सरकारी खर्चे पर हुई थी राहुल गांधी की मंडी रैली: भाजपा

-कहा, एचआरटीसी को सरकार ने दिए थे 72 लाख
-जयराम सरकार की उपलब्धि प्रधानमंत्री के हिमाचल दौरे को पचा नहीं पा रहे

कांग्रेसी मण्डी रैली से पहले ही भीड़ से बौखला गए राठौर और मुकेश 

शिमला: प्रदेश भाजपा महामंत्री त्रिलोक जम्वाल ने कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर के बयान पर पलटवार किया है। राठौर का आरोप था कि प्रदेश सरकार चार साल का जश्न मनाने के लिए सरकारी पैसे का दुरुपयोग कर रही है और सरकारी विभागों के माध्यम से भीड़ जुटाने का प्रयास किया जा रहा है। राठौर के इस बयान का जवाब देते हुए भाजपा के महामंत्री ने कहा कि तत्कालीन वीरभद्र सरकार के अंतिम वर्ष के कार्यकाल में जिस तरह से सरकारी पैसे का दुरुपयोग हुआ वह किसी से छिपा नहीं हैं। उन्होंने राठौर को याद दिलाते हुए कहा कि 2017 में मंडी में हुई राहुल गांधी की रैली में कांग्रेस ने एचआरटीसी को लाखों रुपये का चूना लगाया था। भाजपा नेता ने कहा कि तत्कालीन वीरभद्र सरकार ने चुनावी रैली को सरकारी बना दिया था। भाजपा नेता ने राठौर को बताया कि उस रैली में भीड़ जुटाने के लिए एचआरटीसी की बसें बुक की गई थी, जिस पर 72 लाख का खर्चा आया था। बावजूद इसके कांग्रेस ने एचआरटीसी को एक रुपया भी नहीं दिया। बाद में पूरी राशि सरकार ने एचआरटीसी के खाते में जमा कर दी। भाजपा नेता ने कहा कि आज कुलदीप सिंह राठौर भाजपा पर दोषारोपण कर रहे हैं। उन्हें इस तरह के आरोप लगाने से पहले अपने गिरेबान में झांक लेना चाहिए।
भाजपा नेता ने कहा कि प्रदेश की जयराम सरकार और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की लोकप्रियता को देख कांग्रेस के नेता पूरी तरह से बौखला चुके हैं। हिमाचल के प्रति उनके प्यार को कांग्रेसी पचा नहीं पा रहे हैं। पूरा हिमाचल पीएम मोदी की रैली को लेकर उत्साहित हैं।  उन्होंने कहा कि इस बार पीएम नरेंद्र मोदी मंडी में 11 हजार करोड़ रुपये से अधिक की परियोजनाओं के शिलान्यास एवं उद्घाटन करेंगे। क्या उस वक्त मंडी में आयोजित हुई राहुल गांधी की रैली से हिमाचल को एक रुपया का भी फायदा हुआ?

राठौर को सताने लगी अब कुर्सी का खतरा

भाजपा नेता ने कहा कि कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर को इस वक्त अपनी कुर्सी की चिंता सताने लगी है। उन्होंने कहा कि प्रदेश सरकार के उपलब्धि भरे चार साल से पूरा हिमाचल खुश है, लेकिन कांग्रेस पचा नहीं पा रही है। भाजपा नेता ने कहा कि इस वक्त कांग्रेस अध्यक्ष को बदलने के लिए कांग्रेसी ही दिल्ली में डटे हुए हैं। यही वजह है कि राठौर उनकी कुर्सी बचाने और मीडिया में बने रहने के लिए कुछ भी बयानबाजी कर रहे हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  −  2  =  3