प्रदेश ने केन्द्र सरकार की स्वीकृति के लिए भेजे नए प्रस्ताव

कोल बांध में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए स्टीमर चलाने की संभावनाएं तलाशी जाएंगी : मुख्यमंत्री

  • कोल बांध में स्टीमर चलाने की संभावनाओं को तलाशा जाएगाः मुख्यमंत्री
  • कोल बांध में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए स्टीमर चलाने की संभावनाएं तलाशी जाएंगी
  • हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम ने 6400 लाख रुपये से अधिक का राजस्व अर्जित किया है, जबकि इस वित्त वर्ष के नवम्बर, 2015 के दौरान 5618 लाख रुपये व्यय किए गए।

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने यह जानकारी आज यहां हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के निदेशक मण्डल की बैठक की अध्यक्षता करते हुए दी। उन्होंने निगम को और लाभदायक संगठन बनाने के लिए नए अवसर तलाशने पर बल दिया।

वीरभद्र सिंह ने निगम द्वारा 781.71 लाख का आप्रेशनल लाभ अर्जित करने पर खुशी जाहिर की। उन्होंने कहा कि 153.92 लाख रुपये का अवमूल्यन उपलब्ध करवाने के उपरान्त निगम ने 627.79 लाख का शुद्ध लाभ अर्जित किया। उन्होंने कहा कि निगम के कारोबार में 0.67 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई जबकि खर्चें में 4.81 प्रतिशत की कमी हुई।

उन्होंने कहा कि कोल बांध में पर्यटकों को आकर्षित करने के लिए स्टीमर चलाने की संभावनाएं तलाशी जाएंगी। उन्होंने कहा कि मण्डी जिला के ततापानी में गर्म पानी के चश्मों को पुनर्बहाल करने के लिए प्रयास किए जाएंगे। एक रिपोर्ट के अनुसार कोल बांध के बफर क्षेत्र में नाहर सिंह मन्दिर के नजदीक गर्म पानी उपलब्ध है। उन्होंने प्रशासन को मामले को कमेटी के समक्ष प्रस्तुत करने के निर्देश दिए। वीरभद्र सिंह ने निगम की सम्पति के रिकार्ड को अपडेट करने के भी निर्देश दिए।

बैठक में चण्डीगढ़ स्थित हिमाचल भवन के लिए जैन सेट खरीदने के लिए पुनः निविदा प्रक्रिया अपनाने का भी निर्णय लिया गया। यह भी निर्णय लिया गया कि निगम के कर्मचारियों को प्रोत्साहन योजना की समीक्षा के लिए कमेटी गठित की जाए।

अतिरिक्त मुख्य सचिव वी.सी. फारका ने कहा कि निगम की वित्तीय स्थिति को सुदृढ़ करने के लिए अनेक पग उठाए गए हैं और निगम की सेवाओं में भी विस्तार किया जा रहा है।

निगम के प्रबन्ध निदेशक मोहन चौहान ने निगम की विभिन्न गतिविधियों बारे विस्तृत जानकारी दी।

हिमाचल प्रदेश पर्यटन विकास निगम के उपाध्यक्ष हरिश जनारथा, मुख्य सचिव पी. मित्रा, एचपीटीडीसी के निदेशक मण्डल के सदस्य, अतिरिक्त मुख्य सचिव डा. श्रीकांत बाल्दी तथा निगम के वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *