मुख्य सचिव ने किया नौणी विवि का दौरा

मुख्य सचिव ने किया नौणी विवि का दौरा

  • राज्य में बागवानी और वानिकी के विकास के लिए वैज्ञानिकों के प्रयासों की सराहना

हिमाचल: प्रदेश के मुख्य सचिव अनिल खाची ने राज्य में बागवानी और वानिकी के विकास के लिए वैज्ञानिकों के प्रयासों की सराहना की। वह गुरुवार को डॉ॰ वाई एस परमार औद्यानिकी और वानिकी विश्वविद्यालय, नौणी के एक दिवसीय दौरे पर थे।

कुलपति डॉ परविंदर कौशल ने मुख्य सचिव को शिक्षा, अनुसंधान और विस्तार शिक्षा में विश्वविद्यालय द्वारा किए गए कार्यों से अवगत करवाया। उन्होंने विश्वविद्यालय कामकाज पर कोविड़ 19 महामारी के प्रभावों को कम करने के लिए उठाए गए विभिन्न कदमों के बारे में मुख्य सचिव को अवगत करवाया।

अपनी प्रस्तुति में डॉ. कौशल ने शिक्षा और अनुसंधान के लिए विश्वविद्यालय को अनुदान प्रदान करने की आवश्यकता पर बल दिया और राज्य सरकार से विशेष रूप से सेब और गुठलीदार फलों की रोपण सामग्री को बड़े पैमाने पर तैयार करने की विश्वविद्यालय की योजन के लिए आवश्यक मदद मांगी ताकि विदेश से आयात होने वाली रोपण सामग्री पर निर्भरता कम की जा सके और बागवानों को पौधों की आपूर्ति की जा सके। इस मौके पर डॉ. कौशल ने विश्वविद्यालय द्वारा किसानों के लिए नवीनतम कृषि-बागवानी जानकारी से युक्त किसान नोटबुक और अन्य प्रकाशन उन्हें भेंट किए।

इस अवसर पर मुख्य सचिव ने मानव संसाधन विकास के मोर्चे पर और बागवानी, वानिकी और संबन्धित क्षेत्रों में ज्ञान के सृजन के लिए विश्वविद्यालय द्वारा किए जा रहे कार्यों और राष्ट्रीय रैंकिंग में उच्च स्थान हासिल करने के लिए विश्वविद्यालय की सराहना की। उन्होंने वैज्ञानिकों से उन क्षेत्रों पर ध्यान केंद्रित करने का आग्रह किया जिससे देश में अन्य संस्थानों से विश्वविद्यालय अपनी अलग पहचान बना सके। उनका विचार था कि विश्वविद्यालय को बागवानी और वानिकी में विश्वविद्यालय द्वारा विकसित की गई तकनीकों और प्रक्रियाओं के लिए पेटेंट दाखिल करने का प्रयास करना चाहिए।

मुख्य सचिव ने वनस्पति विज्ञान, हाई-टेक फ्लोरीकल्चर, कीवी ब्लॉक, सेब की सघन खेती सहित विश्वविद्यालय के कई फार्म का दौरा किया। उन्होंने विदेश से आयात रोपण सामग्री के लिए पोस्ट एंट्री क्वारेंटाइन साइटों का भी निरीक्षण किया और रूटस्टॉक में अच्छी उत्तरजीविता दर सुनिश्चित करने के लिए किए गए प्रयास के लिए विश्वविद्यालय की सराहना की। उन्होंने कृषि-वानिकी के क्षेत्र में हो रहे प्रयोगों को भी देखा, और मॉडल फार्म का भी दौरा किया जहां विश्वविद्यालय द्वारा तैयार की गई रोपण सामग्री किसानों को वितरित की जा रही है।

इससे पहले, मुख्य सचिव ने कंडाघाट स्थित विश्वविद्यालय के कृषि विज्ञान केंद्र और क्षेत्रीय अनुसंधान केंद्र का दौरा किया, जहां उन्हें स्टेशन पर की जा रही विभिन्न गतिविधियों से अवगत करवाया गया। इस दौरान विश्वविद्यालय के कुलसचिव, वैधानिक अधिकारी, और विभिन्न विभागों के विभाग अध्यक्ष और वैज्ञानिक उपस्थित रहे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *