हिमाचल पंचायत चुनाव: 21 साल की उम्र में ब्रासली की सोनिका तो लोअरकोटि पंचायत की 22 साल की अवंतिका बनी प्रधान

हिमाचल पंचायत चुनाव : 21 साल की उम्र में ब्रासली की सोनिका तो लोअरकोटि पंचायत की 22 साल की अवंतिका बनी प्रधान

रोहड़ू : हिमाचल प्रदेश में पंचायती राज चुनाव के पहले और दूसरे चरण में मतदाताओं ने युवाओं पर काफी भरोसा जताया है। इस बार सूबे के कई जिलों में युवाओं को सियासी कमान सौंपी गई है।शिमला जिले के विकास खंड रोहड़ू की ब्रासली पंचायत में 21 वर्षीय सोनिका लता प्रधान बन गई हैं। स्कूली शिक्षा के दौरान राजनीतिक शास्त्र की पढ़ाई में रुचि लेते हुए युवा समाजसेवी ने पंचायत प्रतिनिधि बनकर ईमानदारी और पारदर्शिता के साथ काम कर लोगों की सेवा करने का सपना संजोया है। ब्रासली पंचायत के बलसा गांव के साधारण परिवार से ताल्लुक रखने वाली सोनिका लता ने परिवार की जरूरतों व उम्मीदों को करीब से महसूस किया है। वह लोगों की हर जरूरत से वाकिफ हैं।

वहीं इसी कड़ी में शिमला ज़िला के रोहड़ू के लोअरकोटि पंचायत के सिद्धरोटी की 22 साल की अवंतिका चौहान प्रधान चुनी गई हैं। सिद्धरोटी गाँव के दया नंद चौहान की 22 वर्षीय होनहार बेटी अवंतिका चौहान जोकि दिल्ली यूनिवर्सिटी से स्नातक की शिक्षा प्राप्त कर एवं IGNOU से ग्रामीण विकास में स्नातकोत्तर की पढ़ाई कर यूपीएससी की तैयारी कर रही थी। बेटी अवंतिका को गाँव के लोगों की समस्याएँ देख दिल में गाँव की सूरत बदलने की इच्छा जागी। अवंतिका ने 22 साल की उम्र में पंचायत चुनाव लड़कर समाज सेवा की राह चुन ली जिसमें उसे परिवार सहित पूरे गाँव एवं पूरी पंचायत ने भारी जन समर्थन देकर अपनी पलकों पर बिठा लिया।

अब देखना यह है कि 22 साल की अवंतिका और 21 वर्ष की सोनिका जनता को साथ लेकर अपने अनुभव एवं युवा जोश से अपनी-अपनी पंचायत को विकास के किस नए मुक़ाम पर लेकर जाती हैं।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *