पर्यटन विकास निगम में पदोन्नत होंगे 140 कर्मचारी: वीरभद्र सिंह

पर्यटन विकास निगम में पदोन्नत होंगे 140 कर्मचारी: वीरभद्र सिंह

  • निगम के 113 यूटीलिटी वर्करों की सेवाएं भी की जाएंगी नियमित
  • निगम में कई वर्षों उपरान्त 253 कर्मचारियों को रोजगार एवं नई भर्तियां हुई सृजित

शिमला: मुख्यमंत्री वीरभद्र सिंह ने हि.प्र. पर्यटन विकास निगम के 140 कर्मचारियों को पदोन्नत करने और 113 यूटीलिटी वर्करों की सेवाएं नियमित करने की स्वीकृति प्रदान की। इससे निगम में कई वर्षों उपरान्त 253 कर्मचारियों को रोजगार एवं नई भर्तियां सृजित हुई हैं। मुख्यमंत्री आज यहां हि.प्र. पर्यटन विकास निगम की 142 बैठक की अध्यक्षता कर रहे थे।

निगम के इतिहास में पहली बार इतनी संख्या में यूटीलिटी वर्करों और निचले स्टॉफ को हाउसमैन और वाशरब्वायज के तौर पर पदोन्नत एवं नियमित किया गया है। इसके अतिरिक्त, 25 कर्मचारियों को सहायक प्रबन्धक के रूप में पदोन्नत किया गया है। 10 गाइडों और परिचालकों को रिसैपश्निस्ट और 5 को सहायक रिसैपश्निस्ट पदों पर पदोन्नति प्रदान की गई है। मुख्यमंत्री ने शैक्षणिक योग्यता को दरकिनार करके अनुभवी पुराने स्टाफ को भी पदोन्नत करने को कहा। बैठक में यह भी निर्णय लिया गया कि यह पदोन्नतियां निगम के कर्मचारियों द्वारा निगम को लाभ अर्जित करने और उनके प्रदर्शन को देख कर की गई हैं। निगम में प्रदर्शन आधारित लाभों के लिए मानक तय करने पर भी चर्चा की गई।

वीरभद्र सिंह को कार्ट रोड़ से पर्यटकों के लिए अतिरिक्त लिफ्ट सुविधा प्रदान करने का सुझाव प्रस्तुत किया। उन्होंनें सीटीओ से होटल ओबरॉय क्लार्कस तक मालरोड़ के सौन्दर्यकरण तथा एस्केलेटर स्थापित करने के प्रावधान तलाशने के निर्देश दिए। मुख्यमंत्री ने परवाणु स्थित शिवालिक होटल के सभी कमरों तथा शौचालयों जो निगम की बहुमूल्य सम्पत्ति है, की मुरम्मत करने और इन्हें पूरी तरह क्रियाशील बनाने के निर्देश दिए।

मुख्यमंत्री को बैठक में अवगत करवाया गया कि हि.प्र. पर्यटन विकास निगम की परिसम्पत्तियों की आफलाईन बुकिंग के लिए निगम ने मैसर्ज हनिगोल्ड रिट्रीटस प्राईवेट लिमिटेड के साथ एक समझौते पर हस्ताक्षर किए हैं। यह भी अवगत करवाया गया कि कसौली में पार्किंग सुविधा सहित 42 कमरों का होटल/पर्यटक परिसर/म्यूजियम का निर्माण किया जाएगा। अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन वी.सी. फारका ने प्रदेश में पर्यटन विकास के लिए एशियन विकास बैंक की सहायता से 382 करोड़ रुपये के त्रिपक्षीय समझौता ज्ञापन हस्ताक्षर के संबंध में भी जानकारी दी। उन्होंने कहा कि इससे राज्य में अनेक धरोहर अधोसंरचनाओं के संरक्षण, नई सुविधाएं, पार्क, कला एवं शिल्प केंद्रों और अन्य पर्यटन संबंधी गतिविधियों, जिनमें शिमला के माल रोड का सौंदर्यकरण का कार्य भी शामिल है, को गति मिलेगी।

मुख्य सचिव पी. मित्रा, अतिरिक्त मुख्य सचिव पर्यटन वी.सी. फारका, प्रधान सचिव वित्त डा. श्रीकान्त बाल्दी, प्रबन्ध निदेशक पर्यटन मोहन चौहान, हि.प्र. पर्यटन विकास निगम निदेशक मण्डल के सदस्य सर्व सुरेन्द्र सेठी, वीरेन्द्र धर्माणी, गोपाल कृष्ण महन्त, रूपेश कनवाल, विजय इन्द्र, कर्ण सिंह व अमरजीत सिंह सहित राज्य सरकार के वरिष्ठ अधिकारी भी इस अवसर पर उपस्थित थे।

सम्बंधित समाचार

One Response

Leave a Reply
  1. lalu prasad
    Jun 17, 2016 - 02:13 PM

    sardi ke mausam me vaha par log kaise rahte hoge………

    Reply

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *