ब्लॉग

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे शिमला

राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद पहुंचे शिमला

  • राजधानी शिमला पहुंचने पर राष्ट्रपति का राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने किया स्वागत
    राजधानी शिमला पहुंचने पर राष्ट्रपति का राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने किया स्वागत

राजधानी शिमला पहुंचने पर राष्ट्रपति का राज्यपाल व मुख्यमंत्री ने किया स्वागत

शिमला: हिमाचल की राजधानी व पहाड़ों की रानी शिमला पहुंचने पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का शानदार स्वागत किया गया। राष्ट्रपति छः दिवसीय दौरे पर प्रदेश आए हैं। राज्यपाल आचार्य देवव्रत व मुख्यमंत्री जयराम ठाकुर ने आज शिमला के कल्याणी हेलीपैड पर राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद का स्वागत किया। राष्ट्रपति अपनी धर्मपत्नी एवं प्रथम महिला सविता कोविंद के साथ कल्याणी हेलीपैड शिमला पर पहुंचे। राष्ट्रपति को भारतीय सेना के दल द्वारा सलामी दी गई। इस अवसर पर सिंचाई एवं जन स्वास्थ्य मंत्री तथा राष्ट्रपति के दौरे के लिए मिनिस्टर-इन-वेटिंग नियुक्त किए गए महेन्द्र सिंह ठाकुर भी उपस्थित थे।

सोमवार को राष्ट्रपति सोलन के बागवानी एवं उद्यानिकी विवि नौणी के दीक्षांत समारोह में शिरकत करेंगे और विद्यार्थियों को डिग्रियां बांटेंगे। समारोह में उन्हें डॉक्टरेट ऑफ साइंस की उपाधि से सम्मानित किया जाएगा। कार्यक्रम के बाद राष्ट्रपति फिर शिमला लौट आएंगे।

एसजेवीएन ने किया स्वच्छता रैली का आयोजन, रैली का मकसद हर भारतवासी में स्वच्छता की आदत को बढ़ावा देना : नंद लाल शर्मा

एसजेवीएन ने किया स्वच्छता रैली का आयोजन, रैली का मकसद हर भारतवासी में स्वच्छता की आदत को बढ़ावा देना : नंद लाल शर्मा

  • एसजेवीएन 16 से 31 मई तक पूरे देश में अपने सभी कार्यालयों व परियोजनाओं में मना रहा “स्वच्छता पखवाड़ा”
  • निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर किया रैली का शुभारंभ
  • रैली छोटा शिमला से शुरू हुई तथा मॉल रोड एवं चौड़ा मैदान होते हुए होटल पीटरहॉफ पर समाप्त हुई
  • स्वच्छ भारत का संदेश गांवों तक पहुंचाने के लिए कार्यशालाएं व नुक्कड़ नाटक का किया जाएगा प्रचार : नंद लाल शर्मा
एसजेवीएन

एसजेवीएन

शिमला : एसजेवीएन 16 से 31 मई तक पूरे देश में अपने सभी कार्यालयों और परियोजनाओं में स्वच्छता पखवाड़ा मना रहा है जिसके अंतर्गत स्वच्छ भारत के मिशन को बड़े पैमाने पर प्रचारित और बढ़ावा देने के लिए अनेकों गतिविधियां आयोजित की जा रही है। इसी के चलते विभिन्न कार्यक्रमों की श्रृंखला में आज स्वच्छता रैली का आयोजन किया गया। निगम के अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा ने हरी झंडी दिखाकर इस रैली का शुभारंभ किया। इस अवसर पर ए.एस. बिंद्रा निदेशक वित्त एवं कंवर सिंह निदेशक सिविल भी उपस्थित थे। इसके अतिरिक्त सभी अधिकारियों-कर्मचारियों व उनके परिजनों ने इस रैली में उत्साह के साथ भाग लिया। यह रैली छोटा शिमला से शुरू हुई तथा मॉल रोड एवं चौड़ा मैदान होते हुए होटल पीटरहॉफ पर समाप्त हुई।

  •  रैली का मकसद हर भारतवासी में स्वच्छता की आदत को बढ़ावा देना व  प्रधानमंत्री मोदी के स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने में एसजेवीएन का योगदान :अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा

अध्यक्ष एवं प्रबंध निदेशक नंद लाल शर्मा ने कहा कि इस रैली का मकसद हर भारतवासी में स्वच्छता की आदत को बढ़ावा देना तथा प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के स्वच्छ भारत के सपने को साकार करने में एसजेवीएन का योगदान है। उन्होंने बताया कि इस पखवाड़े के दौरान अन्य गतिविधियां जैसे पौधारोपण अभियान, स्कूली छात्रों के लिए निबंध लेखन प्रतियोगिताएं जैसे मंदिरों, विरासत भवनों, प्रतिष्ठित स्थलों, ग्रामों, सार्वजनिक स्थलों का अंगीगरण व ग्रामीण स्कूलों में शौचालयों का निर्माण इत्यादि शामिल है।

एसजेवीएन 16 से 31 मई तक पूरे देश में अपने सभी कार्यालयों व परियोजनाओं में मना रहा स्वच्छता पखवाड़ा

एसजेवीएन 16 से 31 मई तक पूरे देश में अपने सभी कार्यालयों व परियोजनाओं में मना रहा स्वच्छता पखवाड़ा

उन्होंने यह भी बताया कि स्वच्छ भारत के संदेश को गांवों तक पहुंचाने के लिए कार्यशालाएं और नुक्कड़ नाटक करके प्रचार किया जाएगा। इसके अतिरिक्त न केवल कर्मचारियों और उनके परिजनों बल्कि ग्राम सभाओं और पंचायतों के जरिए परियोजना क्षेत्रों में ग्रामीणों की प्रतिभागिता को भी सुनिश्चित किया जाएगा।

इस स्वच्छता पखवाड़े की शुरूआत मल्याणा के निकट कंपनी के मुख्यालय में 16 मई को कर्मचारियों को शपथ दिलाने के साथ हुई। कंपनी का यह अभियान देश के छह राज्यों हिमाचल प्रदेश, उत्तराखण्ड, गुजरात, महाराष्ट्र, बिहार और दिल्ली में स्थित अपनी 12 परियोजना और कार्यालयों में चलाया जा रहा है।

किन्नौर : पांगी गांव में आग लगने से कई लोग हुए बेघर, करोड़ों का नुकसान

किन्नौर : पांगी गांव में आग लगने से कई लोग हुए बेघर, करोड़ों का नुकसान

किन्नौर: किन्नौर ज़िला के पांगी गांव में देर रात आग लग गई जिससे कई लोग घरों से बेघर हो गए हैं। बताया जा रहा है कि आग लगने से करोड़ों का नुकसान हुआ है। स्थानीय लोगों और आईटीबीपी ने कड़ी मशक्कत के बाद आग पर काबू पाया। कुछ देर बाद फायर ब्रिगेड भी पहुँच गई लेकिन तब तक आग पर काबू लिया गया था। आग से कोई जानी नुकसान नहीं हुआ है।

पांगी गांव में आग लगने से कई लोग हुए बेघर

पांगी गांव में आग लगने से कई लोग हुए बेघर

फ़िलहाल आग के कारणों का पता नहीं चल पाया है। राजस्व टीम नुकसानी के आकलन में लगी है। घटना की सूचना मिलते ही एसडीएम कल्पा अवनिद्र सिंह राहत कार्यो के लिए मौके पर पहुँचे। मामले की छानबीन की जा रही है।

जानकारी अनुसार आग रात करीब बारह बजे लगी। बताया जा रहा है कि इस आगजनी में 2 मकानों के 28 कमरे जलकर राख हो गए। नेत्र सिंह ने बताया उन के 15 कमरों का मकान पूरी तरह जल गया है।  हेम चंद का तीन मंजिला मकान जिसमे 12 कमरे थे जबकि, कृष्ण भगत के दो मंजिला मकान के 16 कमरों में लगाई जीवन भर की पूंजी के लकड़ी के घर पूरी तरह जल कर स्वाह हो गए।

पांगी गांव में आग लगने से कई लोग हुए बेघर

पांगी गांव में आग लगने से कई लोग हुए बेघर

अंतर्राष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव के लिए 24 से 27 मई तक ऑडिशन : उपायुक्त अमित कश्यप

अंतर्राष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव के लिए 24 से 27 मई तक ऑडिशन : उपायुक्त अमित कश्यप

शिमला: अंतर्राष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव-2018 में सांस्कृतिक कार्यक्रमों के लिए उद्घोषक व स्थानीय कलाकारों के चयन के लिए ऑडिशन 24 से 27 मई, 2018 तक बचत भवन शिमला में लिये जाएंगे। यह जानकारी उपायुक्त शिमला अमित कश्यप ने आज यहां दी। उन्होंने बताया कि शिमला ग्रीष्मोत्सव में एंकरिंग, संगीत एवं लोक नृत्य की प्रस्तुति हेतु ऑडिशन के लिए इच्छुक कलाकारों को निर्धारित प्रपत्र पर आवेदन करना होगा।

आवेदन प्रपत्र, सहायक आयुक्त, उपायुक्त कार्यालय शिमला से प्राप्त किया जा सकता है। यह प्रपत्र जिला शिमला की वैबसाईट से भी डाउनलोड किया जा सकता है। आवेदन की करने की अंतिम तिथि 22 मई (सायं 5 बजे तक) निर्धारित की गई है। आवेदन, जिला लोक सम्पर्क अधिकारी कार्यालय शिमला में जमा करवाये जा सकते हैं। यह ऑडिशन अंतर्राष्ट्रीय शिमला ग्रीष्मोत्सव के दौरान सायं 8 बजे तक के सांस्कृतिक कार्यक्रम के लिए होंगे।

सड़कों के रखरखाव व पक्का करने के लिए 200 करोड़ आवंटित : मुख्यमंत्री

सड़कों के रखरखाव व पक्का करने के लिए 200 करोड़ आवंटित : मुख्यमंत्री

  • ग्रामीण क्षेत्रों का विकास राज्य सरकार की सर्वोच्च प्राथमिकता

शिमला: राज्य सरकार ने सड़कों के उपयुक्त रखरखाव तथा पक्का करने के लिए 200 करोड़ रुपये आवंटित किए हैं ताकि यात्रियों की आवाजाही सुविधाजनक हो। मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर ने यह बात आज मण्डी जिले के विधानसभा क्षेत्र सिराज के धरोट में जनसभा को सम्बोधित करते हुए कही।

मुख्यमंत्री ने कहा कि राज्य का संतुलित व चहुंमुखी विकास सुनिश्चित बनाना प्रदेश सरकार की मुख्य प्राथमिकता है। उन्होंने कहा कि 25 करोड़ रुपये की लागत से पंडोह-कांडा सड़क का विस्तार व सुधार किया जाएगा। उन्होंने कहा कि इससे क्षेत्र के लोगों को आवागमन की बेहतर सुविधा उपलब्ध होगी। उन्होंने कहा कि राज्य सरकार सुनिश्चित कर रही है कि ग्रामीण क्षेत्रों के विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता मिले, क्योंकि राज्य की 90 प्रतिशत आबादी गांवों में रहती है। जय राम ठाकुर ने कहा कि प्रधानमंत्री श्री नरेन्द्र मोदी के नेतृत्व में भारत सर्वाधिक विकसित राष्ट्र बनने की ओर अग्रसर है। उन्होंने कहा कि केन्द्र सरकार ने राज्य को एम्स, पीजीआई का सैटेलाईट सेंटर, आईआईआईटी, 69 राष्ट्रीय राजमार्ग तथा एक हजार करोड़ से अधिक की बागवानी परियोजना जैसी अनेक विकासात्मक परियोजनाएं प्रदान की हैं।

मुख्यमंत्री ने गोहर-खाची सड़क के सुधार के लिए पांच लाख रुपये, देवीधार पंचायत में दो ट्रेक्टर सड़कों के लिए पांच लाख रुपये, बस्सी पंचायत में सड़कों के सुधार के लिए पांच लाख रुपये, महिला मण्डल भवन के लिए तीन लाख रुपये तथा डडोह में सामुदायिक केन्द्र के लिए दो लाख रुपये की घोषणाएं की। उन्होंने अनुसूचित जाति घटक योजना के अतंर्गत क्षेत्र में सड़क के निर्माण के लिए 10 लाख रुपये प्रदान करने की भी घोषणा की।

भाजपा विधायक दल की बैठक 22 मई को

भाजपा विधायक दल की बैठक 22 मई को

शिमला: भाजपा विधायक दल की बैठक 22 मई को सांय 7 बजे पीटरहॉफ (शिमला) में आयोजित की जाएगी। बैठक की अध्यक्षता मुख्यमंत्री जय राम ठाकुर करेंगे। यह जानकारी देते हुए संसदीय कार्य मंत्री सुरेश भारद्वाज ने राज्य के समस्त मंत्रियों तथा भाजपा विधायकों से बैठक में आने का आग्रह किया है।

कर्नाटक: फ्लोर टेस्ट से पहले ही येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा

कर्नाटक: येदियुरप्पा ने दिया इस्तीफा

  • विधानसभा में बहुमत के लिए येदियुरप्पा 7 विधायक नहीं जुटा पाए

बेंगलुरू: बीएस येदियुरप्पा ने आज बहुमत साबित करने से पहले ही विधानसभा में सीएम पद से इस्तीफा दे दिया। येदियुरप्पा मात्र 55 घंटे तक ही सीएम रह सके। सुप्रीम कोर्ट के आदेश के तहत येदियुरप्पा को आज विधानसभा में बहुमत साबित करना था। येदियुरप्पा ने सदन में करीब 15 मिनट तक भाषण दिया और इसके बाद इस्तीफे का ऐलान किया। राज्यपाल वजुभाई वाला ने येदियुरप्पा को बहुमत साबित करने के लिए 15 दिन का वक्त दिया था जिसके बाद कांग्रेस ने सुप्रीम का रुख किया था। विधानसभा में बहुमत के लिए येदियुरप्पा 7 विधायक नहीं जुटा पाए और फ्लोर टेस्ट से पहले ही इस्तीफा दे दिया। येदियुरप्पा सिर्फ 55 घंटे तक ही सीएम रह सके।  येदियुरप्पा के इस्तीफे के साथ ही कर्नाटक में कांग्रेस-जेडीएस के सरकार बनाने का रास्ता साफ हो गया है। कांग्रेस ने कुमारस्वामी को सीएम पद का प्रस्ताव देते हुए बिना शर्त समर्थन देने का ऐलान किया था। दोनों पार्टियों ने राज्यपाल के समक्ष 117 विधायकों के समर्थन का पत्र भी सौंपा था, लेकिन राज्यपाल ने सबसे बड़ी पार्टी होने के नाते बीजेपी को सरकार बनाने का न्योता दिया था। इसके बाद मामला सुप्रीम कोर्ट पहुंचा जिसने फैसला सुनाया कि येदियुरप्पा दो दिन के भीतर ही बहुमत साबित करें। लेकिन वह इसमें नाकाम रहे और उनकी सरकार गिर गई। इस तरह अब कर्नाटक में अब कांग्रेस-जेडीएस की सरकार होगी। और कुमारस्वामी मुख्यमंत्री होंगे। कांग्रेस के पास 78 विधायक हैं जबकि जेडीएस के पास 37 विधायक हैं।

क्यूबा विमान हादसा: करीब 100 से अधिक लोगों की मौत

क्यूबा विमान हादसा: करीब 100 से अधिक लोगों की मौत

क्यूबा : देश की सरकारी एयरलाइन क्यूबाना डे एविएशन का बोइंग 737 विमान हवाना के होज़े मार्टी अंतरराष्ट्रीय एयरपोर्ट के पास दुर्घटनाग्रस्त हो गया है। क्यूबा की राजधानी हवाना के होज़े मार्टी हवाईअड्डे के नज़दीक एक बड़ा विमान हादसा हुआ है। हादसे में 106 लोगों के मारे जाने की ख़बर है।  स्थानीय मीडिया से मिल रही खबरों के मुताबिक यह विमान हवाना से पूर्व की ओर स्थित शहर होलगन जा रहा था, इस विमान में केबिन क्रू के सदस्यों को मिलाकर कुल 110 लोग सवार थे जिसमें यात्रियों की संख्या 104 बताई जा रही है।  क्यूबा की कम्युनिस्ट पार्टी के अख़बार ग्रैनमा के मुताबिक, सिर्फ तीन लोग ज़िंदा बच पाए हैं और उनकी भी हालत गंभीर है। घायलों का इलाज चल रहा है।

राहत और बचाव दल मौक़े पर पहुंचा

क्यूबा के राष्ट्रपति मिगेल डियाज़ कनेल दुर्घटनास्थल पर पहुंच चुके हैं, उन्होंने कई मौतों की आशंका जताई है। एक प्रत्यक्षदर्शी ने एएफपी समाचार एजेंसी को बताया कि उन्होंने दुर्घटनास्थल के पास धुएं का गुबार उठता हुआ देखा। ये विमान देश के पूर्व में मौजूद एक अन्य शहर होलगिन जा रहा था। मेक्सिकन अधिकारियों का कहना है कि ये विमान 1979 में बना था और बीते साल नवंबर में इसकी विस्तृत जांच हुई थी। मेक्सिकन कंपनी एरोलाइन्स दामोज़ ने क्यूबा की सरकारी विमानन कंपनी क्यूबन डी एवियेशन को ये विमान किराए पर दिया था।क्यूबा में 1980 के बाद होने वाला ये सबसे बड़ा विमान हादसा है। विमान हादसे के बाद देश में दो दिनों के राष्ट्रीय शोक की घोषणा कर दी गई है।

क्यूबा के राष्ट्रपति मिगुल डियाज़ कनेल दुर्घटनास्थल पर पहुंचे

मेक्सिको की ट्रांसपोर्ट विभाग का कहना है, “उड़ान भरते वक्त विमान में कोई तकनीकी ख़राबी आ गई थी और ये सीधे ज़मीन पर आ गिरा।”सुपरमार्केट में काम करने वाले जोस लुईस ने समाचार एजेंसी एएफ़पी को बताया, “अचानक कुछ हुआ और विमान मुड़ा और नीचे आ गया। हम सकते में थे.” रेडियो हवाना क्यूबा का कहना है कि ये हादसा बोयरोस और हवाना को जोड़ने वाली सड़क पर हवाना से 20 किलोमीटर की दूरी पर हुआ है। जांच अधिकारियों के दुर्घटना के कारणों की जांच शुरु कर दी है। अब तक हादसे की वजहों के संबंध में कोई आधिकारिक जानकारी नहीं मिल पाई है।

राष्ट्रपति अब 21 मई को आएंगे हिमाचल

राष्ट्रपति अब 21 मई को आएंगे हिमाचल

सोलन: राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद के नौणी विश्वविद्यालय में प्रस्तावित कार्यक्रम में आवश्यक फेरबदल किया गया है। वे अब 21 मई को विवि के दीक्षांत समारोह में आएंगे। यह कार्यक्रम पहले 22 मई को सुबह 11 बजे से प्रस्तावित था। वीरवार देर शाम राष्ट्रपति भवन से विवि प्रबंधन को भेजी गई सूचना में कार्यक्रम को बदलने की बात कही गई है। विवि के प्रवक्ता सुचेत अत्री ने जानकारी देते हुए बताया कि विवि प्रबंधन निर्धारित शेड्यूल के हिसाब से आयोजन की तैयारी कर रहा है। विवि प्रबंधन को राष्ट्रपति भवन से कार्यक्रम में फेरबदल संबंधित पत्र मिला है। अब यह कार्यक्रम पूर्व निर्धारित तारीख से एक दिन पहले 21 मई को होगा। विवि में राष्ट्रपति 462 छात्रों को डिग्रियां प्रदान करेंगे। यह विश्वविद्यालय का नौवां दीक्षांत समारोह होगा।

एसजेवीएन ने छेड़ा मल्‍याणा गांव में स्‍वच्‍छता अभियान, शिमला मेयर ने की स्‍वच्‍छता अभियान की शुरूआत

एसजेवीएन ने छेड़ा मल्‍याणा गांव में स्‍वच्‍छता अभियान, शिमला मेयर ने की स्‍वच्‍छता अभियान की शुरूआत

  •  शिमला मेयर ने की एसजेवीएन द्वारा शुरू किए स्‍वच्‍छ भारत मिशन की सराहना
  • कूड़े को सड़कों पर इधर-उधर फेंकने के बजाए कूड़े-दान में डालने की बनाएं आदत: मुखर्जी
  • एसजेवीएन द्वारा देश के छह राज्‍यों में चलाया जा रहा है स्‍वच्‍छता अभियान
sjvn

sjvn

शिमला: एसजेवीएन ने शिमला और इर्द-गिर्द के क्षेत्र में स्‍वच्‍छता पखवाड़े के दौरान स्‍वच्‍छता रखने के संदेश के प्रचार-प्रसार के लिए विभिन्नि गतिविधियों की श्रृंखला में शिमला के निकट मल्‍याणा गांव में राष्‍ट्रीय राजमार्ग-22(बाईपास रोड)पर स्थित शिव गुफा मंदिर में आज स्‍वच्‍छता अभियान चलाया। शिमला नगर निगम की महापौर कुसुम सदरेट ने स्‍वच्‍छता अभियान की शुरूआत करते हुए इस अभियान को बढ़ावा देने के लिए भी इसमें भाग लिया। उन्‍होंने बताया कि नगर निगम शिमला में स्‍वच्‍छता को बढ़ावा देने के लिए सर्वोच्‍च प्राथमिकता देता है जिसके लिए घर-द्वार से कचरा एकत्रि‍त करने के लिए एक एजेंसी को लगाया है तथा शहर में तथा इसके इर्द-गिर्द के क्षेत्रों में कई स्‍थानों पर सार्वजनिक कूड़ा-दान उपलब्‍ध कराए हैं।

एसजेवीएन के मुख्‍य महाप्रबंधक(मानव संसाधन) अमित कुमार मुखर्जी ने आयोजित की जा रही विभिन्‍न स्‍वच्‍छता गतिविधियों की जानकारी दी। उन्‍होंने बताया गया कि कंपनी ने बस स्‍टॉपों, रेलवे स्‍टेशन, पार्कों इत्‍यादि जैसे सार्वजनिक स्‍थानों पर कूड़े-दान उपलब्‍ध कराने जैसी कई गतिविधियों की शुरूआत की है। मेयर ने एसजेवीएन द्वारा शुरू किए गए स्‍वच्‍छ भारत मिशन की सराहना की और उसके बाद उन्‍होंने एक जोड़ी कूड़ा-दान लगाकर कंपनी के स्‍वच्‍छता अभियान का मंदिर परिसर से

शिमला मेयर ने की एसजेवीएन द्वारा शुरू किए स्‍वच्‍छ भारत मिशन की सराहना

शिमला मेयर ने की एसजेवीएन द्वारा शुरू किए स्‍वच्‍छ भारत मिशन की सराहना

शुभारंभ किया। कंपनी की इस पखवाड़े के दौरान और अधिक कूड़े-दान लगाने की योजना है।

गांव में चलाए गए इस स्‍वच्‍छता अभियान में मंदिर प्रबंधन तथा बाजार समिति के सदस्‍यों सहित बड़ी संख्‍या में एसजेवीएन के कर्मचारियों ने भाग लिया । इस अभियान के प्रतिभागियों और ग्रामीणों से बातचीत करते हुए मुखर्जी ने उनसे अनुरोध किया कि वे अपने कूड़े को सड़कों पर इधर-उधर फेंकने के बजाए कूड़े-दान में डालने की आदत डालें । उन्‍होंने बताया कि नीला कूड़ादान गीले कचरे और हरा कूड़ा दान सूखे कचरे के लिए इस्‍तेमाल करें ।

इस स्‍वच्‍छता पखवाड़े की शुरूआत मल्‍याणा के निकट कंपनी के मुख्‍यालय में 16 मई को निदेशक(सिविल) कंवर सिंह द्वारा कर्मचारियों को शपथ दिलाने के साथ हुई। कंपनी ने यह अभियान देश के छह राज्‍यों हिमाचल प्रदेश, उत्‍तराखण्‍ड, गुजरात, महाराष्‍ट्र, बिहार और दिल्‍ली में स्थित अपनी 12 परियोजनाओं और कार्यालयों में चलाया है।