पैगोड़ा और शिखरनुमा शैली में बना "माँ हाटकोटी मंदिर"

अपार शांति व अद्भूत शक्ति की अनुभूति होती है “माँ हाटकोटी” के दरबार में

  • राजा विराट ने बनाया हाटकोटी मंदिर

मान्यता है कि हाटकोटी के मंदिर का निर्माण राजा विराट ने किया था। पांडवों का संबंध इस मंदिर से जोड़ा जाता है। मंदिर में माता की अष्टभुजा मूर्ति अद्वितीय है।

  • हाटकोटी मेला

हाटकोटी (रोहड़ू) में इस मेले को दुर्गा माता (महिषासुरमर्दिनी) की याद में आयोजित किया जाता है। मान्यता है कि हाटकोटी के मंदिर

'पत्थर के मंदिरों की घाटी' हाटकोटी

‘पत्थर के मंदिरों की घाटी’ हाटकोटी

का निर्माण राजा विराट ने किया था। पांडवों का संबंध इस मंदिर से जोड़ा जाता है। मंदिर में माता की अष्टभुजा मूर्ति अद्वितीय है। वस्तुतः भगवती सम्पूर्ण जगत की अधीश्वरी हैं। वे अपने भक्तों की रक्षा तथा कल्याण के लिए ही प्रकट रूप में इस मन्दिर में निवास करती हैं। हाटकोटी शिमला से 104 किमी, पब्बर नदी के तट पर एक सुरम्य गांव है। दो पहाड़ी धारायें अर्थात् बिशकुल्टी और रावती, हाटकोटी में पब्बर में मिल जाती हैं। नदी के पानी का रंग स्लेटी है, जो एक पौराणिक कथा के अनुसार, नदी में से जहर बाहर रिसने के कारण है।

  • तीन पानी की धाराओं के मिलन स्थान है हाटकोटी

हाटकोटी भी हिंदुओं के लिए एक प्रसिद्ध तीर्थ स्थल है क्योंकि यह संगम या तीन पानी की धाराओं के मिलन स्थान पर स्थित है। हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार, इस जगह का धार्मिक महत्व है। यह वह जगह है जहां हिंदू देवता, भगवान शिव और उसकी पत्नी देवी पार्वती के बीच एक वाद हुआ था।

  • ‘पत्थर के मंदिरों की घाटी’ हाटकोटी

यात्रियों को लकड़ी के दरवाजे और पत्थर की दीवारों के प्राचीन युग की कलात्मक उत्कृष्टता का प्रदर्शन करने वाले सुंदर मंदिर मिल

सकते हैं। इन मंदिरों की उपस्थिति के कारण हाटकोटी ने ‘पत्थर के मंदिरों की घाटी’ का खिताब अर्जित किया। ट्रैकिंग, पर्वतारोहण और राफ्टिंग भी हाटकोटी के दर्शकों के बीच लोकप्रिय है। इस स्‍थान पर लोगों के ठहरने के लिए भी उचित सुविधाएं है। इस स्‍थान पर विश्राम गृह का निर्माण भी किया गया है।

 

Pages: 1 2

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *