राज्य स्तरीय बैंकर्ज समिति की 138वीं बैठक आयोजित

  • बैंकों द्वारा सामाजिक सुरक्षा बीमा योजना के अन्तर्गत 10 लाख से अधिक लोगों का नामांकन
  • मुख्य सचिव ने की प्रदेश के विकास में बैंकों के सहयोग की सराहना
  • बैंकों द्वारा 7470 करोड़ रुपये के नये ऋण वितरित
  • सितम्बर, 2015 के अन्त तक बैंकों का कुल कारोबार 1.11 लाख करोड़ रुपये से अधिक : यूको बैंक के प्रबन्ध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी आर.के. ठक्कर
मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शिमला में की  यूको बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक

मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने शिमला में की यूको बैंक के वरिष्ठ अधिकारियों के साथ बैठक

नई दिल्ली: मुख्य सचिव पी. मित्रा ने प्रदेश द्वारा विभिन्न क्षेत्रों में प्राप्त उपलब्धियों में बैंकों की भूमिका की सराहना की। उन्होंने कहा कि कृषि तथा बागवानी प्रदेश की आर्थिकी का प्रमुख स्रोत है और प्रदेश सरकार द्वारा इसके विकास को सर्वोच्च प्राथमिकता प्रदान की जा रही है। मुख्य सचिव आज राज्य स्तरीय बैंकर्ज समिति की 138वीं बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

मित्रा ने कहा कि बैंकों द्वारा सामाजिक सुरक्षा बीमा योजना के अन्तर्गत 10 लाख से अधिक लोगों का नामांकन किया है, जो सराहनीय है। उन्होंने बैंकों को बड़े पैमाने पर जागरूकता अभियान आरम्भ कर असंगठित क्षेत्रों के कामगारों जैसे मनरेगा श्रमिकों, कृषि एवं बागवानी कार्यकर्ताओं, आंगनबाड़ी श्रमिकों आदि पर विशेष ध्यान देकर अटल पेंशन योजना के तहत नामांकन बढ़ाने के लिए और अधिक प्रयास करने की आवश्यकता पर बल दिया। मुख्य सचिव ने कहा कि सूक्ष्म उद्यमियों की प्रदेश में एक बड़ी संख्या है, जो अभी भी अपने व्यापार की जरूरतों के वित्तपोषण के लिए औपचारिक वित्तीय क्षेत्र से अनभिज्ञ है, जिस ओर विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है। उन्होंने 10 लाख रुपये तक के ऋण आवश्यकताओं वाले छोटे उद्यमियों विशेषकर 50 हजार रुपये के ऋण आवश्यकता वाले सूक्ष्म उद्यमियों को बैंकों द्वारा प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के अन्तर्गत उदार शर्तों पर ऋण उपलब्ध करवाने की ओर विशेष ध्यान देने के लिए बैंकों की सराहना की। उन्होंने कहा कि बैंकों द्वारा अप्रैल 2015 से इस योजना के आरम्भ होने के बाद अब तक लगभग 25,210 नए सूक्ष्म उद्यमियों को प्रदेश में 427 करोड़ से अधिक का ऋण प्रदान किया गया है।

मित्रा ने बैंकों से आग्रह किया कि वे आई.टी.आई. प्रशिक्षित उमीदवारों सहित कुशल उद्यमियों को इन योजनाओं के अन्तर्गत ऋण वितरण करने के लिए आगे आएं। उन्होंने बैंकों द्वारा वार्षिक ऋण योजना 2015-16 के तहत सितम्बर, 2015 को समाप्त छःमाही के लिए निर्धारित लक्ष्यों को 98 प्रतिशत हासिल करने पर सन्तोष प्रकट किया और इस दौरान 283070 नई इकाइयों को 7470 करोड़ रुपये की राशि ऋण के रूप में वितरित की गई। उन्होंने बैंकों से आग्रह किया कि उच्च पैदावार बढ़ाने के लिए पुराने सेब के बागीचों के नवीकरण व पॉलीहाऊस निर्माण को प्रोत्साहित करने के लिए अधिक से अधिक ऋण दें।

मुख्य सचिव ने की प्रदेश के विकास में बैंकों के सहयोग की सराहना

मुख्य सचिव ने की प्रदेश के विकास में बैंकों के सहयोग की सराहना

मुख्य सचिव ने कहा कि प्रदेश सरकार कृषि में विविधिकरण लाने पर विशेष ध्यान दे रही है और किसानों को सिंचाई सुविधाएं उपलब्ध करवाने के साथ-साथ किसानों को कृषि में नवीनतम प्रणाली अपनाने के लिए प्रोत्साहित किया जा रहा है। उन्होंने कहा कि वर्तमान वित्त वर्ष के तहत निर्धारित 1 लाख के लक्ष्यों के मुकाबले किसानों को अब तक 60 हजार मृदा स्वास्थ्य कार्ड वितरित किए गए हैं। उन्होंने कहा कि सरकार किसानों को मौसम आधारित कृषि बीमा छत्र उपलब्ध करवा रही है। उन्होंने बैंकों से आग्रह किया कि वे इस बारे किसानों को जागरूक करें। मित्रा ने इस अवसर पर नवार्ड द्वारा तैयार की गई पुस्तिका ‘यूनिट कॉस्ट फार वेरियस फार्मस सेक्टर एक्टीविटिज इन एच.पी. 2015-16’ का भी विमोचन किया।

यूको बैंक के प्रबन्ध निदेशक एवं मुख्य कार्यकारी अधिकारी आर.के. ठक्कर ने अपने संक्षिप्त सम्बोधन में कहा कि सितम्बर, 2015 के अन्त तक बैंकों का कुल कारोबार 1.11 लाख करोड़ रुपये से अधिक हुआ है और कुल कारोबार में 15 प्रतिशत की वृद्धि दर्ज की गई। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1511 लोगों पर एक बैंक शाखा है, जो सराहनीय है, जबकि राष्ट्रीय स्तर पर यह एक लाख लोगों पर है। उन्होंने कहा कि प्रदेश में 1915 बैंक शाखाएं हैं और शेष बैंक सुविधा रहित क्षेत्रों विशेषकर दूरदराज क्षेत्रों में बैंक सुविधाएं प्रदान करने के लिए 1347 बैंक मित्र लगाए गए हैं।

भारत सरकार के वित्त सेवा निदेशक अतिश सिंह ने कहा कि केन्द्र सरकार सूक्ष्म उद्यमियों को प्रधानमंत्री मुद्रा योजना के तहत अधिक से अधिक उद्यमियों को ऋण देने के लिए विशेष तौर पर प्रयासरत है। उन्होंने बैंकों से आग्रह किया कि प्रशिक्षित उद्यमियों को जागरूक करने के लिए विशेष अभियान चलाएं। यूको बैंक के महाप्रबन्धक वी.के. श्रीवास्तव ने कहा कि हितधारकों के लिए व्यापक जागरूकता अभियान चलाया जा रहा है और उन्होंने वित्तीय साक्षरता अभियान चलाने पर बल दिया।

भारतीय रिजर्व बैंक के क्षेत्रीय निदेशक आई.एस. नेगी ने बैंक रहित गांवों में बैंक सुविधाओं के विस्तार और लघु या मोर्टार शाखाओं व बैंक मित्र के माध्यम से बैंकिंग सेवाएं प्रदान करवाने के निर्देश दिए। उन्होंने और अधिक एटीएम स्थापित करने पर भी बल दिया।

मित्रा ने इस अवसर पर नवार्ड द्वारा तैयार की गई पुस्तिका ‘यूनिट कॉस्ट फार वेरियस फार्मस सेक्टर एक्टीविटिज इन एच.पी. 2015-16’ का भी विमोचन किया गया

मित्रा ने इस अवसर पर नवार्ड द्वारा तैयार की गई पुस्तिका ‘यूनिट कॉस्ट फार वेरियस फार्मस सेक्टर एक्टीविटिज इन एच.पी. 2015-16’ का भी विमोचन किया गया

नाबार्ड के मुख्य महाप्रबन्धक पी. राधाकृष्णन ने प्रदेश में समावेशी विकास को प्राप्त करने के लिए व्यापक स्तर पर ऋण देने में स्वयं सहायता समूह और संयुक्त देयता समूहों को शामिल करने पर बल दिया।

यूको बैंक के उप-महाप्रबन्धक ए.के. सिन्हा ने इस अवसर पर धन्यवाद प्रस्ताव प्रस्तुत किया। अतिरिक्त मुख्य सचिव संजीव गुप्ता, ग्रामीण विकास सचिव ओंकार शर्मा, विशेष सचिव वित्त अक्षय सूद, प्रदेश सरकार के वरिष्ठ अधिकारियों सहित बैंकों व बीमा कम्पनियों के अधिकारियों ने बैठक में भाग लिया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

1  +  9  =