अच्छा होता...अगर भाजपा बढ़ती महंगाई व बेरोजगारी की महामारी से लड़ने और लोगों को इससे बचाने बारे कोई मंथन करती : राठौर

प्रदेश सरकार प्रदेश के किसानों, बागवानों की आवाज दबाने का न करें प्रयास : राठौर

  • राठौर ने मॉलरोड पर मीडिया कर्मियों के साथ पुलिस की बदसलूकी पर भी जताया कड़ा एतराज

शिमला: कांग्रेस अध्यक्ष कुलदीप सिंह राठौर ने प्रदेश सरकार पर आरोप लगाया है कि वह स्वतंत्र भारत मे स्वतंत्र नागरिकों के अधिकारों का हनन कर रही है। उन्होंने कहा कि देश के किसानों को जिस ढंग से अपमानित करने की कोशिश की जा रही है कांग्रेस उसकी कड़े शब्दों में निंदा करती है।

राठौर ने आज शिमला के मालरोड पर सिंधु बॉर्डर से आये तीन किसानों के साथ पुलिस की ज्यादती की कड़ी निंदा करते हुए कहा है कि देश का संविधान देश के नागरिक को कहीं भी आने जाने की स्वतंत्रता देता है। कानून की आड़ में पुलिस को ऐसा कोई अधिकार नहीं है जिससे वह किसी भी नागरिक को यहां आने या घूमने से रोके।

आज शिमला के मालरोड पर देश के तीन किसानों के साथ घटी इस घटना का जैसे ही कांग्रेस अध्यक्ष को जानकारी मिली वह तुरंत इसकी जानकारी लेने के लिए पहले मालरोड पहुंचे व उसके बाद सदर थाना जाकर उन्होंने पीड़ित किसानों से बातचीत की। इस दौरान उनके साथ शिमला जिला शहरी कांग्रेस अध्यक्ष जितेंद्र चौधरी,कांग्रेस लीगल विभाग के शिमला जिला अध्यक्ष चंद्र मोहन ठाकुर,कांग्रेस सचिव वेद प्रकाश ठाकुर,सोशल मीडिया के समन्वयक राजेंद्र वर्मा व व नितिन राणा भी साथ थे।

राठौर ने इस दौरान मालरोड पर मीडिया कर्मियों के साथ पुलिस की बदसलूकी पर भी कड़ा एतराज जताते हुए इस पूरे मामलें की जांच व दोषी पुलिस कर्मियों के खिलाफ कड़ी कार्यवाही की मांग की। उन्होंने मीडिया के साथ बदसलूकी को लोकतंत्र में प्रेस के अधिकारों का हनन भी बताया।

राठौर ने पुलिस अधिकारियों से इस बाबत किसानों की गिरफ्तारी और उनके साथ जोर जबरदस्ती कर उन्हें थाने लाने बारे जानकारी मांगी। हालांकि पुलिस ने उन्हें बताया कि उन्हें गिरफ्तार नहीं किया गया है केवल शांति भंग होने के अंदेशे के चलते उन्हें रखा गया है।

राठौर ने पुलिस प्रशासन से इन किसानों को तुरंत रिहा करने को कहा है। उन्होंने कहा कि देश के किसानों के साथ कांग्रेस किसी भी प्रकार का अन्याय सहन नहीं करेगी। उन्होंने प्रदेश सरकार की आलोचना करते हुए कहा है कि वह प्रदेश में किसानों, बागवानों की आवाज को दबाने का प्रयास न करें। उन्होंने कहा कि कांग्रेस किसानों के साथ खड़ी है और तीनों कानून रद्द करने की मांग करती है।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *