स्नो मेनूअल के अनुरूप सर्दियों के लिए तैयारियां करने के लिए इसी माह सम्बद्ध विभागों की बैठक आयोजित करने के निर्देश दिए ताकि किसी आपदा के मामले में तत्काल कदम उठाए जा सके। उन्होंने आगजनी की घटनाओं को रोकने के उपायों तथा उपमण्डल स्तर तक मॉकड्रिल करने को कहा। सीमा सड़क संगठन व सीमा सुरक्षा बल, मौसम विभाग, पुलिस विभाग व बीएसएनएल के प्रतिनिधि बैठक में उपस्थित थे।

मुख्य सचिव ने किसी भी घटना की उपयुक्त व तत्काल रिपोर्ट सुनिश्चित करने के लिए विशेषकर जनजातीय तथा दूरदराज के क्षेत्रों में संचार प्रणाली में सुधार करने पर बल दिया। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार प्रदेश के जनजातीय ज़िलों के सभी उपमण्डल मुख्यालयों तथा ज़िला मुख्यालयों में वीएसएटी तथा सैटेलाईट फोन प्रदान करेगी। उन्होंने संचार केन्द्रों में वृद्धि करने पर बल दिया और बीएसएनएल को सर्दियों के दौरान बेहतर कनैक्टिविटी सुनिश्चित करने के निर्देश दिए। उन्होंने उपायुक्तों को यह सुनिश्चित बनाने को कहा कि विभागों के मध्य अवकाश के दिनों में किसी प्रकार के तालमेल व संचार की कमी न हो तथा प्रतिकूल मौसमी परिस्थितियों के दौरान लोगों को एजवाईजरी अथवा सूचना जारी करने के लिए ग्राम पंचायतों को सम्मिलित कर सूचना शिक्षा सम्प्रेषण गतिविधियां प्राथमिकता पर संचालित की जाए। उन्होंने निर्देश दिए कि सर्दियों के दौरान बेहतर संचार नेटवर्क तथा बचाव व राहत कार्यों के लिए रणनीति तैयार करने के लिए पुलिस महानिदेशक को पुलिस अधिकारियों के साथ बैठक करनी चाहिए।

बी.के. अग्रवाल ने कहा कि रोहतांग दर्रा अधिकारिक तौर पर 15 नवम्बर, 2018 से बंद हो जाता है और इसके दृष्टिगत राज्य सरकार लोगों को सुविधा प्रदान करने के लिए शीघ्र जनजातीय क्षेत्रों को हेलीकाप्टर उड़ानों का प्रबन्ध करेगी। उन्होंने कहा कि बरसात के मौसम के दौरान बादल फटने, बाढ़ तथा भू-स्खलन के कारण राज्य में हुए नुकसान का मौके पर आकलन के लिए केन्द्रीय दल 26 व 27 नवम्बर, 2018 को राज्य का दौरा कर रहा है। यह दल कुल्लू, लाहौल-स्पीति, कांगड़ा तथा चम्बा ज़िलों का दौरा करेगी।

अतिरिक्त मुख्य सचिव राजस्व मनीषा नन्दा ने संबंधित उपायुक्तों को सड़कों, आईपीएच योजनाओं तथा कृषि क्षेत्र इत्यादि को हुए नुकसान वाले स्थलों को चिन्हित करने के निर्देश दिए ताकि केन्द्रीय दल को राज्य को हुए नुकसान के बारे में बताया जा सके। उन्होंने प्राकृतिक आपदा के कारण कहीं पर भी फंसे लोगों को सुरक्षित निकालने तथा बेहतर परिवहन प्रबन्ध सुनिश्चित करने को भी कहा। उन्होंने कहा कि ज़िला प्रशासन को आगजनी की घटनाओं को रोकने के लिए प्रभावी कदम उठाने चाहिए, जो सर्दियों के दौरान प्रायः अधिक होती है।

उपायुक्तों ने अवगत करवाया कि उनके ज़िलों में राशन, पेट्रोल तथा अन्य आवश्यक वस्तुओं की कोई कमी नहीं है और सर्दियों के लिए सभी आवश्यक प्रबन्ध पहले ही कर लिए गए हैं। विशेष सचिव राजस्व एवं आपदा प्रबन्धन डी.सी. राणा ने बैठक की कार्यवाही का संचालन करते हुए अवगत करवाया कि पिछले दो दिनों के दौरान बर्फबारी तथा वर्षा के कारण राज्य के किसी भी भाग में किसी प्रकार के नुकसान की रिपोर्ट प्राप्त नहीं हुए है। उन्होंने कहा कि ज़िला स्तरीय अधिकारियों को उनके क्षेत्र में स्थिति पर नजर रखने, नियमित निगरानी करने तथा उपयुक्त कदम उठाने को कहा गया है।

 

कुल्लू: चरस तस्कर को चार साल की कैद, 30 हजार जुर्माना

कुल्लू: चरस तस्कर को चार साल की कैद, 30 हजार जुर्माना

कुल्लू: जिला कोर्ट के स्पेशल जज जिया लाल आजाद की अदालत ने चरस तस्करी के दोषी को चार साल के कठोर कारावास की सजा सुनाई है। साथ ही 30 हजार रुपए जुर्माना लगाया है। जुर्माना न भरने की सूरत में एक साल का अतिरिक्त कारावास भुगतना होगा। जुर्माना राशि अदा न करने की सूरत में दोषी को एक वर्ष अतिरिक्त कारावास भुगतना पड़ेगा। दोषी के खिलाफ 6 दिसम्बर, 2015 को कुल्लू सदर थाना में एन.डी.पी.एस. एक्ट के तहत मामला दर्ज हुआ था।

जिला उप जिला न्यायवादी पंकज धीमान ने कहा कि पुलिस ने चरस तस्कर खूब राम पुत्र लाहलु राम निवासी कोट खमारडा जिला मंडी को 6 दिसंबर 2015 को मणिकर्ण घाटी के चील मोड़ के समीप 700 ग्राम चरस साथ गिरफ्तार किया था। जांच के बाद कोर्ट में चालान पेश किया था। इस मामले में न्यायालय में 12 गवाह पेश किए गए, जिसके आधार जीया लाल की अदालत ने आरोपी को चार साल की सजा और 30 हजार रुपये जुर्माने की सजा सुनाई है।

कुमारसैन: कार खाई में गिरी, 2 की मौत 1 घायल

कुमारसैन: कार खाई में गिरी, 2 की मौत 1 घायल

कुमारसैन: उपमंडल कुमारसैन के अंतर्गत एन.एच.-5 पर सैंज के निकट अरपू में वीरवार सुबह एक कार के गहरी खाई में गिर जाने से उसमें सवार 2 युवकों की मौत हो गई, जबकि एक अन्य घायल हो गया। पुलिस से मिली जानकारी के अनुसार रामपुर से नारकंडा की ओर जा रही कार (एच.पी. 63-5121) अरपू में अनियंत्रित होकर सड़क से नीचे सतलुज की ओर खाई में जा गिरी। इस हादसे में दुर्गेश गुप्ता (32) पुत्र बालादीन गुप्ता गांव व डाकघर नारकंडा व सोनू (27) पुत्र मान सिंह गांव फराल तहसील कुमारसैन की मौके पर ही मौत हो गई जबकि जीतू शर्मा (24) पुत्र सतविजय शर्मा गांव नारकंडा घायल हो गया। दुर्घटना में घायल हुए जीतू शर्मा को उपचार के लिए रामपुर अस्पताल ले जाया गया।

प्रशासन की ओर से नायब तहसीलदार कोटगढ़ प्रदीप जस्सल ने दुर्घटना में मृतक युवकों के परिजनों को 10-10 हजार रुपए तथा घायल को 2 हजार रुपए की राहत राशि प्रदान की। मामले की पुष्टि करते हुए पुलिस थाना कुमारसैन के प्रभारी फूलचंद ने बताया कि दुर्घटना के कारणों की जांच की जा रही है।