हिमाचल में उन्नति एवं खुशहाली के नए युग का सूत्रपात

….जो कमियां रह गई हैं वो आगामी दो वर्षों में होंगी पूरी : मुख्यमंत्री

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने कहा कि वर्तमान प्रदेश सरकार ने पिछले तीन वर्षों में राज्य की जनता से किए गए प्रमुख वायदों को पूरा किया है और जो कमियां रह गई हैं, उन्हें आगामी दो वर्षों में पूरा किया जाएगा। सरकार का प्रयास रहेगा कि लक्ष्य से अधिक विकास कार्य किए जाएं। उन्होंने कहा कि सड़कों एवं शिक्षा क्षेत्रों को सरकार विशेष प्राथमिकता देगी। मुख्यमंत्री आज यहां मीडिया से अनौपचारिक बातचीत कर रहे थे।

वीरभद्र सिंह ने कहा कि कांग्रेस सरकार ने पिछले तीन वर्षों में निर्धारित लक्ष्यों से अधिक कार्य किया है। उन्होंने हैरानी व्यक्त की कि विपक्ष के नेता प्रेम कुमार धूमल झूठ बोलकर तथ्यों को तोड़-मरोड़ कर बयानबाजी कर रहे हैं। उन्होंने कहा कि सरकार हमेशा उपलब्ध रिकार्ड एवं तथ्यों के आधार पर अपनी बात रखती है। उन्होंने कटाक्ष करते हुए कहा कि धूमल हर बात में कमी निकालने की कोशिश में रहते हैं, जिसमें उन्हें अपनी विद्वता नजर आती है। उन्होंने कहा कि केंद्र सरकार की नाकामियों व भ्रष्टाचार को छुपाने और लोगों का इससे ध्यान बांटने के लिए धूमल प्रदेश सरकार पर इस तरह के आक्षेप नियमित तौर पर लगाते रहे है।

मुख्यमंत्री ने कहा कि गत तीन वर्षों में प्रदेश सरकार ने 1370 किलोमीटर नई सड़कों और 134 पुलों का निर्माण किया तथा 255 गांवों को सड़कों से जोड़ा गया है। आगामी दो वर्षों में इस क्षेत्र में और तेजी लाई जाएगी ताकि लोगों को बेहतर सड़क सुविधा उपलब्ध हो सके। इसके अतिरिक्त, 917 से अधिक 10 जमा दो स्कूल खोले गए अथवा दर्जा बढ़ाया गया तथा 24 नए डिग्री कालेज खोले गए। उन्होंने इस बात पर संतोष व्यक्त किया कि प्रदेश के दूर-दराज क्षेत्रों में प्रदेश सरकार ने जहां-जहां स्कूल खोले हैं, वहां बड़ी संख्या में विद्यार्थी शिक्षा ग्रहण कर रहे हैं। विशेष तौर पर उन स्कूलों में लड़कियों की संख्या लड़कों से अधिक है, जिससे वह व्यक्तिगत तौर पर काफी संतुष्ट हैं। वीरभद्र सिंह ने कहा कि विशेषज्ञ चिकित्सकों की कमी को दूर करने के लिए उन्हें सेवा विस्तार देने पर विचार किया जाएगा बशर्ते वे नए मेडिकल कालेजों में अपनी सेवाएं देने के लिए तैयार हों।

‘स्मार्ट सिटी’ के मुद्दे पर लेकर पूछे गए एक प्रश्न के उत्तर में उन्होंने कहा कि शिमला व धर्मशाला दोनों शहर उनके लिए समान महत्व रखते हैं। पूर्व में भी सही आंकड़ों को प्रस्तुत किया गया था तथा भविष्य में भी काबलियत के मुताबिक शहर का मूल्यांकन किया जाएगा। मुख्यमंत्री ने आशा व्यक्त की कि राज्यपाल शीघ्र ही खेल विधेयक को अपनी मंजूरी प्रदान करेंगे। उन्होंने कहा कि ऊना के ईसपुर की धाविका बख्शो देवी की सरकार हर संभव सहायता करेगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *