शिमला: जिला में सेब सीजन के सुचारू संचालन व बागवानों की सुविधा हेतु सभी सम्बद्ध विभाग समन्वय स्थापित कर करें कार्य

  •  इस वर्ष जिला में 1 करोड़ 98 लाख 94 हजार से अधिक पेटी सेब होने का अनुमान

  • मंत्री सुरेश भारद्वाज ने सेब सीजन की तैयारियों की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिए…

शिमला: जिला में सेब सीजन के सुचारू संचालन व बागवानों को सुविधा प्रदान करने के उद्देश्य से सभी सम्बद्ध विभाग समन्वय स्थापित कर कार्य करें। शहरी, विकास, आवास, नगर नियोजन, संसदीय कार्य, विधि एवं सहकारिता मंत्री सुरेश भारद्वाज ने सेब सीजन की तैयारियों की समीक्षा बैठक में यह निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि इस वर्ष जिला में 1 करोड़ 98 लाख 94 हजार से अधिक पेटी सेब होने का अनुमान है, जिसे मण्डियों तक पहुंचाने के लिए पर्याप्त वाहन सुविधा की उपलब्धता सुनिश्चित की जाए। उन्होंने कहा कि इस संबंध में अधिकारी अपने क्षेत्र के बागवानों, ट्रक तथा पिकअप ऑपरेटर यूनियन से समन्वय स्थापित कर भाड़ा निर्धारित करना सुनिश्चित करें। अधिकारी यह भी सुनिश्चित करें कि कोई निर्धारित मूल्यों से अधिक भाड़ा न वसूले तथा किसानों और बागवानों को किसी प्रकार की असुविधा का सामना न करना पड़े।
उन्होंने कहा कि सुनिश्चित की गई मात्रा दर को अखबार के माध्यम से विज्ञापित करना सुनिश्चित करें साथ ही पंचायत प्रतिनिधियों के माध्यम से व्यापक जानकारी बागवानों को प्रदान करें। इसके अतिरिक्त भाड़ा दरों को नियंत्रण कक्ष, नोटिस बोर्ड तथा मुख्य स्थानों पर प्रदर्शित करें। जिला शिमला में 15 जुलाई, 2021 से खुलने वाले नियंत्रण कक्ष को समयावधि में खोलना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि नियंत्रण कक्ष में ई-टाॅलयट एवं आने-जाने वाले ट्रकों तथा पिकअप  तथा अन्य कर्मचारी जो इस कार्य में अपनी सेवाएं दे रहे हैं उनकी सुविधा के लिए सैनेटाइजर तथा हाथ धोने के लिए साबुन की व्यवस्था सुनिश्चित करें।
उन्होंने कहा कि सेब सीजन के दौरान सड़कों का विशेष रूप से विभाग ध्यान रखे, जिससे कि लोगों को अपनी फसल को समय से मण्डियों में पहुंचाया जा सके। उन्होंने टिक्कर से खमाड़ी सड़क की स्थिति को सही करने के विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए। इस क्षेत्र में जिला शिमला का अधिकतर सेब मण्डियों में जाता है इसलिए बागवानों तथा किसानों को किसी भी तरह की समस्या का सामना न करना पड़े, इसके लिए समयावधि में विभाग के अधिकारियों को सड़क को सुधारने के दिशा-निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि जिला शिमला के सम्पर्क मार्ग तथा पंचायत स्तर तक जाने वाले सभी सड़कों को भी विभाग के अधिकारी को सुधारने के निर्देश दिए। उन्होंने निहारी में बनने वाले पुल को 01 अगस्त, 2021 से पहले पूर्ण करने तथा छैला एवं बागड़ा में बन रहे पुलों का निर्माण कार्य भी तेजी से करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि शिमला से चिढ़गांव, शिमला से चौपाल, शिमला से रामपुर-गौरा मशनु एवं रामपुर क्षेत्र की अन्य सड़कों तथा छैला से पराला मण्डी तक सड़क के रख-रखाव के भी निर्देश दिए।
उन्होंने कहा कि शिमला शहर में रहने वाले लोगों को सेब सीजन के दौरान जाम की स्थिति से न जूझना पड़े, इसके लिए भी पुलिस विभाग तथा लोक निर्माण विभाग को निर्देश दिए कि ट्रकों एवं पिकअपों को समयावधि से ही शहर में भेजे, जिससे लोगों को जाम की स्थिति से निजात मिलेगी। शिमला-मैहली सड़क को इस दौरान सुचारू बनाए रखने और इसकी मुरम्मत कार्य करने के निर्देश दिए। उन्होंने कहा कि जिला शिमला की सभी मण्डियों में पीने के पानी की सुविधा, सुलभ शौचालय की सुविधा तथा सीसीटीवी कैमरे को भी इन मण्डियों में स्थापित किया जाए, जिससे बागवानों, बाहर से आने वालो लदानियों और स्थानीय आढ़तियों  की निगरानी के माध्यम से सुरक्षा की जाए।
उन्होंने कहा कि स्थानीय गाड़ियों एवं बाहर से आने वाली गाड़ियों के आंकड़े दर्ज करने और शुल्क वसूली साॅफ्टवेयर प्रणाली द्वारा किए जाने का प्रयास करें ताकि इससे पारदर्शिता बनी रहे और लोगों को सुविधा मिल सके।
उन्होंने कहा कि सरकार द्वारा बागवानों की सुविधा के लिए इस वर्ष लगभग 2 करोड़ करेटों की उपलब्धता दी जाएगी। उन्होंने कहा कि प्रौयोगिक तौर पर इसकी सफलता के उपरांत आने वाले समय में बागवानों को इस सुविधा से मण्डियों तक सेब भेजने में सुगमता होगी।
उन्होंने सड़कों के किनारे बैठने वाले आढ़तियों से लगने वाले जाम के प्रति कढ़ा संज्ञान लेते हुए इस संबंध में सम्बद्ध विभाग को आढ़तियों के प्रति कड़ी कार्यवाही करने के निर्देश दिए ताकि किसी भी रूप में यातायात बाधित न हो।
उन्होंने एचपीएमसी तथा मार्किटिंग बोर्ड एवं हिमफैड के अधिकारियों को निर्देश दिए कि लोगों की सुविधा हेतु कार्टन के बक्से की दरों को रियायती दर पर उपलब्ध करवाने का प्रयास किया जाए।
उन्होंने कहा कि कोविड-19 नियमों के तहत सेब सीजन के दौरान मानक संचालन की अनुपालना सुनिश्चित करने के लिए उपमण्डलाधिकारी इस संबंध में अपने-अपने क्षेत्र में बैठक करें और बाहर से आने वाली लेबर की जांच, टीकाकरण व अन्य सलाहों की अनुपालना सुनिश्चित करें। उन्होंने कहा कि इस दौरान सैनेटाइजेशन और स्वच्छता के प्रति विभिन्न मण्डियों में एपीएमसी के अतिरिक्त स्थानीय प्रशासन भी गंभीरता से कार्य करें। उन्होंने कहा कि बाहर से आने वालो श्रमिकों के संबंध में उपमण्डलाधिकारी को सूचित किया जाना आवश्यक है ताकि श्रमिकों की निगरानी, टीकाकरण व अन्य जांच सुनिश्चित की जा सके।
इस अवसर पर उपायुक्त शिमला आदित्य नेगी ने बैठक के दौरान जारी किए गए दिशा-निर्देशों की अनुपालना सुनिश्चित करने के प्रति विश्वास जताया। उन्होंने कहा कि सेब सीजन को सुचारू बनाए रखने के लिए प्रत्येक विभाग सक्रिय रूप से कार्य करेगा।
बैठक में एपीएमसी शिमला-किन्नौर अध्यक्ष नरेश शर्मा ने इस अवसर पर अपने बहुमूल्य विचार व्यक्त किए। उन्होंने कहा कि सड़कों पर बैठने वाले लाईसेंस धारक आढ़तियों के लिए निजी व उप-मार्किंट याड़ के तहत जगह निर्धारित की जानी आवश्यक है तथा सड़क से दूरी को भी निर्धारित किया जाना आवश्यक है तभी जाम की समस्या से बचा जा सकता है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *

  +  55  =  56