‘सरकार पर्यावरण पर काम कर रहे गैर सरकारी संगठनों के लिए प्रदर्शन पर आधारित नई रेटिंग निकालेगी’ : पर्यावरण मंत्री

‘सरकार पर्यावरण पर काम कर रहे गैर सरकारी संगठनों के लिए प्रदर्शन पर आधारित नई रेटिंग निकालेगी’ : पर्यावरण मंत्री

  • एनजीओ सरकार और लोगों के बीच के पुल : पर्यावरण मंत्री

 

नई दिल्ली : पर्यावरण, वन एवं जलवायु परिवर्तन के केंद्रीय मंत्री, प्रकाश जावड़ेकर, ने कहा है कि सरकार गैर सरकारी संगठनों को प्रोत्‍साहन देने के लिए, पर्यावरण के क्षेत्र में काम कर रहे गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) की प्रदर्शन पर आ‍धारित नई रेटिंग निकालेगी। केंद्रीय मंत्री ने कहा कि एनजीओ सरकार और लोगों के बीच के पुल हैं। आज यहां ‘’इंवायरमेंटल एनजीओस इन इंडिया – 2015’’ की डायरेक्‍टरी के 10वें संस्‍करण का विमोचन करते हुए, जावड़ेकर ने कहा कि एनजीओ स्‍थानीय संसाधनों का निर्माण करते हैं, और लोगों के लिए काम करते हैं। केंद्रीय मंत्री ने अगले संस्‍करण में नई सुविधाओं को जोड़ने की जरूरत को चिन्हित किया, ताकि इसे ज्‍यादा उपयोगी, व्‍यापक और उपयोगकर्ता के अनुकूल बनाया जा सके। डायरेक्‍टरी के इस 10वें संस्‍करण में, सभी राज्‍यों और केंद्रशासित प्रदेशों में पर्यावरणीय सुरक्षा, संरक्षण और जागरूकता की दिशा में काम कर रही लगभग 2300 एनजीओ की सूची शामिल है।

डायरेक्‍टरी पर्यावरणीय वन और जलवायु परिवर्तन (पर्यावरण एवं वन मंत्रालय और सीसी) मंत्रालय की ओर से पर्यावरण सूचना प्रणाली (एनविस) केंद्र, डब्ल्यूडब्ल्यूएफ-इंडिया द्वारा संकलित किया गया है। आंकड़ों (डेटाबेस) में मिनट विवरण सहित विभिन्न समुचित शीषर्कों के अंतर्गत सूचीबद्ध सभी प्रासंगिक और उपयोगी जानकारी को शामिल किया गया है, जैसे कि स्‍थायी और अंशकालिक कर्मचारियों की कुल संख्‍या, सदस्‍यों की संख्‍या और सामान्य जानकारी के अलावा भौगोलिक कवरेज जिसमें गतिविधियों के प्रारंभ और नाम, पता, स्थिति (पंजीकृत/अपंजीकृत, ट्रस्ट/सोसायटी/समूह) आदि।

मंत्रालय का मुख्‍य सरोकार देश के प्राकृतिक संसाधनों; जिसमें झीलों और नदियों, उसकी जैव विविधता, वन और वन्य जीवन, जानवरों के कल्याण को सुनिश्चित करने, और प्रदूषण की रोकथाम और ह्रास शामिल हैं; के संरक्षण से संबंधित कार्यक्रमों और नीतियों का कार्यान्‍वयन है। वहीं इन नीतियों और कार्यक्रमों का कार्यान्‍वयन मंत्रालय के मानव भलाई के सतत विकास और वृद्धि के सिद्धांत द्वारा निर्देशित है। गैर-सरकारी संगठनों (एनजीओ) सहित समुदाय आधारित संगठन, चहुंमुखी पर्यावरणीय संरक्षण और सतत विकास को प्राप्त करने में सरकार के प्रयासों के अनूपूरक के रूप में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

पर्यावरण के विविध क्षेत्रों में काम कर रहे गैर-सरकारी संगठनों से संबंधित विभिन्‍न मुद्दों के प्रबंधन के लिए मंत्रालय में एक एनजीओ सेल का गठन किया गया है। सेल के आधारभूल कार्य इस प्रकार हैं :

– विभिन्न गैर सरकारी संगठनों के लिए सूचना का संग्रह और प्रसार।

– पर्यावरण और संबंधित क्षेत्रों में काम कर रहे विभिन्न गैर सरकारी संगठनों के आंकड़े (डाटाबेस) तैयार करने में नीति आयोग और अन्य सरकारी मंत्रालयों के साथ सम्पर्क करना।

डायरेक्‍टरी से सरकारी एजेंसियों, स्वैच्छिक समूहों, पुस्तकालयों, शोधकर्ताओं, सहायता एजेंसियों, मीडिया और शैक्षिक संस्थानों के लिए बहुत उपयोगी रहेगी।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *