परिवहन निगम में चालकों की भर्ती के लिए एक और मौका

हिमाचल: प्रदेश में नाइट कर्फ्यू में भी चलेंगी HRTC की बसें

हिमाचल: प्रदेश में कोरोना  के बढ़ते मामलों को देखते हुए प्रदेश के सभी जिलों में हर रविवार को बाजार बंद रहेंगे। लेकिन आवश्यक वस्तुओं की दुकानें ही खुली रहेंगी। प्रदेश में 50 फीसदी सवारियों के साथ बसें चलाने, चार जिलों में नाइट कर्फ्यू और बिना मास्क 1000 रुपये जुर्माने की अधिसूचना जारी कर दी गई है।

कर्फ्यू के बीच एचआरटीसी की नाइट बस सर्विस पहले की तरह चलती रहेगी और रात्रि में सफर करने वाले यात्रियों को कोई परेशानी नहीं होगी, ऐसे में बसों की समयसारिणी में भी कोई बदलाव नहीं किया है। जिस समय पर रात्रि रूट चलते हैं, उन रूटों पर बसें चलती रहेंगी लेकिन सरकार ने नाइट बस सॢवस जारी रखने में यह फैसला लिया है कर्फ्यू वाले जिलों में यात्री का टिकट बतौर पास चलेगा। शिमला, मंडी, कुल्लू और कांगड़ा जिले में रात को सवारियां उतारी तो जाएंगी, लेकिन बस में चढ़ाई नहीं जाएंगी।

हिमाचल में अब फिर से शादियों, सामाजिक और धार्मिक कार्यक्रमों समेत भीड़भाड़ वाले बड़े आयोजनों के लिए तहसीलदार, एसडीएम या इनसे ऊपर के अधिकारियों से अनुमति लेनी होगी.

हिमाचल में आधे कर्मचारियों का वर्क फ्रॉम होम होगा। हर कार्यालय में कर्मचारियों के दो समूह बनाए जाएंगे। कार्मिक विभाग की ओर से जारी अधिसूचना के अनुसार हाजिरी का रोस्टर ऐसा बनाया जाएगा कि कर्मचारी हफ्ते में तीन-तीन दिन बारी-बारी से कार्यालय आएंगे।

बाकी कर्मचारी तीन दिन घरों और कार्यालयों से जितना व्यावहारिक होगा उतना वर्क फ्रॉम होम करेंगे। ऐसे कर्मचारी जो कार्यालयों में नहीं हैं, वे स्टेशन छोड़कर नहीं जाएंगे। आपात कार्य के लिए उन्हें कभी भी बुलाया जा सकता है। 15 दिसंबर तक दिव्यांग कर्मचारियों के लिए सरकारी कार्यालयों में आना जरूरी नहीं है।

 अधिसूचना के मुताबिक, कोविड-19 की स्थिति को देखते हुए विद्यार्थियों के लिए सभी सरकारी स्कूल-कॉलेज और अन्य शिक्षण संस्थान 31 दिसंबर तक बंद रहेंगे।

सम्बंधित समाचार

अपने सुझाव दें

Your email address will not be published. Required fields are marked *