वीरभद्र सिंह का ब्यान ‘उल्टा चोर कोतवाल को डांटे’ कहावत जैसा : भाजपा

शिमला : मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह द्वारा केन्द्रीय मंत्री जे.पी. नडडा पर दिए ब्यान का कड़ा प्रतिकार करते हुए भाजपा प्रवक्ता प्रवीण शर्मा, कृपाल परमार, चन्द्रमोहन ठाकुर व अजय राणा ने कहा कि कुर्सी के मोह में फॅंसे वीरभद्र सिंह की हालत उस व्यक्ति की तरह हो गई है जो अपने दोषों का आत्म विश्लेषण करने की बजाए अपनी कमियों के लिए दूसरों को जिम्मेवार ठहराता है। अपने द्वारा किए गए भ्रष्ट कारनामों के लिए कभी अरूण जेटली, प्रो. प्रेम कुमार धूमल और अब जगत प्रकाश नडडा को जिम्मेदार ठहराए जाने के उनके आरोप ‘उल्टा चोर कोतवाल को डांटे’ की कहावत को चरितार्थ कर रहा है।

भाजपा प्रवक्ताओं ने कहा कि वीरभद्र सिंह पाक साफ हैं तो कानून से घबराने की बजाए उन्हें कानून का सामना करना चाहिए और अगर वह निर्दोष हैं तो आखिर क्यों बार-बार न्यायालय में अपने विरूद्ध जांच को बन्द करने की गुहार लगा रहे हैं। उनकी निर्दोषता केवल तभी सिद्ध होगी अगर वह खुले मन से जांच का सामना करते हैं और यह तब तक संभव नहीं है जब तक वह अपने पद पर बने रहते हैं।

भाजपा प्रवक्ताओं ने कहा कि वीरभद्र सिंह केवल उसी व्यक्ति को नैतिक व पाक साफ मानते हैं जो उनके द्वारा किए गए भ्रष्टाचार के कारनामों के प्रति आंखे मूंद लें। लोकतन्त्र में विपक्ष का कर्तव्य है कि वह भ्रष्ट कारनामों को जनता के समक्ष उजागर करें और भाजपा अपने कर्तव्य का निर्वहन बखूवी कर रही है और उनको पद से हटाए जाने तक भाजपा अपने कर्तव्य का निर्वहन जनहित में करती रहेगी। प्रो. प्रेम कुमार धूमल ने भी कभी इस कर्तव्य को व्यक्तिगत लड़ाई नहीं माना और न ही केन्द्रीय मंत्री जे.पी. नडडा ने मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह से त्यागपत्र न ही किसी व्यक्तिगत उद्धेश्य की पूर्ति के लिए मांगा है।

 

 

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  −  8  =  1