शिमला नगर निगम ने पेश किया 222.41 करोड़ रुपए का बजट....बिजली व शराब पर बढ़ाया सेस

शिमला नगर निगम ने पेश किया 222.41 करोड़ रुपए का बजट….

शिमला : कोरोना वायरस के चलते शिमला नगर निगम का बजट पहली बार ऑनलाइन अपना वार्षिक बजट 2021-22 पेश किया गया है मेयर सत्या कौंडल ने अपने कार्यकाल का दूसरा बजट पेश किया है। यह 222.41 करोड़ रुपए का बजट है और पिछले वर्ष की तुलना में करीब तीन करोड़ रुपए कम रहे। मेयर सत्या कौंडल ने बजट पेश करते हुए ऐलान किया कि शिमला नगर निगम के दायरे में शराब पर 2 रुपये से सेस बढ़ाकर 5 रुपये प्रति बोतल कर दिया गया है। वहीं, बिजली की प्रति यूनिट पर निगम ने सेस 10 पैसे से बढ़ाकर 20 पैसे कर दिया है। इससे निगम को 1.75 लाख की अतिरिक्त आय होगी। वहीं शिमला में एंट्री पर ग्रीन टैक्स की योजना को भी फिर से बजट में शामिल किया गया है। उन्होंने कहा कि रिज पर स्थित स्टेट पुस्तकालय को एल्डर क्लब बनाया जाएगा।  इसके अलावा स्मार्ट सिटी और अम्रुत कार्यों को धरातल पर लाने के लिए कार्य किया जाएगा। एक छत के नीचे सभी सुविधाएं मिलेंगी और स्मार्ट सिटी के तहत नगर निगम का भवन बनेगा। एक छत के नीचे सभी सुविधाएं मिलेंगी और स्मार्ट सिटी के तहत नगर निगम का भवन बनेगा।  

विपक्षी पार्षदों ने भाजपा शासित नगर निगम के बजट का विरोध किया है।

सीपीएम पार्षद शैली चौहान ने इस बजट को मिला जुला बताया है। उन्होंने कहा कि बिजली पर सेस बढ़ाना आम जनता पर महंगाई के दौर में अतिरिक्त बोझ है लेकिन कुछ योजनाओं में जनता को राहत भी दी गई है।

 प्रदेश कांग्रेस प्रवक्ता किरण धान्टा ने आज नगर निगम द्वारा प्रस्तुत बजट को दिशाहीन बताते हुए इसमें बिजली बिलों के ऊपर निगम सेस बढ़ोतरी के प्रस्ताव की आलोचना की है। उन्होंने कहा है कि इससे शहरवासियों पर अतिरिक्त आर्थिक बोझ बढ़ेगा।

एक बयान में धान्टा ने कहा कि नगर निगम शिमला लोगों को बहेतर सुविधाएं देने में पूरी तरह विफल रहा है। उन्होंने कहा है कि नगर निगम ने पहले ही लोगों पर टैक्सों की भरमार थोप रखी है।

धान्टा ने नगर निगम के प्रस्तावित बजट को जनविरोधी करार देते हुए कहा है कि अभी तक पिछली योजनाएं पूरी नही हुई है,नई किसी भी योजना का बजट में कोई उल्लेख नही है इसलिए यह बजट पूरी तरह नकारा है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *