शूलिनी विश्वविद्यालय में मनाया गया विश्व खाद्य दिवस

सोलन: शूलिनी विश्वविद्यालय के एमएस स्वामीनाथन कृषि विद्यालय ने विश्व खाद्य दिवस मनाने के लिए”हमारे कार्य हमारा भविष्य” विषय पर एक कार्यक्रम आयोजित किया।कार्यक्रम के दौरान डॉ पीके खोसला, कुलाधिपति, प्रो. अतुल खोसला, कुलपति, शूलिनीविश्वविद्यालय, और प्रो. मोदादुगु विजय गुप्ता, विश्व खाद्य पुरस्कार विजेता, 2005 और सनहाकशांति पुरस्कार विजेता, 2015 उपस्थित थे। प्रो. वाईएस नेगी, डीन, एमएस स्वामीनाथन स्कूल ऑफ एग्रीकल्चर, ने अपने स्वागत भाषण में विश्वखाद्य दिवस, 2021 की थीम पेश की। उन्होंने कहा कि आज हम वैश्विक भूख की समस्या के लिए एक समग्र दृष्टिकोण का सुझाव देंगे, जहां शिक्षा, स्वास्थ्य, प्रौद्योगिकी और पर्यावरण के मोर्चे पर हमारे ठोस प्रयास भूख और कुपोषण की समस्या के  स्थायी समाधान का मार्ग प्रशस्त करेंगे।
प्रो. अतुल खोसला ने खेती में अधिकतम लाभ उठाने के लिए एआई आधारित आधुनिक तकनीक का उपयोग करने की आवश्यकता पर प्रकाश डाला। उन्होंने जैव विविधता के संरक्षण के लिए स्वदेशीआनुवंशिक सामग्री के संरक्षण और कृषि अर्थशास्त्र से संबंधित मुद्दों को संबोधित करने पर भी जोर दिया।
डॉ पीके खोसला ने देश में कृषि विकास, विशेष रूप से हरित क्रांति के बारे में बात की। स्वतंत्रता केसमय की स्थिति कितनी कठिन थी, इसका उदाहरण देते हुए, उन्होंने कहा की कि देश भुखमरी की स्थिति से एक खाद्य निर्यातक देश के रूप में खाद्य मोर्चे पर एक लंबा सफर तय कर चुका है।
एमएस स्वामीनाथन स्कूल ऑफ एग्रीकल्चर के डॉ शांतनु मुखर्जी ने धन्यवाद प्रस्ताव दिया और सत्र का समापन किया।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

4  +  4  =